Dainik Navajyoti Logo
Saturday 28th of March 2020
 
स्वास्थ्य

जिम में ट्रेनर की न करें अनदेखी

Wednesday, February 26, 2020 14:30 PM
ट्रेनर की देखरेख में एक्सरसाइज करे।

हर व्यक्ति,खासकर युवा पीढ़ी जिम में जाकर एक्सरसाइज के माध्यम से अपने शरीर को मजबूत बनाना चाहता है। जिम ट्रेनर दीक्षांत शर्मा ने बताया कि युवा अभिनेताओं की तरह दिखना और उनकी तरह बॉडी बनाना तो चाहते हैं, लेकिन वह कुछ गलतियां कर बैठते है, जिसकी वजह से उनको बाद में खासी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। गर्मियों के मुकाबले सर्दियों में जिम अधिक लाभदायक रहता है, क्योंकि सर्दियों में व्यक्ति को पसीना कम आता है, जिससे उसका फैट बढ़ता है। इसलिए सर्दियों में एक्सरसाइज करना अधिक फायदेमंद है, जिससे फैट भी नहीं बढ़ता है और डाइट भी अच्छी और अधिक ली जाती है। पुरुषों के साथ महिलाओं को भी एक्सरसाइज करनी चाहिए, ताकि वह भी स्वस्थ रह सकें। आमतौर पर घरेलू काम में लगे रहने के कारण वह एक्सरसाइज नहीं कर पाती हैं, जिससे उनका मोटापा बढ़ जाता है। इसलिए उन्हें भी नियमित एक्सरसाइज करनी चाहिए। जिम में व्यायाम करना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है, लेकिन उसके लिए एक अच्छे ट्रेनर की भी आवश्यता है। बिना ट्रेनर के जिम में जो गलती होती हैं, उनमें सबसे अधिक है बैक पैने जैसी समस्या। आखिर क्या करें जिससे जिम में आप अनजाने में होने वाली गलतियों से बचे रहें। 

अच्छे ट्रेनर की देखरेख में करें एक्सरसाइज
कोई भी व्यक्ति अच्छे ट्रेनर की देखरेख में एक्सरसाइज करे, जिससे वह सही एक्सरसाइज कर सके और उससे किसी तरह की परेशानी भी ना हो। जिम में पहले दिन कम एक्सरसाइज करें और उसे धीरे-धीरे बढ़ाएं,नहीं तो आप दूसरे दिन अपने थक जाएंगे और एक्सरसाइज नहीं कर पाएंगे।

इन बातों का रखें ध्यान
- खाली पेट वर्कआउट ना करें,जिम जाने से पहले कुछ खा लें। ऐसा कुछ खाकर जाएं,जो आसानी से पच जाए। खाली पेट जिम करने से चक्कर जैसी समस्याएं हो सकती हैं।
- जिम करने से पहले थोड़ी स्ट्रेचिंग करें। इसके बाद ट्रेनर के बताए अनुसार स्टेप बाई स्टेप प्रोसेस करें।
- शुरूआत में वजन उठाने वाली एक्सरसाइज ना करें। इससे मांसपेशियों को चोट पहुंच सकती है। हल्की एक्सरसाइज करें। ट्रेडमिल पर चलें या साइकिलिंग करें और अधिक मेहनत ना करें।
- सप्ताह बाद वजन की एक्सरसाइज करें। शुरूआत में अधिक वजन न उठाएं। अपने शरीर की क्षमता के अनुसार वजन उठाएं। वजन कम उठाएं और सही अवस्था में एक्सरसाइज करें।
- जिम करते समय पानी का सेवन अधिक करें और धीरे-धीरे पानी पिएं। एक बार में पानी न पिएं। पानी पीने से कमजोरी महसूस नहीं होती है।

सही डाइट लें
एक्सरसाइज करने के बाद सबसे महत्वपूर्ण चीज होती है डाइट को लेना। किसी को देखकर डाइट ना लें,बल्कि अपने ट्रेनर के बताएं अनुसार चीजों को अपनी डाइट में शामिल करें। प्रोटीन का सेवन करने से बचें। प्रोटीन के बजाएं प्रोटीन युक्त पदार्थों को अपनी डाइट में शामिल करें।

 

यह भी पढ़ें:

घुटने के टिश्यू निकालकर की कंधे की दुर्लभ सर्जरी

शहर के मानसरोवर स्थित इंडस हॉस्पिटल में झुंझुनूं निवासी 45 वर्षीय अमरचंद के घुटने के टिश्यू निकालकर कंधे की सफल सर्जरी की गई।

20/04/2019

गतिहीन शुक्राणु लेकिन लेजर आईवीएफ पद्धति से पितृत्व सुख

उदयपुर। जयपुर के अविनाश कुमार के रूप में (बदला नाम) के शुक्राणु गतिहीन होने का एक अनूठा मामला सामने आया है।

23/09/2019

एसएमएस अस्पताल में दूसरा हार्ट ट्रांसप्लांट

सवाईमानसिंह (एसएमएस) अस्पताल के चिकित्सकों ने एक महीने के भीतर दो हार्ट ट्रांसप्लांट कर इतिहास रच दिया है।

13/02/2020

ये 'मेडिकल ATM' चंद मिनटों में करेगा 58 तरह की मेडिकल जांच

देश में जल्दी ही बिना कठिनाई और अत्यधिक तेज मेडिकल जांच हर किसी के लिए संभव हो सकेगी। ऐसा एटीएम जैसे एक कियोस्क के कारण होगा। जो लोगों के लिए 58 तरह के अधिक बुनियादी और उन्नत पैथोलॉजी परीक्षणों की सुविधा देगा और अपनी रिपोर्ट भी तत्काल दे देगा।

04/10/2019

WHO ने कोरोना वायरस को दिया COVID-19 नाम, कहा- 18 महीने में तैयार होगी वैक्सीन

दुनिया के अलग-अलग हिस्‍सों में वैज्ञानिक कोरोना वायरस से निपटने की मुहिम में लगे हैं। इस बीच जिनेवा में कोरोना पर दो दिवसीय वैश्विक अध्ययन और नवाचार सम्मेलन में विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम गेब्रेयसेस ने कोरोना को COVID-19 का नाम दिया।

12/02/2020

मरने के बाद तीन लोगों को नई जिंदगी दे गया हरीश, लीवर और किडनी की डोनेट

28 साल का हरीश मरने के बाद भी तीन लोगों को नई जिन्दगी दे गया। रोड एक्सीडेंट के बाद ब्रेन डेड हुए जयपुर के हरीश के परिजनों ने ब्रेन डैड के लिए बनी कमेटी और अस्पताल के चिकित्सकों की समझाइश के बाद उसकी दोनों किडनी और लिवर दान करने की रजामंदी दी।

20/12/2019

खिलाड़ी की मांसपेशियों के दबाव पर अब मशीन रखेगी नजर

स्पोर्ट्स मेडिसिन में अब ऐसी तकनीक आ गई है, जिसमें वेट लिफ्टर या दूसरे एथलीट्स अपनी मांसपेशियों पर एक जैसा दबाव बनाए रखेंगे और उनकी क्षमता बढ़ा सकेंगे।

08/02/2020