Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of March 2021
 
स्वास्थ्य

हार्ट फेलियर इलाज के लिए नई दवा मंजूर, हृदय रोगियों को मिलेगी राहत

Saturday, August 29, 2020 09:35 AM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। हाल ही में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने हार्ट फेलियर विद रिड्यूज्ड इजेक्शन फ्रैक्शन (एचएफआरईएफ) से पीड़ित वयस्क मरीजों के इलाज के लिए डैपाग्लिफ्लोजिन नाम की दवा को मंजूरी दी है। इससे दिल की बीमारी और हार्ट फेलियर से होने वाली मरीजों की मौत का जोखिम कम होगा। इससे पहले मई के महीने में यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने इस दवा को मंजूरी दी थी। दुनियाभर में हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर को दिल के रोगों और मरीजों की समय से पहले होने वाली मौत का खतरा होने के प्रमुख कारणों में से एक माना गया है। भारत में भी हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों की तादाद में बढ़ोतरी हो रही है।

जयपुर के इटरनल हॉस्पिटल के डीएम कार्डियोलॉजी और इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी के डायरेक्टर डॉ. संजीव के शर्मा के अनुसार डायबिटीज और कोलेस्ट्रोल के साथ हाई ब्लड प्रेशर भारत में कोरोनेरी हार्ट डिजीज के प्रमुख कारणों में से है, जिससे हार्ट फेल होता है। भारत में अन्य देशों के मुकाबले हार्ट फेलियर के काफी ज्यादा मरीज हैं। इसका प्रमुख कारण है कि भारतीयों में डायबिटीज और हाइपरटेंशन और कोलेस्ट्रोल ज्यादा पाया जाता है। इसके साथ ही उनमें धूम्रपान और बहुत ज्यादा मात्रा में शराब पीने की आदत होती है।

कारगर है नई दवा
डॉ. शर्मा ने बताया कि डैपाग्लिफ्लोजिन नाम की ओरल टैबलेट को मंजूरी मिली है। इस दवा का उद्देश्य दिल की बीमारियों से होने वाली मरीजों की मौत और उन्हें अस्पताल में भर्ती करने का जोखिम कम करना है। डॉक्टर इस दवा को मंजूरी मिलने के बाद यह उम्मीद कर रहे हैं कि हार्ट फेलियर विद रिड्यूज्ड इजेक्शन फ्रेक्शन से पीड़ित मरीजों को ट्रीटमेंट का एक और अतिरिक्त विकल्प मिलेगा, जिससे रोगियों के जीवित रहने की दर में सुधार आएगा।
 

यह भी पढ़ें:

Video: गुर्दे का कैंसर पहुंचा हार्ट तक, 8 घंटे की सफल सर्जरी के बाद स्थापित किया कीर्तिमान

यह ट्यूमर किडनी की खून की नली के रास्ते होता हुआ ह्रद्य के निचले चैम्बर तक अपनी जडे जमा चुका था एवं विष्व में इस तरह का यह तीसरा सफल ऑपरेशन है।

06/01/2020

हीमोफीलिया के इलाज में मददगार है ये थैरेपी

हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने में जल्दी जांच, उपचार तक पहुंच और फिजियोथेरेपी का अहम योगदान है।

17/04/2019

वर्ल्ड हार्ट डे आज, कोरोना वायरस ने बढ़ाई हार्ट के मरीजों की परेशानी

कोरोना काल के दौरान सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना हृदय रोगियों को करना पड़ा है। कोरोना के कारण अस्पताल में जाने का डर और इलाज में देरी के कारण ज्यादतर हृदय रोगियों की इस दौरान मौत हो गई, जो कि मरने से पहले या मरने के बाद आई जांच में कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

29/09/2020

दृढ़ इच्छा शक्ति और उचित इलाज से कैंसर को हराना होना चाहिए हमारा लक्ष्य: गहलोत

विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि हमारा लक्ष्य उचित उपचार एवं इच्छा शक्ति के माध्यम से कैंसर को हराने का होना चाहिए। सकारात्मक सोच, प्रतिरोध क्षमता और काबू पाने का दृढ़ संकल्प कैंसर के खिलाफ लड़ाई लड़ने में एक लंबा रास्ता तय करेगा।

04/02/2020

14 माह की बच्ची के लीवर कैंसर की सफल सर्जरी

सवाई मानसिंह अस्पताल के गेस्ट्रोसर्जरी एवं एनेस्थिसिया विभाग के चिकित्सकों ने महज 14 माह की बच्ची के लीवर कैंसर का आॅपरेशन करने में सफलता प्राप्त की है।

10/04/2019

विषम परिस्थितियों में नई तकनीक व प्रोटोकॉल डिजाइन कर नवजात की सफल हार्ट सर्जरी

फोर्टिस हॉस्पिटल के शिशु हृदय रोग सर्जरी विषेशज्ञ डॉ. सुनिल कौशल ने 15 दिन के बच्चे की दुर्लभ सफल आर्टियल स्वीच सर्जरी की। इस सर्जरी के दौरान डॉ. कौशल ने चिकित्सा जगत में नए आयाम स्थापित किए। डॉ. सुनील ने बताया की बच्चे को हृदय की दुर्लभ जन्मजात बीमारी थी, जिसे ट्रांसपोजीशन ऑफग्रेट आर्टरी कहा जाता है और उसका एक मात्र ईलाज आर्टियल स्वीच नामक हार्ट का ऑपरेशन ही है।

02/05/2020

हार्ट फेल और खराब फेफड़े होने पर एक्मो तकनीक से बच सकती है जान, वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने दी ट्रेनिंग

कई बार मरीजों को गंभीर कार्डियक फेलियर, फेफड़े खराब होने के कारण सांस की तकलीफ के कारण अस्पताल में इमरजेंसी में लाया जाता है। मरीज का हृदय या फेफड़े सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम नहीं रहते और रोगी सांस लेने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों की जान उन्नत एक्मो तकनीक से बचाई जा सकती है।

20/01/2020