Dainik Navajyoti Logo
Thursday 9th of December 2021
 
स्वास्थ्य

मंगल के दिन कोरोना ‘जीरो’

Wednesday, October 20, 2021 14:05 PM
कॉन्सेप्ट फोटो

जयपुर। देशभर में कोरोना फिलहाल नियंत्रण में है। हर्ड इम्यूनिटी के साथ टीकाकरण ने कोरोना के खात्मे में अहम रोल माना जा रहा है। भारत में कोरोना टीकाकरण भी विश्व रिकॉर्ड की ओर है, बुधवार को देश में कोरोना टीके लेने वाले लोगों की संख्या 100 करोड़ के करीब हो जाएंगी। मंगलवार की शाम तक भारत में 18 से अधिक उम्र के 99 करोड़  8 लाख 97 हजार 514 आबादी को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी थी। इनमें से 70 करोड़ 9 लाख 41 हजार 213 को टीके की पहली डोज और 28  करोड़ 99 लाख 56 हजार 301 लोगों को दोनों डोज लेकर फुल वैक्सीनेट किया जा चुका है। यह कुल वैक्सीन लेने वालों का 40.87 फीसदी है। राजस्थान में अब तक 6.76 करोड़ वैक्सीन की डोज काम में लेकर 18 से अधिक उम्र के 81.66 फीसदी यानि 4,20,56,298 लोगों को पहली और 36.22 फीसदी यानी 1,87,05,467 लोग दूसरी डोज लेकर कोरोना से लड़ने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

राजस्थान में आधे से ज्यादा अधेड़-बुजुर्ग फुल वैक्सीनेट

राजस्थान में आबादी के हिसाब से अधेड़-बुजुर्ग सर्वाधिक वैक्सीनेट हुए हैं। प्रदेश में 60 से अधिक उम्र के लोगों की जनसंख्या करीब 1.90 करोड़ है। इनमें से 1,64,44,722 करोड़ यानी 86.55 फीसदी ने पहली डोज ले ली है। वहीं आधे से ज्यादा 53.90 फीसदी यानी 1,02,42,331 ने दोनो डोज लेकर फुल वैक्सीनेशन करवा लिया है। वहीं 18 से 44 साल के बीच की उम्र के 3.25 करोड़ युवाओं में से 74.92  फीसदी यानी 2,43,50,425 को पहली डोज लगी है। 22.72 फीसदी यानी 73,81,977 फुल वैक्सीनेट हो चुके हैं।

कोरोना खात्मे में अहम टीकाकरण
देश में वैक्सीनेशन 100 करोड़ के करीब
अब तक  99,08,97,514  कुल टीके लगे, 28,99,56,301 करोड़ को दोनों डोज लगी
राजस्थान में 81.66 सिंगल डोज ले चुके,
36.22 फीसदी फुल वैक्सीनेट



2 मार्च, 2020 को दी थी वायरस ने दस्तक

 प्रदेश में मंगलवार को कोरोना के अंत की बड़ी उम्मीद की सुखद खबर है। मंगलवार को कोई नया रोगी नहीं मिला है। कोरोना की 2 मार्च 2020 को प्रदेश में संक्रमण के पहले दो मरीज जयपुर में मिले थे। इसके बाद प्रदेश में 19 माह 16 दिन बाद ऐसा पहला दिन  आया है जब एक भी नया मरीज प्रदेश में नहीं मिला है।

80 दिन से कोई मौत नहीं, रिकवरी 99.05 फीसदी हुई
प्रदेश में कोरोना से रिकॉर्ड 80 दिन से कोई मौत नहीं हुई है। अंतिम बार कोरोना ने 31 जुलाई को एक जान ली थी। तब तक 8954 लोगों की जान कोरोना ने ली थी। इसके बाद से मौतों पर ब्रेक लगा है। वहीं रिकवरी रेट भी रिकॉर्ड 99.05 फीसदी हो गई है।
 
कोरोना मुक्ति की ओर यूं बढ़ रहा राजस्थान
23 जिले कोरोना मुक्त, 10 जिलों में केवल 38 एक्टिव केस

पहली और फिर भयावह दूसरी कोरोना लहर के बाद प्रदेश अब कोरोना मुक्ति की ओर है। 23 जिले अलवर, बांसवाड़ा, बारां, बाड़मेर, भरतपुर, भीलवाड़ा, बूंदी, चित्तौड़गढ़, चूरू, दौसा, डूुगरपुर, गंगानगर, जैसलमेर, जालौर, झुंझुनूं, करौली, कोटा, नागौर, प्रतापगढ़, राजसमंद, सीकर, सिरोही, टोंक ऐसे हैं जो कोरोना फ्री जिले हैं। केवल 10 जिले ऐसे हैं जहां मात्र 38 एक्टिव केस हैं। इनमें अकेले जयपुर में 13 और बाकी 9 जिलों में 25 एक्टिव केस हैं।

कोरोना को पूरी तरह से भगाने के लिए दोनों डोज लेना अतिआवश्यक है। पहली डोज से पूरा प्रोटेक्शन नहीं मिलता है। दोनों डोज लेकर ही हम कोरोना के प्रति इम्यूनिटी डवलप कर सकते हैं। देश में अभी भी मौतें हो रही है। अभी 20 फीसदी के करीब लोग ही फुल वैक्सीनेट है। देखने को मिल रहा है कि लोग दूसरी डोज लगाने के प्रति उत्साहित कम नजर आ रहे है। यह चिंता की बात है।
- डॉ.वीरेन्द्र सिंह, वरिष्ठ विशेषज्ञ, मेडिसिन

लोगों को यह नहीं सोचना चाहिए कि कोरोना खत्म हो गया है। दूसरी डोज लेकर इम्यूनिटी विकसित करना बहुत जरुरी है। अमेरिका में तो तीसरी यानी वार्षिक डोज भी लेने लगे हैं। यह चिंतनीय है कि लोग दूसरी डोज के प्रति लापरवाही बरत रहे हैं। जब तक सभी का फुल वैक्सीनेशन नहीं हो जाता, हमें निश्चिंत नहीं होना चाहिए।
- डॉ.रमन शर्मा, सीनियर प्रोफेसर, मेडिसिन, एसएमएस मेडिकल कॉलेज

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

जयपुर मैराथन : दौड़ लगाकर जयपुरवासियों ने दिया अच्छी फिटनेस रखने का संदेश

कड़ाके की ठंड के बावजूद संडे के दिन देर तक सोने के बजाय देशभर से आए धावकों ने जयपुर मैराथन के 11वें सीजन में भाग लिया। इस दौरान बच्चे, युवा, बुजुर्गों के संग पुलिस, भारतीय सेना और विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ता दौड़े।

03/02/2020

अस्पतालों में ड़ेंगू मरीजो की भीड़, बैड फुल

एसएमएस, जेकेलोन, कांविटया सहित जयपुर के सभी अस्पतालों में मरीजों का हाउसफुल : निजी अस्पतालों में भी काफी संख्या में पहुंच रहे मरीज

11/11/2021

जानिए गाइनेकोमेस्टिया के बारे में, जो पुरुषों की लाइफस्टाइल को प्रभावित करता है

कई बार अलग शारीरिक बनावट के कारण हमें समाज में शर्मिंदा होना पड़ जाता है। ऐसी ही तेजी से बढ़ती एक समस्या है पुरुषों में ब्रेस्ट विकसित होने की है, जिसे गाइनेकोमेस्टिया कहते है।

11/09/2019

14 माह की बच्ची के लीवर कैंसर की सफल सर्जरी

सवाई मानसिंह अस्पताल के गेस्ट्रोसर्जरी एवं एनेस्थिसिया विभाग के चिकित्सकों ने महज 14 माह की बच्ची के लीवर कैंसर का आॅपरेशन करने में सफलता प्राप्त की है।

10/04/2019

दिल का ध्यान रखने वाले खुद कैसे रखते हैं दिल का ख्याल

वर्ल्ड हार्ट डे पर विशेष : हार्ट एक्सपर्ट्स से जाना कि वे कैसे रखते हैं अपने हार्ट को तंदुरुस्त

29/09/2021

पीठ दर्द के 80 से 90 प्रतिशत मामलों में किसी तरह की सर्जरी की जरूरत नहीं : डॉ. वसावड़ा

देश में हर पांच में से एक व्यक्ति कभी न कभी पीठ-दर्द का अनुभव करता है, लेकिन ऐसे 80 से 90 प्रतिशत मामले बिना किसी सर्जरी के मात्र जीवनशैली और खानपान में बदलाव, उचित व्यायाम और दवाओं तथा सही तरीके से आराम करने भर से ठीक हो जाते हैं।

16/10/2019

देश में 16 प्रतिशत बच्चों में बिस्तर गीला करने की बीमारी

देश में स्कूल जाने की उम्र वाले 12 से 16 प्रतिशत बच्चे सोते समय बिस्तर गीला करने की समस्या से जूझ रहे हैं। यह समस्या न सिर्फ उनके व्यक्तित्व को प्रभावित करती है बल्कि उनके आत्मविश्वास को भी कमजोर कर रही है।

06/04/2019