Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of March 2021
 
स्वास्थ्य

इम्यूनिटी और वैक्सीन के बाद हारेगा कोरोना, संक्रमण के फैलाव के साथ लोगों में विकसित हो रही इम्यूनिटी

Wednesday, September 09, 2020 16:40 PM
डॉ. पंकज आनंद।

जयपुर। कोरोना का समय जैसे-जैसे बढ़ता जा रहा है, इसके इलाज और इम्यूनिटी पावर से संबंधित सवालों के जवाब मिल रहे हैं। कुछ देशों से कोरोना की वैक्सीन तैयार करने का दावा भी किया है लेकिन उसके बारे में कुछ स्पष्ट स्थिति सामने नहीं आ रही है। वहीं कोरोना केसों में हो रही वृद्धि के कारण आमजन में हर्ड इम्यूनिटी बढ़ने की चर्चा भी चल रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि मामलों की वृद्धि लोगों में हर्ड इम्यूनिटी विकसित होने की संभावना को बढ़ा रही है।

शरीर में होती है दो तरह की इम्यूनिटी
सीनियर फिजिशियन और क्रिटीकल केयर एक्सपर्ट डॉ. पंकज आनंद ने बताया कि आमतौर पर लोगों को यही पता है कि हमारे शरीर में बीमारियों से लड़ने के लिए इम्यूनिटी सिस्टम होता है। लेकिन इम्यूनिटी दो तरह की होती है, इनेट इम्यूनिटी और अडेप्टिव इम्यूनिटी। इनेट इम्यूनिटी में कोई भी वायरस इंफेक्शन बॉडी में आता है तो इम्यून सिस्टम तुरंत प्रतिक्रिया देता है। यह उस वायरस के खिलाफ कोई निश्चित एक्शन नहीं होता। इसकी घंटों में प्रतिक्रिया आती है और यह कम समय के लिए काम करता है। वहीं अडेप्टिव इम्यूनिटी बीमारी होने के 1-2 सप्ताह में एक्टिवेट होती है। यह वायरस की बीमारी विशेष होती है।

अधिक लोगों तक वायरस फैले तो होगी हर्ड इम्यूनिटी
डॉ पंकज आनंद ने बताया कि किसी मरीज को एक से ज्यादा बार इंफेक्शन होगा या एक बार टीका लग जाने पर उससे जिंदगीभर सुरक्षा होगी कि नहीं, इसका कोई आसान जवाब नहीं है। इस बारे में कुछ शोध हुए हैं जिसमें यह सामने आया है कि एक बार संक्रमण होने पर हमारे शरीर में लंबे समय के लिए इम्यूनिटी पावर विकसित हो सकती है। अडेप्टिव इम्यूनिटी में कुछ ऐसे सेल्स होते हैं जो शरीर में सालों तक होते हैं और वापस बीमारी होने पर उसके खिलाफ काम करते हैं। एक देश या कम्यूनिटी में अधिकांश नागरिकों में इम्यूनिटी विकसित हो जाए तो वह हर्ड इम्यूनिटी कहलाती है। उनमें फिर से इंफेक्शन नहीं होता और वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में ट्रांसफर नहीं हो पाता।

हर्ड इम्यूनिटी के दो तरीके
हर्ड इम्यूनिटी विकसित होने के दो तरीके हैं। पहला जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा संक्रमित हो जाएं जो करीब 60 प्रतिशत लोग हों। ऐसे हर्ड इम्यूनिटी विकसित हो सकती है। वहीं अगर 50 से 60 प्रतिशत लोगों को टीका लग जाए और वह प्रभावी हो तो वायरस को ट्रांसफर होने का जरिया नहीं मिलेगा।

वैक्सीन की तैयारी अंतिम चरणों में
डॉ. पंकज ने बताया कि कई जगहों पर वैक्सीन अंतिम चरणों में हैं। वैक्सीन का काम आपके शरीर में रोग के खिलाफ इम्यूनिटी को बढ़ाता है। अधिकतर मरीज जो कोविड के मर रहे हैं, उनकी इम्यूनिटी कमजोर होने के कारण नहीं मर रहे, उनकी इम्यूनिटी अतिप्रतिक्रिया दे रही है। इसीलिए वैक्सीन को तैयार करने में भी काफी सावधानी बरती जा रही है। दिसंबर तक कोरोना की वैक्सीन आने की संभावना है।

यह भी पढ़ें:

पत्नी ने किडनी डोनेट कर बचाया सुहाग, डॉक्टर्स डे पर किडनी रोगी को मिला जीवनदान

महात्मा गांधी अस्पताल के नेफ्रोलॉजी विभाग के चिकित्सकों की टीम ने 18 साल से किडनी रोग से पीड़ित युवक की किडनी प्रत्यारोपण कर जान बचाने में सफलता अर्जित की है। डॉ. गोदारा ने बताया कि कोरोना काल में किसी रोगी का किडनी ट्रांसप्लांट बहुत अधिक चुनौती भरा होता है। चिकित्सकों ने यह चुनौती स्वीकार कर आखिरकार राजेश को किडनी ट्रांसप्लांट किया। राजेश को किडनी उसकी धर्मपत्नी वर्षा ने दी।

01/07/2020

हीमोफीलिया के इलाज में मददगार है ये थैरेपी

हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने में जल्दी जांच, उपचार तक पहुंच और फिजियोथेरेपी का अहम योगदान है।

17/04/2019

युवाओं और महिलाओं में बढ़ रहे हार्ट फेलियर के मामले, 50 साल से कम उम्र के लोग ज्यादा प्रभावित

जयपुर में एक चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। दरअसल 50 साल से कम आयु वर्ग के मरीजों में हार्ट फेलियर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालांकि आमतौर पर 60 से 65 वर्ष की आयु के लोगों में हार्ट फेलियर होता है।

14/02/2020

CBSE की 10वीं-12वीं की परीक्षा के नतीजे जल्द, 9वीं, 11वीं के छात्रों को फेल होने पर मिलेगा एक और मौका

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन जारी है और 50 दिन के भीतर यह काम पूरा हो जाएगा तथा जल्दी ही परीक्षा के नतीजे आ जाएंगे।

14/05/2020

विषम परिस्थितियों में नई तकनीक व प्रोटोकॉल डिजाइन कर नवजात की सफल हार्ट सर्जरी

फोर्टिस हॉस्पिटल के शिशु हृदय रोग सर्जरी विषेशज्ञ डॉ. सुनिल कौशल ने 15 दिन के बच्चे की दुर्लभ सफल आर्टियल स्वीच सर्जरी की। इस सर्जरी के दौरान डॉ. कौशल ने चिकित्सा जगत में नए आयाम स्थापित किए। डॉ. सुनील ने बताया की बच्चे को हृदय की दुर्लभ जन्मजात बीमारी थी, जिसे ट्रांसपोजीशन ऑफग्रेट आर्टरी कहा जाता है और उसका एक मात्र ईलाज आर्टियल स्वीच नामक हार्ट का ऑपरेशन ही है।

02/05/2020

डॉक्टर्स ने 75 दिन के अथक प्रयासों के बाद 670 ग्राम की बच्ची को दिया जीवनदान

इतने लंबे समय तक सरकारी अस्पताल में किसी नवजात को भर्ती रखने का संभवत: यह पहला मामला है।

08/01/2020

850 ग्राम की जन्मे शिशु ने जीती जिंदगी की जंग, डॉक्टरों की मेहनत लाई रंग

जहां 850 ग्राम की प्री-मैच्योर डिलीवरी हुई बच्ची को बचा लिया गया।

19/10/2019