Dainik Navajyoti Logo
Thursday 13th of May 2021
 
स्वास्थ्य

इम्यूनिटी और वैक्सीन के बाद हारेगा कोरोना, संक्रमण के फैलाव के साथ लोगों में विकसित हो रही इम्यूनिटी

Wednesday, September 09, 2020 16:40 PM
डॉ. पंकज आनंद।

जयपुर। कोरोना का समय जैसे-जैसे बढ़ता जा रहा है, इसके इलाज और इम्यूनिटी पावर से संबंधित सवालों के जवाब मिल रहे हैं। कुछ देशों से कोरोना की वैक्सीन तैयार करने का दावा भी किया है लेकिन उसके बारे में कुछ स्पष्ट स्थिति सामने नहीं आ रही है। वहीं कोरोना केसों में हो रही वृद्धि के कारण आमजन में हर्ड इम्यूनिटी बढ़ने की चर्चा भी चल रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि मामलों की वृद्धि लोगों में हर्ड इम्यूनिटी विकसित होने की संभावना को बढ़ा रही है।

शरीर में होती है दो तरह की इम्यूनिटी
सीनियर फिजिशियन और क्रिटीकल केयर एक्सपर्ट डॉ. पंकज आनंद ने बताया कि आमतौर पर लोगों को यही पता है कि हमारे शरीर में बीमारियों से लड़ने के लिए इम्यूनिटी सिस्टम होता है। लेकिन इम्यूनिटी दो तरह की होती है, इनेट इम्यूनिटी और अडेप्टिव इम्यूनिटी। इनेट इम्यूनिटी में कोई भी वायरस इंफेक्शन बॉडी में आता है तो इम्यून सिस्टम तुरंत प्रतिक्रिया देता है। यह उस वायरस के खिलाफ कोई निश्चित एक्शन नहीं होता। इसकी घंटों में प्रतिक्रिया आती है और यह कम समय के लिए काम करता है। वहीं अडेप्टिव इम्यूनिटी बीमारी होने के 1-2 सप्ताह में एक्टिवेट होती है। यह वायरस की बीमारी विशेष होती है।

अधिक लोगों तक वायरस फैले तो होगी हर्ड इम्यूनिटी
डॉ पंकज आनंद ने बताया कि किसी मरीज को एक से ज्यादा बार इंफेक्शन होगा या एक बार टीका लग जाने पर उससे जिंदगीभर सुरक्षा होगी कि नहीं, इसका कोई आसान जवाब नहीं है। इस बारे में कुछ शोध हुए हैं जिसमें यह सामने आया है कि एक बार संक्रमण होने पर हमारे शरीर में लंबे समय के लिए इम्यूनिटी पावर विकसित हो सकती है। अडेप्टिव इम्यूनिटी में कुछ ऐसे सेल्स होते हैं जो शरीर में सालों तक होते हैं और वापस बीमारी होने पर उसके खिलाफ काम करते हैं। एक देश या कम्यूनिटी में अधिकांश नागरिकों में इम्यूनिटी विकसित हो जाए तो वह हर्ड इम्यूनिटी कहलाती है। उनमें फिर से इंफेक्शन नहीं होता और वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में ट्रांसफर नहीं हो पाता।

हर्ड इम्यूनिटी के दो तरीके
हर्ड इम्यूनिटी विकसित होने के दो तरीके हैं। पहला जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा संक्रमित हो जाएं जो करीब 60 प्रतिशत लोग हों। ऐसे हर्ड इम्यूनिटी विकसित हो सकती है। वहीं अगर 50 से 60 प्रतिशत लोगों को टीका लग जाए और वह प्रभावी हो तो वायरस को ट्रांसफर होने का जरिया नहीं मिलेगा।

वैक्सीन की तैयारी अंतिम चरणों में
डॉ. पंकज ने बताया कि कई जगहों पर वैक्सीन अंतिम चरणों में हैं। वैक्सीन का काम आपके शरीर में रोग के खिलाफ इम्यूनिटी को बढ़ाता है। अधिकतर मरीज जो कोविड के मर रहे हैं, उनकी इम्यूनिटी कमजोर होने के कारण नहीं मर रहे, उनकी इम्यूनिटी अतिप्रतिक्रिया दे रही है। इसीलिए वैक्सीन को तैयार करने में भी काफी सावधानी बरती जा रही है। दिसंबर तक कोरोना की वैक्सीन आने की संभावना है।

यह भी पढ़ें:

संक्रमण से बचाएगा देश का पहला 3D मास्क, SMS हॉस्पिटल एवं MNIT के सहयोग से किया तैयार

कोरोना के बेहतरीन उपचार को लेकर देशभर में विख्यात जयपुर के सवाई मान सिंह अस्पताल के चिकित्सकों व एमएनआईटी जयपुर के सहयोग से कंपनी ने कोरोना से बचाव के लिए ऐसा मास्क बनाया है, जो संक्रमण से 99.9 फीसदी बचाएगा। खास बात ये है कि इस मास्क का विकास एवं निर्माण पूर्णतया जयपुर में हुआ है।

29/12/2020

हेल्थ को लेकर भारत सहित 8 देशों के प्रतिनिधियों ने किया मंथन

हेल्थ को लेकर भारत सहित 8 देशों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया और हेल्थ में सुधार को लेकर विस्तार से मंथन किया।

13/11/2019

एक्सप्रेस-वे पर दो दुर्घटनाओं में मां-बेटे सहित आठ लोगों की मौत, 15 घायल

मथुरा : दिल्ली-आगरा यमुना एक्सप्रेस-वे पर आज तड़के सड़क किनारे खड़ी बस को टैंकर ने पीछे से टक्कर मार दिया, जिसके कारण बस के बाहर खड़े लोगों में से छह की मौके पर ही मौत हो गयी.

16/08/2016

नारायणा हॉस्पिटल में दुर्लभ केस की जटिल सर्जरी, डॉक्टर्स ने बचाई बच्ची की जान

जयपुर के नारायणा हॉस्पिटल में डॉक्टर्स को एक दुर्लभ केस में जटिल सर्जरी कर बच्ची की जान बचाई है। दो साल आठ महीने की काश्वी दिल में छेद, ब्लॉकेज के साथ अत्यंत दुर्लभ जन्मजात विकारों से पीड़ित थी, जिसमें हार्ट और लिवर जैसे महत्वपूर्ण अंग उल्टी दिशा में थे। मामला बेहद जटिल व जोखिम भरा था लेकिन अस्पताल की कार्डियक साइंसेज टीम ने चुनौती स्वीकारी और बच्ची की सफलतापूर्वक सर्जरी की।

03/10/2019

उत्तर भारत में पहली बार कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण, SMS अस्पताल में हुआ सफल लीवर और किडनी ट्रांसप्लांट

एसएमएस अस्पताल के चिकित्सकों ने एक बार फिर अंग प्रत्यारोपण के क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित किया है। यहां चिकित्सकों ने पहली बार स्वयं के स्तर पर लीवर का ट्रांसप्लांट किया है। इस सफलता पर चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भी उत्तर भारत में पहली बार सफलतापूर्वक कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण करने पर एसएमएस प्रबंधन एवं डॉक्टर्स की टीम को बधाई दी है।

13/11/2020

शोध पूरा हो तो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का इलाज संभव, खर्च सिर्फ 4 हजार रुपए प्रतिमाह

कैंसर जैसी गंभीर जानलेवा बीमारी का इलाज संभव हो गया है, वह भी महज कुछ हजार रुपए की मासिक दवा पर। यह दावा है प्रसिद्ध कैन्सर वैज्ञानिक डॉ. मंजु रे का। करीब चालीस वर्षों के गहन शोध के बाद उन्होंने कैंसर की दवा खोज निकाली है जिसका प्रथम और द्वितीय ट्रायल हो चुका है लेकिन बाजार में दवा आने से पहले तीसरा ट्रायल होना है।

10/10/2019

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी।

21/08/2020