Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 30th of September 2020
 
स्वास्थ्य

इम्यूनिटी और वैक्सीन के बाद हारेगा कोरोना, संक्रमण के फैलाव के साथ लोगों में विकसित हो रही इम्यूनिटी

Wednesday, September 09, 2020 16:40 PM
डॉ. पंकज आनंद।

जयपुर। कोरोना का समय जैसे-जैसे बढ़ता जा रहा है, इसके इलाज और इम्यूनिटी पावर से संबंधित सवालों के जवाब मिल रहे हैं। कुछ देशों से कोरोना की वैक्सीन तैयार करने का दावा भी किया है लेकिन उसके बारे में कुछ स्पष्ट स्थिति सामने नहीं आ रही है। वहीं कोरोना केसों में हो रही वृद्धि के कारण आमजन में हर्ड इम्यूनिटी बढ़ने की चर्चा भी चल रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि मामलों की वृद्धि लोगों में हर्ड इम्यूनिटी विकसित होने की संभावना को बढ़ा रही है।

शरीर में होती है दो तरह की इम्यूनिटी
सीनियर फिजिशियन और क्रिटीकल केयर एक्सपर्ट डॉ. पंकज आनंद ने बताया कि आमतौर पर लोगों को यही पता है कि हमारे शरीर में बीमारियों से लड़ने के लिए इम्यूनिटी सिस्टम होता है। लेकिन इम्यूनिटी दो तरह की होती है, इनेट इम्यूनिटी और अडेप्टिव इम्यूनिटी। इनेट इम्यूनिटी में कोई भी वायरस इंफेक्शन बॉडी में आता है तो इम्यून सिस्टम तुरंत प्रतिक्रिया देता है। यह उस वायरस के खिलाफ कोई निश्चित एक्शन नहीं होता। इसकी घंटों में प्रतिक्रिया आती है और यह कम समय के लिए काम करता है। वहीं अडेप्टिव इम्यूनिटी बीमारी होने के 1-2 सप्ताह में एक्टिवेट होती है। यह वायरस की बीमारी विशेष होती है।

अधिक लोगों तक वायरस फैले तो होगी हर्ड इम्यूनिटी
डॉ पंकज आनंद ने बताया कि किसी मरीज को एक से ज्यादा बार इंफेक्शन होगा या एक बार टीका लग जाने पर उससे जिंदगीभर सुरक्षा होगी कि नहीं, इसका कोई आसान जवाब नहीं है। इस बारे में कुछ शोध हुए हैं जिसमें यह सामने आया है कि एक बार संक्रमण होने पर हमारे शरीर में लंबे समय के लिए इम्यूनिटी पावर विकसित हो सकती है। अडेप्टिव इम्यूनिटी में कुछ ऐसे सेल्स होते हैं जो शरीर में सालों तक होते हैं और वापस बीमारी होने पर उसके खिलाफ काम करते हैं। एक देश या कम्यूनिटी में अधिकांश नागरिकों में इम्यूनिटी विकसित हो जाए तो वह हर्ड इम्यूनिटी कहलाती है। उनमें फिर से इंफेक्शन नहीं होता और वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में ट्रांसफर नहीं हो पाता।

हर्ड इम्यूनिटी के दो तरीके
हर्ड इम्यूनिटी विकसित होने के दो तरीके हैं। पहला जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा संक्रमित हो जाएं जो करीब 60 प्रतिशत लोग हों। ऐसे हर्ड इम्यूनिटी विकसित हो सकती है। वहीं अगर 50 से 60 प्रतिशत लोगों को टीका लग जाए और वह प्रभावी हो तो वायरस को ट्रांसफर होने का जरिया नहीं मिलेगा।

वैक्सीन की तैयारी अंतिम चरणों में
डॉ. पंकज ने बताया कि कई जगहों पर वैक्सीन अंतिम चरणों में हैं। वैक्सीन का काम आपके शरीर में रोग के खिलाफ इम्यूनिटी को बढ़ाता है। अधिकतर मरीज जो कोविड के मर रहे हैं, उनकी इम्यूनिटी कमजोर होने के कारण नहीं मर रहे, उनकी इम्यूनिटी अतिप्रतिक्रिया दे रही है। इसीलिए वैक्सीन को तैयार करने में भी काफी सावधानी बरती जा रही है। दिसंबर तक कोरोना की वैक्सीन आने की संभावना है।

यह भी पढ़ें:

बच्चों पर शोध: खांसी-जुकाम नहीं बल्कि बुखार के साथ उल्टी दस्त, पेट दर्द होने पर भी हो सकता है कोरोना

अब तक खांसी जुकाम या बुखार के लक्षण होने पर ही कोरोना वायरस की पुष्टि होना माना जा रहा था। लेकिन बच्चों में बुखार के साथ उल्टी दस्त होने पर भी कोरोना वायरस होना पाया गया है। सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज जयपुर में बच्चों पर हुए एक शोध में इसकी पुष्टि हुई है।

03/06/2020

जिम में ट्रेनर की न करें अनदेखी

हर व्यक्ति,खासकर युवा पीढ़ी जिम में जाकर एक्सरसाइज के माध्यम से अपने शरीर को मजबूत बनाना चाहता है।

26/02/2020

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बचाती है मैमोग्राफी स्क्रीनिंग

भारत में हर साल करीब डेढ़ लाख महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर होता है। अगर एक उम्र के बाद रूटीन चेकअप कराया जाए तो ब्रेस्ट कैंसर के गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है।

03/05/2019

विश्व में टीबी के करीब 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित : गुप्ता

आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी के चयेरमैन डॉ. एसडी गुप्ता ने कहा कि विश्व में टीबी के लगभग 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित हैं।

05/12/2019

युवाओं और महिलाओं में बढ़ रहे हार्ट फेलियर के मामले, 50 साल से कम उम्र के लोग ज्यादा प्रभावित

जयपुर में एक चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। दरअसल 50 साल से कम आयु वर्ग के मरीजों में हार्ट फेलियर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालांकि आमतौर पर 60 से 65 वर्ष की आयु के लोगों में हार्ट फेलियर होता है।

14/02/2020

देश में 40 लाख से अधिक लोग अल्जाइमर से पीड़ित

अल्जाइमर एक तरह की भूलने की बीमारी है जो सामान्यतया बुजुर्गों में 60 वर्ष के बाद शुरू होती है। इससे पीड़ित सामान रखकर भूल जाते हैं।

21/09/2019

मरने के बाद तीन लोगों को नई जिंदगी दे गया हरीश, लीवर और किडनी की डोनेट

28 साल का हरीश मरने के बाद भी तीन लोगों को नई जिन्दगी दे गया। रोड एक्सीडेंट के बाद ब्रेन डेड हुए जयपुर के हरीश के परिजनों ने ब्रेन डैड के लिए बनी कमेटी और अस्पताल के चिकित्सकों की समझाइश के बाद उसकी दोनों किडनी और लिवर दान करने की रजामंदी दी।

20/12/2019