Dainik Navajyoti Logo
Saturday 5th of December 2020
 
स्वास्थ्य

कोरोना संक्रमण का नर्वस सिस्टम पर भी बुरा असर, पोस्ट कोविड में बेहद जरूरी न्यूरो केयर

Thursday, November 19, 2020 12:25 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

जयपुर। पेशे से व्यापारी नरेश शर्मा (परिवर्तित नाम) कोरोना संक्रमित होने के कुछ दिनों बाद ठीक हो गए, लेकिन महीनेभर बाद ही उन्हें परिजनों को दोबारा से हॉस्पिटल लाना पड़ा। उन्हें न्यूरोलॉजिस्ट को दिखाया गया, क्योंकि संक्रमित होने के बाद से उन्हें भूलने की समस्या होने लगी थी। वह छोटी-छोटी चीजें भी भूलने लगे थे, जो कोरोना संक्रमण से पहले कभी नहीं होता था। इस प्रकार के लक्षण कोविड के बाद शहर के कई मरीजों में देखने को मिल रहे हैं। इसे पोस्ट कोविड सिन्ड्रोम कहा जाता है। पोस्ट कोविड सिन्ड्रोम का मतलब है, कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज नेगेटिव होने के बाद भी कई दिनों या महीनों तक उससे जुड़े लक्षणों या दुष्प्रभावों का अनुभव करता रहता है।

दिमाग में पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं पहुंचने से नुकसान
कोरोना संक्रमण के बाद कई मरीजों में नसों में सुन्न होना, अवसाद, भूलने की बीमारी जैसे लक्षण देखें गए है। यानी कोरोना वायरस ब्रेन एवं तंत्रिका तंत्र को भी प्रभावित कर सकता है। नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. पृथ्वी गिरी ने बताया कि कोरोना संक्रमण के दौरान कुछ मरीजों में ऑक्सीजन की काफी कमी हो जाती है। इस कारण उनके मस्तिष्क पर गहरा दुष्प्रभाव पड़ता है। इसे हाईपोक्सिक ब्रेन इंजरी कहा जाता है। इसके अलावा कोरोना संक्रमण के बाद सिरदर्द, लकवा व मिर्गी होने की संभावना का बढ़ जाना, सूंघने की क्षमता का कम होना, थकावट व कमजोरी, यादाश्त में कमी, शरीर के किसी अंग का सुन्न पड़ना, नींद न आना या नसों में शिथिलता का पैदा होना के लक्ष्ण सामने आ रहे हैं। यह लक्षण कई दिनों तक ठीक नहीं होते है तो मरीज को पोस्ट कोविड रिकवरी की आवश्यकता है।

ऐसे करें बचाव
डॉ. गिरी ने बताया कि पोस्ट कोविड रिकवरी प्रोग्राम में मरीज के लक्षणों का सही निदान एवं उपचार, फिजियोथेरेपी व सही पोषण से मरीज को जल्द रिकवर किया जा सकता है। जो लोग पहले से ही न्यूरो संबंधी बीमारी से ग्रसित हैं और कोरोना की चपेट में आए हैं, उन्हें पोस्ट कोविड रिकवरी प्रोग्राम की ज्यादा जरूरत है।

यह भी पढ़ें:

गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर दिया नया जीवन, मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ

जयपुर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने एक मरीज के गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर उसे नया जीवन दिया है। ऑपरेशन में ट्यूमर को पूरी तरह निकाल दिया गया है। मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है और खाना-पीना कर रहा है। इसके बाद अब मरीज की अस्पताल से छुट्टी कर दी गई है।

19/08/2020

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बचाती है मैमोग्राफी स्क्रीनिंग

भारत में हर साल करीब डेढ़ लाख महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर होता है। अगर एक उम्र के बाद रूटीन चेकअप कराया जाए तो ब्रेस्ट कैंसर के गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है।

03/05/2019

गंभीर कैंसर रोगियों का दर्द कम करती है पैलिएटिव थैरेपी

कैंसर एक घातक व दिल दहला देने वाली जानलेवा बीमारी है। दुनिया भर में होने वाली छह में से एक व्यक्ति की मौत का कारण कैंसर है।

18/04/2019

सोनोलोजिस्ट के राष्ट्रीय सेमिनार की हुई शुरुआत

फेडरेशन ऑफ क्लिनिकल सोनोलोजिस्ट की ओर से केके रॉयल एण्ड कन्वेशन सेंटर में तीन दिवसीय सोनोग्राफी पर राष्ट्रीय सेमिनार की शुरूआत हो गई।

10/01/2020

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लेकर आपातकाल किया घोषित

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 212 हो गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लगातार बढ़ने के कारण अंतर्राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया है।

31/01/2020

देश में 40 लाख से अधिक लोग अल्जाइमर से पीड़ित

अल्जाइमर एक तरह की भूलने की बीमारी है जो सामान्यतया बुजुर्गों में 60 वर्ष के बाद शुरू होती है। इससे पीड़ित सामान रखकर भूल जाते हैं।

21/09/2019

थ्रीडी टेक्नोलॉजी से दिया न्यूरो सर्जरी का लाइव डेमो, 12 साल की एकता का सफल ऑपरेशन

एसएमएस अस्पताल के न्यूरो सर्जरी विभाग में पहली बार एक्सप्लोर क्रेनिया वर्टिब्रल जंक्शन वर्कशॉप का आयोजन किया गया। एम्स नई दिल्ली सहित देश के नामचीन न्यूरो सर्जन्स ने तिरछी रीढ़ की हड्डी को सीधी करने तथा क्रिमियो वर्टिब्रल जंक्शन के फ्रैक्चर के थ्रीडी तकनीक से लाइव ऑपरेशन किए।

30/12/2019