Dainik Navajyoti Logo
Sunday 16th of May 2021
 
स्वास्थ्य

कोरोना संक्रमण का नर्वस सिस्टम पर भी बुरा असर, पोस्ट कोविड में बेहद जरूरी न्यूरो केयर

Thursday, November 19, 2020 12:25 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

जयपुर। पेशे से व्यापारी नरेश शर्मा (परिवर्तित नाम) कोरोना संक्रमित होने के कुछ दिनों बाद ठीक हो गए, लेकिन महीनेभर बाद ही उन्हें परिजनों को दोबारा से हॉस्पिटल लाना पड़ा। उन्हें न्यूरोलॉजिस्ट को दिखाया गया, क्योंकि संक्रमित होने के बाद से उन्हें भूलने की समस्या होने लगी थी। वह छोटी-छोटी चीजें भी भूलने लगे थे, जो कोरोना संक्रमण से पहले कभी नहीं होता था। इस प्रकार के लक्षण कोविड के बाद शहर के कई मरीजों में देखने को मिल रहे हैं। इसे पोस्ट कोविड सिन्ड्रोम कहा जाता है। पोस्ट कोविड सिन्ड्रोम का मतलब है, कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज नेगेटिव होने के बाद भी कई दिनों या महीनों तक उससे जुड़े लक्षणों या दुष्प्रभावों का अनुभव करता रहता है।

दिमाग में पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं पहुंचने से नुकसान
कोरोना संक्रमण के बाद कई मरीजों में नसों में सुन्न होना, अवसाद, भूलने की बीमारी जैसे लक्षण देखें गए है। यानी कोरोना वायरस ब्रेन एवं तंत्रिका तंत्र को भी प्रभावित कर सकता है। नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. पृथ्वी गिरी ने बताया कि कोरोना संक्रमण के दौरान कुछ मरीजों में ऑक्सीजन की काफी कमी हो जाती है। इस कारण उनके मस्तिष्क पर गहरा दुष्प्रभाव पड़ता है। इसे हाईपोक्सिक ब्रेन इंजरी कहा जाता है। इसके अलावा कोरोना संक्रमण के बाद सिरदर्द, लकवा व मिर्गी होने की संभावना का बढ़ जाना, सूंघने की क्षमता का कम होना, थकावट व कमजोरी, यादाश्त में कमी, शरीर के किसी अंग का सुन्न पड़ना, नींद न आना या नसों में शिथिलता का पैदा होना के लक्ष्ण सामने आ रहे हैं। यह लक्षण कई दिनों तक ठीक नहीं होते है तो मरीज को पोस्ट कोविड रिकवरी की आवश्यकता है।

ऐसे करें बचाव
डॉ. गिरी ने बताया कि पोस्ट कोविड रिकवरी प्रोग्राम में मरीज के लक्षणों का सही निदान एवं उपचार, फिजियोथेरेपी व सही पोषण से मरीज को जल्द रिकवर किया जा सकता है। जो लोग पहले से ही न्यूरो संबंधी बीमारी से ग्रसित हैं और कोरोना की चपेट में आए हैं, उन्हें पोस्ट कोविड रिकवरी प्रोग्राम की ज्यादा जरूरत है।

यह भी पढ़ें:

SMS में हुआ प्रदेश का 41वां अंगदान, 14 वर्षीय विशाल ने ब्रेन डैड होने के बाद 4 लोगों को दिया जीवनदान

सवाई मानसिंह अस्पताल में 41वां अंगदान किया गया है। प्राचार्य एसएमएस मेडिकल कॉलेज डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि देर रात तक अंगों का प्रत्यारोपण किया गया। दोनों किडनीयों को सवाई मानसिंह चिकित्सालय, लिवर को महात्मा गांधी अस्पताल, जयपुर में प्रत्यारोपित किया गया।

02/02/2021

नाइजीरियन युवक के खराब हो चुके कूल्हे के जोड़ों का प्रत्यारोपण

नाईजीरिया के अमादि ओजी कूल्हों के जोड़ों में असहनीय दर्द के चलते चलने-फिरने तक के लिए भी मोहताज हो गए। मरीज जब जयपुर आया तो यहां जटिल ऑपरेशन कर मरीज के दोनों कूल्हे के जोड़ प्रत्यारोपण किया गया।

11/09/2019

कश्मीर : ताजा संघर्ष में पांच की मौत, अब तक 63 की मौत

कश्मीर में बडग्राम और अनंतनाग जिले में पत्थर फेंक रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच ताजा संघर्षों में आज पांच लोगों की मौत हो गयी और कई अन्य घायल हो गये. घाटी में कर्फ्यू, पाबंदियों और अलगाववादी समर्थित हड़ताल के कारण आज लगातार 39वें दिन जनजीवन प्रभावित हुआ.

16/08/2016

जानलेवा हो सकता है हीट स्ट्रोक

इन दिनों पड़ रही भीषण गर्मी से जनजीवन बुरी तरह त्रस्त है। इस मौसम में हीट स्ट्रोक का ज्यादा खतरा है, जो जानलेवा भी हो सकता है।

03/06/2019

कोरोना से अटकी 'रोशनी', संक्रमण के चलते दान नहीं हो सकी आंखें

राजस्थान में कोरोना महामारी के कारण अंधता से जूझ रहे हजारों लोगों के जीवन में रोशनी का इंतजार और लंबा हो गया है। संक्रमण के खतरे के चलते आंखें यानि कार्निया दान करने की रफ्तार पर ब्रेक से लग गए। प्रदेश में इस साल मार्च में कोरोना की दस्तक के बाद से कार्निया दान होने की प्रक्रिया एक तरह से थम सी गई।

04/01/2021

देश में 40 लाख से अधिक लोग अल्जाइमर से पीड़ित

अल्जाइमर एक तरह की भूलने की बीमारी है जो सामान्यतया बुजुर्गों में 60 वर्ष के बाद शुरू होती है। इससे पीड़ित सामान रखकर भूल जाते हैं।

21/09/2019

युवाओं और महिलाओं में बढ़ रहे हार्ट फेलियर के मामले, 50 साल से कम उम्र के लोग ज्यादा प्रभावित

जयपुर में एक चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। दरअसल 50 साल से कम आयु वर्ग के मरीजों में हार्ट फेलियर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालांकि आमतौर पर 60 से 65 वर्ष की आयु के लोगों में हार्ट फेलियर होता है।

14/02/2020