Dainik Navajyoti Logo
Friday 25th of June 2021
 
स्वास्थ्य

कोविड के दौर में डेंगू भी दे रहा दस्तक, डेंगू के प्रारंभिक लक्षण कोरोना के जैसे होने से पैदा हो रही उलझन

Sunday, May 16, 2021 11:30 AM
सांकेतिक तस्वीर।

जयपुर। कोविड महामारी के दौर में जहां लक्षणों के आधार पर जांच व इलाज की दिशा तय की जा रही है, वहीं इस कड़ी में बहुत सी ऐसी बीमारियां भी हैं जिनके प्राथमिक लक्षण कोविड से मिलते जुलते हैं। ये लक्षण लोगों मन में कुछ हद तक उलझन पैदा कर सकते हैं। इन्हीं में से एक है डेंगू। कोविड के आगमन से भी बहुत पहले डेंगू इस देश में चिंताजनक बीमारी के रूप में आ चुका है। बुखार, मांसपेशियों में दर्द, बदन टूटना आदि जैसे लक्षण डेंगू और कोविड दोनों में पाए जाते हैं, जो दोनों में से किसी एक बीमारी को लेकर भ्रमित कर सकते हैं। साथ ही बरसात का मौसम भी निकट है जिसमें डेंगू जैसी बीमारियों की आशंका बढ़ जाती है इसलिए सही जानकारी का प्रसार जरूरी है। यदि सावधानी नहीं बरती गई तो अस्पतालों पर डेंगू और कोविड के मरीजों का अतिरक्त दबाव बनेगा जो हालात और खराब कर सकता है।

कोरोना जांच के साथ ही ब्लड जांच जरूरी
नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल जयपुर के वरिष्ठ फिजिशियन डॉ. अजय नायर ने बताया कि माना कि कुछ लक्षण कोविड और डेंगू के एक सामान हैं लेकिन कोविड के अतिरिक्त लक्षण भी हैं जैसे गंध न आना, स्वाद की ग्रंथि प्रभावित होना, खांसी, जुखाम आदि जो डेंगू में नहीं पाए जाते हैं। लेकिन अभी के दौर में कोविड महामारी की दूसरी लहर चल रही है और संक्रमण बेहद तेजी से फैल रहा है। बहुत से मामलों में कोविड बिना लक्षण के ही लोगों को संक्रमित कर रहा है। इसलिए ऐसे में इस सामान्य अंतर को भी पूरी तरह से सटीक नहीं माना जा सकता। डॉ. नायर ने बताया कि इसलिए बेहतर है कि डॉक्टर के परामर्श अनुसार उपयुक्त जांच करवाई जाए। बेहतर है आरटी-पीसीआर टेस्ट के साथ साथ रक्त जांच भी करवा लें और रिपोर्ट्स के अनुसार इलाज की दिशा तय करें।

यूं करें बचाव
मच्छरों से बचाव के लिए मच्छरदानी और उपयुक्त स्प्रे आदि का सावधानी पूर्वक इस्तेमाल करें।
-अपने घरों के आसपास पानी जमा न होने दें।
-बुखार, खांसी, बदनदर्द, बेवजह थकान आदि होने पर तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें।
-बच्चों का इस विषय में विशेष ख्याल रखें।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

विश्व में टीबी के करीब 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित : गुप्ता

आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी के चयेरमैन डॉ. एसडी गुप्ता ने कहा कि विश्व में टीबी के लगभग 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित हैं।

05/12/2019

बिना चीरफाड़ के अत्याधुनिक तकनीक से बदला हार्ट वॉल्व, मरीज की पहले हो चुकी बायपास सर्जरी

अधिक उम्र पर बायपास सर्जरी का इतिहास एवं कैंसर का सफल उपचार करा चुके 73 वर्षीय नरेन शर्मा (परिवर्तित नाम) को फिर से जब हृदय की गंभीर बीमारी हुई तो अत्याधुनिक तकनीक उनके लिए वरदान साबित हुई। ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वॉल्व इम्प्लांटेशन(टावी) द्वारा मरीज की सिकुड़ी हुई एओर्टिक वॉल्व को बिना ओपन चेस्ट सर्जरी के बदल दिया।

06/01/2020

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी।

21/08/2020

पीठ दर्द के 80 से 90 प्रतिशत मामलों में किसी तरह की सर्जरी की जरूरत नहीं : डॉ. वसावड़ा

देश में हर पांच में से एक व्यक्ति कभी न कभी पीठ-दर्द का अनुभव करता है, लेकिन ऐसे 80 से 90 प्रतिशत मामले बिना किसी सर्जरी के मात्र जीवनशैली और खानपान में बदलाव, उचित व्यायाम और दवाओं तथा सही तरीके से आराम करने भर से ठीक हो जाते हैं।

16/10/2019

मंत्री रघु शर्मा और सुभाष गर्ग ने SMS अस्पताल को दी कई सौगातें

अस्थि रोग विभाग के नॉर्थ विंग-प्रथम वार्ड के नवीनीकरण का लोकार्पण और अस्पताल में ही स्थित डाटा सेंटर की आईटी सेल का शुभारंभ कर प्रदेशवासियों को सौगात दी।

30/11/2019

Video: डॉक्टर्स ने पेट से निकाला बालों का बड़ा गुच्छा

सर्जन एवं विभागाध्यक्ष डॉ. अनिल त्रिपाठी ने बताया कि मरीज के पेट में दर्द, भूख ना लगना, उल्टी होना, वजन कम होना इत्यादि लक्षणों की शिकायत कुछ महीनों से थी।

23/12/2019

ईएसआई मॉडल हॉस्पिटल में मनाया गया विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस

अजमेर रोड स्थित ईएसआई हॉस्पिटल में मनोरोग विभाग की ओर से विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर चिकित्सकों के लिए अवसाद एवं आत्महत्या के उपचार और रोकथाम को लेकर सेमिनार एवं मानसिक स्वास्थ्य प्रदर्शनी का आयोजन किया गया।

10/10/2019