Dainik Navajyoti Logo
Sunday 20th of June 2021
 
स्वास्थ्य

पेल्विक बोन ट्यूमर की जटिल सर्जरी, महात्मा गांधी अस्पताल में हुआ सफल ऑपरेशन

Sunday, January 31, 2021 10:40 AM
महात्मा गांधी अस्पताल में सफल सर्जरी।

जयपुर। महात्मा गांधी अस्पताल के चिकित्सकों ने झुंझुनूं जिले की 14 वर्षीय किशोरी के पेल्विक बोन ट्यूमर की सफल सर्जरी की है। किशोरी अपने बाएं कूल्हे (पेल्विक रीजन) में दर्द को लेकर अस्पताल भर्ती हुई। जांच में उसे इविंग्स सारकोमा नामक कैंसर की पुष्टि हुई। यह बीमारी लाखों में से किसी एक को होती है। एम्स नई दिल्ली व पीजीआई चंडीगढ़ से प्रशिक्षित जोड़ प्रत्यारोपण एवं हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. संदीप यादव ने बताया कि इविंग्स सारकोमा का उपचार करने के लिए पहले मेडिकल ऑन्कोलोजिस्ट डॉ. अजय यादव की मदद से नियो एडजुवेंट कीमो थैरेपी दी गई। इससे कैंसर का आकार कम करके उसे आगे फैलने से रोका गया। इसके बाद इंटरनल हेमीपेल्विक्टमी सर्जरी द्वारा बाएं कूल्हे की हड्डी (लेफ्ट हैमीपेल्विस) को निकाला गया और ईसीआरटी करके हाई रेडिएशन दिया गया। इस तरह कैंसर संक्रमण से मुक्त पेल्विक बोन को फिर से प्रत्यारोपित कर दिया गया।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित मरीज की हिप जॉइंट सर्जरी, 3डी प्रिंटिंग तकनीक से राजस्थान में पहले ऑपरेशन का दावा

राजधानी के एचसीजी अस्पताल में 20 साल से एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस बीमारी से पीड़ित मरीज की सफल सर्जरी की गई। इस बीमारी में कूल्हे के जोड़ के एक जगह जड़ हो गए। डॉक्टर्स ने इस जटिल केस को 3डी प्रिंटिंग तकनीक की सहायता से सफलतापूर्वक ठीक कर दिया। दावा है कि राजस्थान में इस तरह की सर्जरी का यह पहला मामला है।

03/12/2019

बिना वेंटीलेटर के भी बच सकती है मरीज की जान

मरीज को वेंटीलेटर में होने वाले संभावित खतरों के बिना ही नई तकनीक से बचाया जा सकता है। अगर उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो वेंटीलेटर पर ले जाए बिना भी उसकी जान बचाई जा सकती है।

16/11/2019

ई-संजीवनी ओपीडी सेवा से मरीजों को कतारों से मिली मुक्ति, घर बैठे मिल रहा परामर्श

कोरोना के चलते आमजन को घर बैठे परामर्श सेवाओं के लिए राज्य सरकार द्वारा ई-संजीवनी ओपीडी सेवा शुरू की गई है। जिससे अस्पतालों में भीड़ नियंत्रण कर संक्रमण को कम किया जा सके और आमजन को सरलता से परामर्श सेवा प्राप्त हो सके। इस सुविधा का आमजन लाभ भी उठा रहे हैं।

21/05/2020

पत्नी ने किडनी डोनेट कर बचाया सुहाग, डॉक्टर्स डे पर किडनी रोगी को मिला जीवनदान

महात्मा गांधी अस्पताल के नेफ्रोलॉजी विभाग के चिकित्सकों की टीम ने 18 साल से किडनी रोग से पीड़ित युवक की किडनी प्रत्यारोपण कर जान बचाने में सफलता अर्जित की है। डॉ. गोदारा ने बताया कि कोरोना काल में किसी रोगी का किडनी ट्रांसप्लांट बहुत अधिक चुनौती भरा होता है। चिकित्सकों ने यह चुनौती स्वीकार कर आखिरकार राजेश को किडनी ट्रांसप्लांट किया। राजेश को किडनी उसकी धर्मपत्नी वर्षा ने दी।

01/07/2020

शोध पूरा हो तो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का इलाज संभव, खर्च सिर्फ 4 हजार रुपए प्रतिमाह

कैंसर जैसी गंभीर जानलेवा बीमारी का इलाज संभव हो गया है, वह भी महज कुछ हजार रुपए की मासिक दवा पर। यह दावा है प्रसिद्ध कैन्सर वैज्ञानिक डॉ. मंजु रे का। करीब चालीस वर्षों के गहन शोध के बाद उन्होंने कैंसर की दवा खोज निकाली है जिसका प्रथम और द्वितीय ट्रायल हो चुका है लेकिन बाजार में दवा आने से पहले तीसरा ट्रायल होना है।

10/10/2019

देश का पहला मामला: 9 साल के बच्चे में कोरोना के लक्षण नहीं, 10 बार रिपोर्ट आई पॉजिटिव

जेकेलोन अस्पताल में एक ऐसा केस भी सामने आया, जिसमें एक 9 साल के बच्चे को कोई लक्षण नहीं थे। बावजूद इसके उसकी कुल 10 रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आ चुकी है। हालांकि अस्पताल के चिकित्सकों के कमाल के चलते 28 और 30 मई को बच्चे की दोनों रिपोर्ट लगातार नेगेटिव आने पर उसे 1 जून को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

04/06/2020

इंसुलिनोमा टयूमर की हुई पहचान, मोलिक्यूर फंक्शनल इमेजिंग टेस्ट के जरिए कैंसर की जांच

शरीर में इंसुलिन की मात्रा को तेजी से बढ़ाने वाले कैंसर 'इंसुलिनोमा टयूमर' की पहचान राज्य में पहली बार हुई है। प्रदेश के भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के न्यूक्लियर मेडिसन विभाग में इस रेयर टयूमर को डायग्नोस किया गया है।

11/09/2019