Dainik Navajyoti Logo
Friday 22nd of October 2021
 
स्वास्थ्य

छह दिन में दूसरी बार बदलाव, अब डॉ. गुप्ता होंगे जयपुरिया अधीक्षक

Wednesday, October 13, 2021 12:45 PM
जेकेलोन अस्पताल के पूर्व अधीक्षक और वरिष्ठ आचार्य डॉ. अशोक गुप्ता अब जयपुरिया अस्पताल के नए अधीक्षक होंगे। (फाइल फोटो)

जयपुर। जेकेलोन अस्पताल के पूर्व अधीक्षक और वरिष्ठ आचार्य डॉ. अशोक गुप्ता अब जयपुरिया अस्पताल के नए अधीक्षक होंगे। इससे पहले महिला उत्पीड़न की शिकायत के बाद जयपुरिया अधीक्षक पद से डॉ. एसएस राणावत को हटाए जाने के बाद एसएमएस अस्पताल के डॉ. धर्मेश शर्मा को यह जिम्मेदारी सौंपी गई थी, लेकिन उन्होंने स्वास्थ्य और निजी कारणों का हवाला देते हुए छह दिन बाद भी अधीक्षक का पद नहीं संभाला और उच्चाधिकारियों को अवगत भी करा दिया। इसके बाद चिकित्सा विभाग के शासन उप सचिव संजय कुमार ने आदेश में संशोधन करते हुए मंगलवार को डॉ. अशोक गुप्ता को जयपुरिया अस्पताल के अधीक्षक पद का कार्यभार संभालने के आदेश जारी कर दिए। ऐसे में बीते छह दिनों में जयपुरिया अस्पताल में दो अधीक्षक बदलने पड़े हैं। वहीं इस बीच डॉ. गुप्ता बुधवार को जयपुरिया अधीक्षक पद का कार्यभार संभालेंगे।

सात दिन पूरे हुए लेकिन नहीं सौंपी रिपोर्ट
महिला उत्पीड़न की शिकायत के बाद चिकित्सा विभाग की ओर से गठित कमेटी को सात दिन में मामले की जांच कर रिपोर्ट पेश करनी थी। मंगलवार को कमेटी की सात दिन की समय सीमा पूरी हो गई लेकिन अब तक कमेटी ने ना तो रिपोर्ट तैयार की है और ना हीं चिकित्सा विभाग को सौंपी है। वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कमेटी ने अभी तक जांच की आधी प्रक्रिया भी पूरी नहीं की है। ऐसे में जांच कमेटी की कार्यशैली सवालों के घेरे में है। जांच में देरी होने से जांच प्रभावित होने की भी आशंका है और जिस गति से जांच की जा रही उसे देखकर अभी और समय लगने की संभावना जताई जा रही है। गौरतलब है कि चिकित्सा शिक्षा आयुक्त शिवांगी स्वर्णकार की अध्यक्षता में डॉ. डीएस मीणा और डॉ. प्रभा ओम को जांच कमेटी में शामिल किया गया है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

सिर में बिजली कौंधने जैसा दर्द तो हो सकता है ट्राइजेमिनल न्यूरोलजिया, लापरवाही हो सकती है जानलेवा

सिर दर्द कई तरह का होता है, लेकिन अगर आपको सिर व चेहरे पर बिजली कौंधने जैसा तेज दर्द हो तो आपको सावधान होने की जरूरत है। यह गंभीर न्यूरो डिजिज ट्राइजेमिनल न्यूरोलजिया हो सकती है। आमतौर पर युवाओं में ज्यादा देखे जाने वाली इस बीमारी में दर्द का पहला अटैक आते ही बिना देर किए विशेषज्ञ डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

22/01/2021

विषम परिस्थितियों में नई तकनीक व प्रोटोकॉल डिजाइन कर नवजात की सफल हार्ट सर्जरी

फोर्टिस हॉस्पिटल के शिशु हृदय रोग सर्जरी विषेशज्ञ डॉ. सुनिल कौशल ने 15 दिन के बच्चे की दुर्लभ सफल आर्टियल स्वीच सर्जरी की। इस सर्जरी के दौरान डॉ. कौशल ने चिकित्सा जगत में नए आयाम स्थापित किए। डॉ. सुनील ने बताया की बच्चे को हृदय की दुर्लभ जन्मजात बीमारी थी, जिसे ट्रांसपोजीशन ऑफग्रेट आर्टरी कहा जाता है और उसका एक मात्र ईलाज आर्टियल स्वीच नामक हार्ट का ऑपरेशन ही है।

02/05/2020

चीन से भारतीयों को निकालने के लिए रवाना हुआ एयर इंडिया का विमान

एयर इंडिया की विशेष उड़ान शुक्रवार सुबह मुंबई से रवाना हुई। बोइंग 747 विमान रास्ते में दिल्ली से मेडिकल किट लेकर चीन जाएगा।

31/01/2020

पत्नी ने किडनी डोनेट कर बचाया सुहाग, डॉक्टर्स डे पर किडनी रोगी को मिला जीवनदान

महात्मा गांधी अस्पताल के नेफ्रोलॉजी विभाग के चिकित्सकों की टीम ने 18 साल से किडनी रोग से पीड़ित युवक की किडनी प्रत्यारोपण कर जान बचाने में सफलता अर्जित की है। डॉ. गोदारा ने बताया कि कोरोना काल में किसी रोगी का किडनी ट्रांसप्लांट बहुत अधिक चुनौती भरा होता है। चिकित्सकों ने यह चुनौती स्वीकार कर आखिरकार राजेश को किडनी ट्रांसप्लांट किया। राजेश को किडनी उसकी धर्मपत्नी वर्षा ने दी।

01/07/2020

वैज्ञानिकों को मिली बड़ी सफलता, खोजा ऐसा वायरस जो हर तरह के कैंसर का करेगा खात्मा

दुनियाभर के साथ ही भारत में भी कैंसर की बीमारी तेजी से फैल रही है। इस खतरनाक बीमारी की वजह से हर साल करीब 8 लाख लोगों की मौत हो जाती है। ऐसे में वैज्ञानिकों ने एक ऐसा वायरस खोजा है जो हर तरह के कैंसर को खत्म कर सकता है।

11/11/2019

ब्लैक फंगस पर दो बड़े डॉक्टरों की सलाह, डायबिटीज काबू में तो म्यूकोरमाइकोसिस से बचे रहेंगे

कोरोना महामारी के बीच एक और गंभीर बीमारी ‘ब्लैक फंगस’ के मामले देश के कई राज्यों में सामने आ रहे हैं। कई राज्यों ने तो इसे महामारी भी घोषित कर दिया है। इस बीच एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि अनियंत्रित मधुमेह और कोरोना से संक्रमित होने की वजह से म्यूकोरमाइकोसिस का खतरा बढ़ सकता है।

22/05/2021

कोरोना संक्रमण का नर्वस सिस्टम पर भी बुरा असर, पोस्ट कोविड में बेहद जरूरी न्यूरो केयर

पेशे से व्यापारी नरेश शर्मा (परिवर्तित नाम) कोरोना संक्रमित होने के कुछ दिनों बाद ठीक हो गए, लेकिन महीनेभर बाद ही उन्हें परिजनों को दोबारा से हॉस्पिटल लाना पड़ा। उन्हें न्यूरोलॉजिस्ट को दिखाया गया, क्योंकि संक्रमित होने के बाद से उन्हें भूलने की समस्या होने लगी थी। वह छोटी-छोटी चीजें भी भूलने लगे थे, जो कोरोना संक्रमण से पहले कभी नहीं होता था।

19/11/2020