Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 5th of August 2020
 
स्वास्थ्य

सेरेब्रल मलेरिया की दस्तक, चपेट में आई बालिका

Friday, October 18, 2019 18:40 PM
फालस्पिैरम मलेरिया से ग्रसित बालिका को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जयपुर। डेंगू बुखार और सामान्य मलेरिया के बाद अब प्रदेश में सेरेब्रल मलेरिया ने भी दस्तक दे दी है। इस बीमारी को जानलेवा फालस्पिैरम मलेरिया के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा ही एक मामला संभाग के नावां कस्बे में सामने आया है। कॉम्प्लीकेटेड वायवैक्स पॉजिटिव और फालस्पिैरम मलेरिया से ग्रसित बालिका को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हॉस्पिटल में विषेषज्ञ चिकित्सकों की देखरेख में उपचाराधीन बालिका की गहन चिकित्सा पद्धति से इलाज कर उसकी जान बचाई गई है। खंडाका अस्पताल के बाल और नवजात शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. शिव कुमावत ने बताया कि गत बालिका को अचेत अवस्था में भर्ती किया गया था। रोगी को मलेरिया के साथ पीलिया भी था।

एमआरआई और रक्त जांच की रिपोर्ट में बालिका को कॉप्लीकेटेड वायवैक्स पॉजिटिव व फालस्पिैरम मलेरिया था। इसमें सेरिब्रल मलेरिया होता है और साथ ही रोगी को हिमोलिसिस हो जाता है। ऐसी स्थिति में रोगी का लीवर काम करना बंद कर देता है। इससे प्लेटलेट्स कम हो जाते हैं। रोगी के प्लेटलेट्स भी 15 हजार से नीचे पहुंच गए थे। इसके साथ ही उसे हल्का ब्रेन हेमरेज भी था। उन्होंने बताया कि इस प्रकार के मरीज की बचने की संभावना ना के बराबर होती है। सीईओ डॉ. सुधीर व्यास ने बताया कि रोगी को आईसीयू में रखकर उसे सात यूनिट विभिन्न प्रकार के ब्लड कॅम्पोनेंट्स दिए गए। काफी उतार-चढ़ाव के बाद आखिरकार रोगी की जान बचाने में सफलता मिल गई। डॉ. मनीष व्यास ने बताया कि ऐसे रोगी का पता चलने के बाद चिकित्सा विभाग की टीम संबधित इलाके में लोगो के सैंपल्स लेती है। अस्पताल प्रशासन ने मामले की गंभीरता को देखते हुए चिकित्सा विभाग को भी इस मामले से अवगत कराया है।

 

यह भी पढ़ें:

डॉक्टर्स ने 75 दिन के अथक प्रयासों के बाद 670 ग्राम की बच्ची को दिया जीवनदान

इतने लंबे समय तक सरकारी अस्पताल में किसी नवजात को भर्ती रखने का संभवत: यह पहला मामला है।

08/01/2020

दक्षिण कोरिया के नौसेना स्टेशन में विस्फोट के बाद एक की मौत, 3 घायल

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्व में एक नौसेना स्टेशन पर एक पनडुब्बी पर मरम्मत के काम के दौरान दुर्घटनावश विस्फोट होने के बाद एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य लापता हैं.

16/08/2016

Video: जानिए, अस्थमा के इलाज से जुड़ी इनहेलेशन थैरेपी के बारे में

जागरुकता का अभाव, बदलती जीवनशैली, अनुचित खानपान और उससे बढ़ता मोटापा सहित प्रदूषण से अस्थमा तेजी से बढ़ रहा है।

07/05/2019

बच्चों पर शोध: खांसी-जुकाम नहीं बल्कि बुखार के साथ उल्टी दस्त, पेट दर्द होने पर भी हो सकता है कोरोना

अब तक खांसी जुकाम या बुखार के लक्षण होने पर ही कोरोना वायरस की पुष्टि होना माना जा रहा था। लेकिन बच्चों में बुखार के साथ उल्टी दस्त होने पर भी कोरोना वायरस होना पाया गया है। सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज जयपुर में बच्चों पर हुए एक शोध में इसकी पुष्टि हुई है।

03/06/2020

अचानक बढ़ जाती है दिल की धड़कन तो हो सकता है आईएसटी, जानें डॉक्टर की राय

दिल के साथ-साथ शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंगों जैसे फेफड़े, लीवर, किडनी और दिमाग को भी नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसी ही एक बीमारी इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया (आईएसटी) है।

25/12/2019

गंभीर बीमारियों का इलाज भी होम्योपैथी से संभव

एक ओर जहां पूरा विश्व एलोपैथी दवाइयों और इलाज के पीछे भाग रहा है, वहीं होम्योपैथी पद्धति भी अब कई गंभीर रोगों के इलाज को संभव बना रही है।

10/04/2019

जानिए गाइनेकोमेस्टिया के बारे में, जो पुरुषों की लाइफस्टाइल को प्रभावित करता है

कई बार अलग शारीरिक बनावट के कारण हमें समाज में शर्मिंदा होना पड़ जाता है। ऐसी ही तेजी से बढ़ती एक समस्या है पुरुषों में ब्रेस्ट विकसित होने की है, जिसे गाइनेकोमेस्टिया कहते है।

11/09/2019