Dainik Navajyoti Logo
Monday 19th of April 2021
 
स्वास्थ्य

CBSE की 10वीं-12वीं की परीक्षा के नतीजे जल्द, 9वीं, 11वीं के छात्रों को फेल होने पर मिलेगा एक और मौका

Thursday, May 14, 2020 17:55 PM
सीबीएसई बोर्ड।

नई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं और 12वीं की परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन जारी है और 50 दिन के भीतर यह काम पूरा हो जाएगा तथा जल्दी ही परीक्षा के नतीजे आ जाएंगे। निशंक ने गुरुवार को देशभर के शिक्षकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद करते हुए यह जानकारी दी। निशंक इससे पहले छात्रों और अभिभावकों के साथ इस तरह संवाद कर चुके हैं।

निशंक ने एक प्रश्न के उत्तर में बताया कि उत्तर दिल्ली को छोड़कर देशभर में 10वीं बोर्ड की सभी परीक्षाएं हो चुकी हैं और परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन कार्य जारी है। इसके लिए देश में 3000 मूल्यांकन केंद्र बनाए गए हैं, जहां से उत्तर पुस्तिकाएं शिक्षकों को घर पर पहुंचाई जा रही हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि जो शिक्षक उत्तर पुस्तिका के मूल्यांकन में लगे हुए हैं और साथ ही साथ ऑनलाइन क्लास भी ले रहे हैं, उन्हें अपने दिन भर के काम की रिपोर्ट भेजने की जरूरत नहीं है, क्योंकि उन्हें इस बात की छूट दी गई है। उन्होंने यह भी कहा कि अगर किसी शिक्षक को यह निर्देश मिलता है कि वह काम की रिपोर्ट जमा करें तो वह शिक्षक इस बात की शिकायत मुझसे कर सकता है।               

एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने यह भी कहा कि देश में कोरोना महामारी के कारण लॉकडाउन के बाद जब स्थिति सामान्य होगी, तभी क्लास शुरू होंगे और इसके लिए दिशानिर्देश जारी किए जाएंगे। उन्होंने यह भी बताया कि इस दिशा में एक टास्क फोर्स का गठन किया गया है और एनसीआरटी इस टास्क फोर्स की सिफारिशों के आधार पर यह गाइडलाइंस जारी करेगी। निशंक ने कहा कि स्कूल खुलने पर हमें यह तय करना होगा कि एक क्लास में 40 बच्चे बैठेंगे या 30 बच्चे। यह सब नए दिशानिर्देशों में होगा तथा क्लास बुलाने की क्या प्रक्रिया हो यह सारी बातें दिशानिर्देश में जारी की जाएंगी। उन्होंने देशभर के छात्रों को शिक्षकों को इस बात के लिए धन्यवाद प्रकट किया कि उन्होंने लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन शिक्षा के जरिए छात्रों को अच्छी तरह पढ़ाया।

9वीं,11वीं के छात्रों को फेल होने पर मिलेगा एक और मौका
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के स्कूलों में पढ़ने वाले 9वीं और 11वीं कक्षा के छात्र अगर परीक्षा में फेल हो गए हों तो उन्हें परीक्षा देने का एक और अवसर दिया जाएगा। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने अपने ट्वीट के साथ सीबीएसई द्वारा जारी उस प्रेस विज्ञप्ति को भी पोस्ट किया, जिसमें बताया गया कि 9वीं और 11वीं कक्षा के छात्रों को कोरोनो संकट को देखते हुए यह सुविधा इस साल दी जाएगी।                 

विज्ञप्ति में कहा गया है कि कोरोना संकट में छात्र तथा अभिभावक बहुत ही तनावपूर्ण स्थितियों में गुजर रहे हैं। ऐसे में अभिभावकों की ओर से बोर्ड से इस तरह की मांग लगातार की जा रही है कि 9वीं और 11वीं कक्षा के जो छात्र अपने पेपर में फेल हो गए हो उन्हें एक परीक्षा देने का अवसर प्रदान किया जाए। सीबीएसई ने कहा कि अभिभावकों की मांग को देखते हुए बोर्ड ने यह फैसला किया है कि अगर कोई छात्र 9वीं या 11वीं कक्षा की परीक्षा में फेल हो गया तो उसे एक बार ऑनलाइन या ऑफलाइन या किसी नवाचार तरीके से टेस्ट में बैठने की अनुमति दी जाए। बोर्ड ने कहा कि चाहे स्कूल में परीक्षाएं हो गई हो या नहीं हुई हो छात्रों को यह अवसर एक बार जरूर दिया जाएगा। गौरतलब है कि कोरोना महामारी में सीबीएसई की ओर से पहले ही 8वीं कक्षा के छात्रों को बिना परीक्षा के पास करने का निर्णय हुआ था।

यह भी पढ़ें:

नई तकनीकों से कार्डियक सर्जरी और आसान, नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का बदल रहा ट्रेंड

नई जांच तकनीकों और एंजियोप्लास्टी में काम आने वाले नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का ट्रेंड बदल रहा है और जटिल केस भी आसानी से हो रहे हैं। शहर के सीनियर कार्डियोलोजिस्ट डॉ. जितेंद्र मक्कड़ ने बताया कि इंट्रावस्कुलर अल्ट्रासाउंड (आइवीस) तकनीक से आर्टरी की सिकुड़न, ब्लॉकेज की लंबाई और कठोरता, आर्टरी में जमे कैल्शियम के बारे में पता चलता है

17/03/2021

हार्ट फेल और खराब फेफड़े होने पर एक्मो तकनीक से बच सकती है जान, वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने दी ट्रेनिंग

कई बार मरीजों को गंभीर कार्डियक फेलियर, फेफड़े खराब होने के कारण सांस की तकलीफ के कारण अस्पताल में इमरजेंसी में लाया जाता है। मरीज का हृदय या फेफड़े सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम नहीं रहते और रोगी सांस लेने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों की जान उन्नत एक्मो तकनीक से बचाई जा सकती है।

20/01/2020

जयपुर में जुटे देश-विदेश के नामचीन शिशु रोग विशेषज्ञ

बंदोपाध्याय ने कहा कि देश में शिशु मृत्युदर चिंता का विषय है, इसे कम करने के लिए हमें समाज की मानसिकता को बदलना होगा।

05/10/2019

चीन से भारतीयों को निकालने के लिए रवाना हुआ एयर इंडिया का विमान

एयर इंडिया की विशेष उड़ान शुक्रवार सुबह मुंबई से रवाना हुई। बोइंग 747 विमान रास्ते में दिल्ली से मेडिकल किट लेकर चीन जाएगा।

31/01/2020

गतिहीन शुक्राणु लेकिन लेजर आईवीएफ पद्धति से पितृत्व सुख

उदयपुर। जयपुर के अविनाश कुमार के रूप में (बदला नाम) के शुक्राणु गतिहीन होने का एक अनूठा मामला सामने आया है।

23/09/2019

नई तकनीकों से संभव है ब्रेन ट्यूमर का इलाज

30 साल के हुलासमल और 50 साल की यशोदा को जब पता चला कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर है तो मानों उनकी जिंदगी जैसे थम सी गई थी। जबकि नई तकनीकों से ब्रेन ट्यूमर का ईलाज संभव है और व्यक्ति जिंदगी पहले की तरह ही जी सकता है।

08/06/2019

मरने के बाद तीन लोगों को नई जिंदगी दे गया हरीश, लीवर और किडनी की डोनेट

28 साल का हरीश मरने के बाद भी तीन लोगों को नई जिन्दगी दे गया। रोड एक्सीडेंट के बाद ब्रेन डेड हुए जयपुर के हरीश के परिजनों ने ब्रेन डैड के लिए बनी कमेटी और अस्पताल के चिकित्सकों की समझाइश के बाद उसकी दोनों किडनी और लिवर दान करने की रजामंदी दी।

20/12/2019