Dainik Navajyoti Logo
Monday 2nd of August 2021
 
स्वास्थ्य

CBSE की 10वीं-12वीं की परीक्षा के नतीजे जल्द, 9वीं, 11वीं के छात्रों को फेल होने पर मिलेगा एक और मौका

Thursday, May 14, 2020 17:55 PM
सीबीएसई बोर्ड।

नई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं और 12वीं की परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन जारी है और 50 दिन के भीतर यह काम पूरा हो जाएगा तथा जल्दी ही परीक्षा के नतीजे आ जाएंगे। निशंक ने गुरुवार को देशभर के शिक्षकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद करते हुए यह जानकारी दी। निशंक इससे पहले छात्रों और अभिभावकों के साथ इस तरह संवाद कर चुके हैं।

निशंक ने एक प्रश्न के उत्तर में बताया कि उत्तर दिल्ली को छोड़कर देशभर में 10वीं बोर्ड की सभी परीक्षाएं हो चुकी हैं और परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन कार्य जारी है। इसके लिए देश में 3000 मूल्यांकन केंद्र बनाए गए हैं, जहां से उत्तर पुस्तिकाएं शिक्षकों को घर पर पहुंचाई जा रही हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि जो शिक्षक उत्तर पुस्तिका के मूल्यांकन में लगे हुए हैं और साथ ही साथ ऑनलाइन क्लास भी ले रहे हैं, उन्हें अपने दिन भर के काम की रिपोर्ट भेजने की जरूरत नहीं है, क्योंकि उन्हें इस बात की छूट दी गई है। उन्होंने यह भी कहा कि अगर किसी शिक्षक को यह निर्देश मिलता है कि वह काम की रिपोर्ट जमा करें तो वह शिक्षक इस बात की शिकायत मुझसे कर सकता है।               

एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने यह भी कहा कि देश में कोरोना महामारी के कारण लॉकडाउन के बाद जब स्थिति सामान्य होगी, तभी क्लास शुरू होंगे और इसके लिए दिशानिर्देश जारी किए जाएंगे। उन्होंने यह भी बताया कि इस दिशा में एक टास्क फोर्स का गठन किया गया है और एनसीआरटी इस टास्क फोर्स की सिफारिशों के आधार पर यह गाइडलाइंस जारी करेगी। निशंक ने कहा कि स्कूल खुलने पर हमें यह तय करना होगा कि एक क्लास में 40 बच्चे बैठेंगे या 30 बच्चे। यह सब नए दिशानिर्देशों में होगा तथा क्लास बुलाने की क्या प्रक्रिया हो यह सारी बातें दिशानिर्देश में जारी की जाएंगी। उन्होंने देशभर के छात्रों को शिक्षकों को इस बात के लिए धन्यवाद प्रकट किया कि उन्होंने लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन शिक्षा के जरिए छात्रों को अच्छी तरह पढ़ाया।

9वीं,11वीं के छात्रों को फेल होने पर मिलेगा एक और मौका
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के स्कूलों में पढ़ने वाले 9वीं और 11वीं कक्षा के छात्र अगर परीक्षा में फेल हो गए हों तो उन्हें परीक्षा देने का एक और अवसर दिया जाएगा। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने अपने ट्वीट के साथ सीबीएसई द्वारा जारी उस प्रेस विज्ञप्ति को भी पोस्ट किया, जिसमें बताया गया कि 9वीं और 11वीं कक्षा के छात्रों को कोरोनो संकट को देखते हुए यह सुविधा इस साल दी जाएगी।                 

विज्ञप्ति में कहा गया है कि कोरोना संकट में छात्र तथा अभिभावक बहुत ही तनावपूर्ण स्थितियों में गुजर रहे हैं। ऐसे में अभिभावकों की ओर से बोर्ड से इस तरह की मांग लगातार की जा रही है कि 9वीं और 11वीं कक्षा के जो छात्र अपने पेपर में फेल हो गए हो उन्हें एक परीक्षा देने का अवसर प्रदान किया जाए। सीबीएसई ने कहा कि अभिभावकों की मांग को देखते हुए बोर्ड ने यह फैसला किया है कि अगर कोई छात्र 9वीं या 11वीं कक्षा की परीक्षा में फेल हो गया तो उसे एक बार ऑनलाइन या ऑफलाइन या किसी नवाचार तरीके से टेस्ट में बैठने की अनुमति दी जाए। बोर्ड ने कहा कि चाहे स्कूल में परीक्षाएं हो गई हो या नहीं हुई हो छात्रों को यह अवसर एक बार जरूर दिया जाएगा। गौरतलब है कि कोरोना महामारी में सीबीएसई की ओर से पहले ही 8वीं कक्षा के छात्रों को बिना परीक्षा के पास करने का निर्णय हुआ था।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

लिगामेंट चोट में अब नई डबल बंडल तकनीक

एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट घुटनों की चोट में सर्वाधिक चोटिल होने वाला लिगामेंट है। लिगामेंट दो हड्डियों की संरचना को जोड़ने वाली इकाई है, जो हड्डियों की चाल को आसान बनाती है।

08/05/2019

ई-संजीवनी ओपीडी सेवा से मरीजों को कतारों से मिली मुक्ति, घर बैठे मिल रहा परामर्श

कोरोना के चलते आमजन को घर बैठे परामर्श सेवाओं के लिए राज्य सरकार द्वारा ई-संजीवनी ओपीडी सेवा शुरू की गई है। जिससे अस्पतालों में भीड़ नियंत्रण कर संक्रमण को कम किया जा सके और आमजन को सरलता से परामर्श सेवा प्राप्त हो सके। इस सुविधा का आमजन लाभ भी उठा रहे हैं।

21/05/2020

अस्थमा नहीं है लाइलाज, इनहेलेशन थैरेपी है कारगर

अस्थमा एक क्रोनिक (दीर्घावधि) बीमारी है जिसमें श्वास मार्ग में सूजन और श्वास मार्ग की संकीर्णता की समस्या होती है जो समय के साथ कम ज्यादा होती है।

03/05/2019

कोविड और पोस्ट कोविड मरीजों में हार्ट डिजीज का खतरा 15 प्रतिशत ज्यादा, अलर्ट रहने की जरूरत

पश्चिमी देशों के मुकाबले भारत में ह्रदय संबंधित मामले तीन गुना अधिक होते हैं। वहीं अब कोरोना वायरस द्वारा दिल पर बुरा प्रभाव पड़ने से डॉक्टरों की चिंताएं बढ़ा दी है। आंकड़ों के अनुसार कोरोना से संक्रमण होने पर हार्ट डिजीज का खतरा 10 से 15 प्रतिशत तक ज्यादा बढ़ जाता है।

06/01/2021

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

मंत्री रघु शर्मा और सुभाष गर्ग ने SMS अस्पताल को दी कई सौगातें

अस्थि रोग विभाग के नॉर्थ विंग-प्रथम वार्ड के नवीनीकरण का लोकार्पण और अस्पताल में ही स्थित डाटा सेंटर की आईटी सेल का शुभारंभ कर प्रदेशवासियों को सौगात दी।

30/11/2019

इंसुलिनोमा टयूमर की हुई पहचान, मोलिक्यूर फंक्शनल इमेजिंग टेस्ट के जरिए कैंसर की जांच

शरीर में इंसुलिन की मात्रा को तेजी से बढ़ाने वाले कैंसर 'इंसुलिनोमा टयूमर' की पहचान राज्य में पहली बार हुई है। प्रदेश के भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के न्यूक्लियर मेडिसन विभाग में इस रेयर टयूमर को डायग्नोस किया गया है।

11/09/2019