Dainik Navajyoti Logo
Thursday 21st of October 2021
 
स्वास्थ्य

उत्तर भारत में पहली बार कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण, SMS अस्पताल में हुआ सफल लीवर और किडनी ट्रांसप्लांट

Friday, November 13, 2020 10:10 AM
सवाई मानसिंह अस्पताल।

जयपुर। सवाई मानसिंह अस्पताल (एसएमएस अस्पताल) के चिकित्सकों ने एक बार फिर अंग प्रत्यारोपण के क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित किया है। यहां चिकित्सकों ने पहली बार स्वयं के स्तर पर लीवर का ट्रांसप्लांट किया है। इससे पहले दिल्ली स्थित आईएलबीएस अस्पताल के चिकित्सकों के साथ एमओयू के तहत अस्पताल में लीवर ट्रांसप्लांट किए गए, लेकिन पिछले दो साल से अस्पताल के चिकित्सकों के बीच अंदरूनी खींचतान के चलते लीवर ट्रांसप्लांट नहीं हो पाया था, लेकिन अब बुधवार देर रात को एक जरूरतमंद मरीज को लीवर का प्रत्यारोपण किया गया है। वहीं ब्रेन डेथ होने के बाद 16 वर्षीय बच्चे के परिजनों द्वारा हार्ट, लीवर व दोनों किडनी का दान किया गया था। बाद में एसएमएस डॉक्टर्स की टीम ने लीवर व दो गुर्दों का सफलतापूर्वक प्रत्यारोपण किया गया। इस सफलता पर चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भी उत्तर भारत में पहली बार सफलतापूर्वक कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण करने पर एसएमएस प्रबंधन एवं डॉक्टर्स की टीम को बधाई दी है।

हार्ट को भेजा दिल्ली के निजी अस्पताल
एसएमएस अस्पताल के अधीक्षक डॉ. राजेश शर्मा ने बताया कि 11 नवंबर को यूरोलॉजी व गैस्ट्रो सर्जरी विभाग की टीम द्वारा 2 मरीजों को गुर्दा व लीवर प्रत्यारोपण किया गया। उन्होंने बताया कि यह देश में संभवतया पहला मामला है जब एक साथ  कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण किया गया। इसमें एक महिला की उम्र करीब 63 वर्ष थी। दोनों गुर्दे सफलतापूर्वक कार्य कर रहे हैं। गुर्दा प्रत्यारोपण यूरोलॉजी विभाग के विभागाध्यक्ष व वरिष्ठ आचार्य डॉ. एस एस यादव के नेतृत्व में किया गया। गैस्ट्रो सर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. राम डागा के अनुसार लीवर प्रत्यारोपण प्रक्रिया का संचालन डॉ. आर के जैनव ने किया।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी।

21/08/2020

नारायणा हॉस्पिटल में दुर्लभ केस की जटिल सर्जरी, डॉक्टर्स ने बचाई बच्ची की जान

जयपुर के नारायणा हॉस्पिटल में डॉक्टर्स को एक दुर्लभ केस में जटिल सर्जरी कर बच्ची की जान बचाई है। दो साल आठ महीने की काश्वी दिल में छेद, ब्लॉकेज के साथ अत्यंत दुर्लभ जन्मजात विकारों से पीड़ित थी, जिसमें हार्ट और लिवर जैसे महत्वपूर्ण अंग उल्टी दिशा में थे। मामला बेहद जटिल व जोखिम भरा था लेकिन अस्पताल की कार्डियक साइंसेज टीम ने चुनौती स्वीकारी और बच्ची की सफलतापूर्वक सर्जरी की।

03/10/2019

78 वर्षीय बुजुर्ग को मिली राहत, हार्ट वॉल्व का बिना चीरफाड़ के किया प्रत्यारोपण

जयपुर शहर के जगतपुरा स्थित एक निजी अस्पताल में 78 वर्षीय मरीज के हार्ट वॉल्व का बिना किसी चीरफाड़ के सफलतापूर्वक प्रत्यारोपण किया गया है। अस्पताल के वरिष्ठ कार्डियक सर्जन डॉ. समीर शर्मा ने बताया कि मरीज को करीब पांच साल पहले हृदय की नसों में रुकावट के बाद दो स्टंट लगाए गए थे।

05/03/2021

पीठ से महाधमनी में घुसकर जांघ तक पहुंचा मशीन का टुकड़ा, सर्जरी कर पैर बचाया

मार्बल की खदान में हुए एक हादसे में बंदूक की गोली से तेज रफ्तार में मशीन का टुकड़ा कोटा के 35 वर्षीय राजेंद्र कुमार की पीठ से छाती में घुसकर हृदय की महाधमनी को भेदता हुआ अंदर चला गया। ऐसे मामलों में महाधमनी छिलने से आंतरिक रक्तस्त्राव के कारण रोगी के बचने की संभावना न्यूनतम रहती है, लेकिन नारायणा हॉस्पिटल की रेपिड इमरजेंसी रेस्पांस व कार्डियक सर्जरी टीम के संयुक्त प्रयासों से मरीज की जान बच गई।

25/09/2020

सर्जरी में रखे ध्यान, बेहतर होंगे परिणाम

ज्वाइंट रिप्लेसमेंट का मतलब शरीर के किसी भी हिस्से का ज्वाइंट हो सकता है। इसमें घुटनों का बदलना भी शामिल है और हिप रिप्लेसमेंट भी।

14/05/2019

सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोट निभाएंगे महत्वपूर्ण भूमिका

भविष्य में सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोटिक सर्जरी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। इस दिशा में ऐसा ह्यूमनॉइड रोबोट का निर्माण, जो मनुष्यों की न्यूनतम सहायता से सर्जरी कर सके, वर्तमान में सर्वाधिक चर्चा का विषय है।

20/09/2019

वर्ल्ड हार्ट डे आज, कोरोना वायरस ने बढ़ाई हार्ट के मरीजों की परेशानी

कोरोना काल के दौरान सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना हृदय रोगियों को करना पड़ा है। कोरोना के कारण अस्पताल में जाने का डर और इलाज में देरी के कारण ज्यादतर हृदय रोगियों की इस दौरान मौत हो गई, जो कि मरने से पहले या मरने के बाद आई जांच में कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

29/09/2020