Dainik Navajyoti Logo
Saturday 15th of May 2021
 
स्वास्थ्य

उत्तर भारत में पहली बार कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण, SMS अस्पताल में हुआ सफल लीवर और किडनी ट्रांसप्लांट

Friday, November 13, 2020 10:10 AM
सवाई मानसिंह अस्पताल।

जयपुर। सवाई मानसिंह अस्पताल (एसएमएस अस्पताल) के चिकित्सकों ने एक बार फिर अंग प्रत्यारोपण के क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित किया है। यहां चिकित्सकों ने पहली बार स्वयं के स्तर पर लीवर का ट्रांसप्लांट किया है। इससे पहले दिल्ली स्थित आईएलबीएस अस्पताल के चिकित्सकों के साथ एमओयू के तहत अस्पताल में लीवर ट्रांसप्लांट किए गए, लेकिन पिछले दो साल से अस्पताल के चिकित्सकों के बीच अंदरूनी खींचतान के चलते लीवर ट्रांसप्लांट नहीं हो पाया था, लेकिन अब बुधवार देर रात को एक जरूरतमंद मरीज को लीवर का प्रत्यारोपण किया गया है। वहीं ब्रेन डेथ होने के बाद 16 वर्षीय बच्चे के परिजनों द्वारा हार्ट, लीवर व दोनों किडनी का दान किया गया था। बाद में एसएमएस डॉक्टर्स की टीम ने लीवर व दो गुर्दों का सफलतापूर्वक प्रत्यारोपण किया गया। इस सफलता पर चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भी उत्तर भारत में पहली बार सफलतापूर्वक कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण करने पर एसएमएस प्रबंधन एवं डॉक्टर्स की टीम को बधाई दी है।

हार्ट को भेजा दिल्ली के निजी अस्पताल
एसएमएस अस्पताल के अधीक्षक डॉ. राजेश शर्मा ने बताया कि 11 नवंबर को यूरोलॉजी व गैस्ट्रो सर्जरी विभाग की टीम द्वारा 2 मरीजों को गुर्दा व लीवर प्रत्यारोपण किया गया। उन्होंने बताया कि यह देश में संभवतया पहला मामला है जब एक साथ  कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण किया गया। इसमें एक महिला की उम्र करीब 63 वर्ष थी। दोनों गुर्दे सफलतापूर्वक कार्य कर रहे हैं। गुर्दा प्रत्यारोपण यूरोलॉजी विभाग के विभागाध्यक्ष व वरिष्ठ आचार्य डॉ. एस एस यादव के नेतृत्व में किया गया। गैस्ट्रो सर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. राम डागा के अनुसार लीवर प्रत्यारोपण प्रक्रिया का संचालन डॉ. आर के जैनव ने किया।

यह भी पढ़ें:

बिना वेंटीलेटर के भी बच सकती है मरीज की जान

मरीज को वेंटीलेटर में होने वाले संभावित खतरों के बिना ही नई तकनीक से बचाया जा सकता है। अगर उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो वेंटीलेटर पर ले जाए बिना भी उसकी जान बचाई जा सकती है।

16/11/2019

हार्ट फेलियर इलाज के लिए नई दवा मंजूर, हृदय रोगियों को मिलेगी राहत

हाल ही में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने हार्ट फेलियर विद रिड्यूज्ड इजेक्शन फ्रैक्शन (एचएफआरईएफ) से पीड़ित वयस्क मरीजों के इलाज के लिए डैपाग्लिफ्लोजिन नाम की दवा को मंजूरी दी है। इससे दिल की बीमारी और हार्ट फेलियर से होने वाली मरीजों की मौत का जोखिम कम होगा।

29/08/2020

SMS अस्पताल: हार्ट ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को वेलिंलेटर से हटाया, तबीयत में हो रहा सुधार

सवाई मानसिंह अस्पताल (SMS) में जिस मरीज का हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ, उस मरीज को वेंटिलेटर से हटा दिया गया है और उसकी तबीयत में सुधार है।

17/01/2020

WHO ने कोरोना वायरस को दिया COVID-19 नाम, कहा- 18 महीने में तैयार होगी वैक्सीन

दुनिया के अलग-अलग हिस्‍सों में वैज्ञानिक कोरोना वायरस से निपटने की मुहिम में लगे हैं। इस बीच जिनेवा में कोरोना पर दो दिवसीय वैश्विक अध्ययन और नवाचार सम्मेलन में विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम गेब्रेयसेस ने कोरोना को COVID-19 का नाम दिया।

12/02/2020

एक्सप्रेस-वे पर दो दुर्घटनाओं में मां-बेटे सहित आठ लोगों की मौत, 15 घायल

मथुरा : दिल्ली-आगरा यमुना एक्सप्रेस-वे पर आज तड़के सड़क किनारे खड़ी बस को टैंकर ने पीछे से टक्कर मार दिया, जिसके कारण बस के बाहर खड़े लोगों में से छह की मौके पर ही मौत हो गयी.

16/08/2016

78 वर्षीय बुजुर्ग को मिली राहत, हार्ट वॉल्व का बिना चीरफाड़ के किया प्रत्यारोपण

जयपुर शहर के जगतपुरा स्थित एक निजी अस्पताल में 78 वर्षीय मरीज के हार्ट वॉल्व का बिना किसी चीरफाड़ के सफलतापूर्वक प्रत्यारोपण किया गया है। अस्पताल के वरिष्ठ कार्डियक सर्जन डॉ. समीर शर्मा ने बताया कि मरीज को करीब पांच साल पहले हृदय की नसों में रुकावट के बाद दो स्टंट लगाए गए थे।

05/03/2021

सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोट निभाएंगे महत्वपूर्ण भूमिका

भविष्य में सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोटिक सर्जरी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। इस दिशा में ऐसा ह्यूमनॉइड रोबोट का निर्माण, जो मनुष्यों की न्यूनतम सहायता से सर्जरी कर सके, वर्तमान में सर्वाधिक चर्चा का विषय है।

20/09/2019