Dainik Navajyoti Logo
Monday 25th of January 2021
 
स्वास्थ्य

ब्रेन ट्यूमर से थम नहीं जाती जिंदगी, जल्दी जांच और नई तकनीकों से इलाज संभव

Tuesday, June 09, 2020 15:05 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

जयपुर। ब्रेन ट्यूमर की पहचान होने पर अकसर मरीज अपने जीवन की आशा छोड़ देते थे जबकि ब्रेन ट्यूमर से जिंदगी थम नहीं जाती है। चिकित्सा विज्ञान में आई नई तकनीकें ब्रेन ट्यूमर के मरीजों के लिए वरदान साबित हुई हैं। जल्दी जांच करवाकर नई तकनीकों से ब्रेन ट्यूमर का इलाज अब आसानी से संभव है और मरीज अपना जीवन सुखमय व्यतीत कर सकता है। वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर वीक के तहत नारायणा मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल के चिकित्सकों ने इस बीमारी के प्रति लोगों को जागरूक किया। हॉस्पिटल के सीनियर न्यूरो सर्जन डॉ. केके बंसल ने इस दौरान ब्रेन ट्यूमर सर्जरी करके भी लोगों को नया जीवन दिया।

इस मौके पर उन्होंने बताया कि हमारे शरीर में कोशिकाएं लगातार विभाजित होती रहती हैं, कोशिकाएं मरती हैं और उनकी जगह नई कोशिकाएं जन्म लेती हैं। इस व्यवस्था में कई बार किसी कारण से नई कोशिकाएं तो पैदा होती रहती हैं, लेकिन पुरानी कोशिकाएं नहीं मरती है। धीरे-धीरे कोशिकाओं और ऊतकों की एक गांठ बन जाती हैं, जिसे हम ट्यूमर कहते हैं। उन्होंने कहा कि जरूरी नहीं कि सभी ट्यूमर कैंसर के हों। करीब 40 से 50 प्रतिशत मामलों में ट्यूमर साधारण यानी बेनाइन होते हैं और कुछ ही मेलिग्नेंट यानी कैंसर वाले होते हैं।

एंडोस्कोपी सर्जरी से आसान हुआ इलाज
ब्रेन ट्यूमर होने पर इसका इलाज सर्जरी द्वारा ही संभव होता है। अभी तक एंडोस्कोपी की मदद से शरीर के कई अंगों की सर्जरी संभव होने लगी है। अब ब्रेन ट्यूमर के लिए भी इस तकनीक का इस्तेमाल किया जाने लगा है। मिनिमली इन्वेसिव तकनीक से इस मुश्किल सर्जरी में पहले से बेहतर परिणाम सामने आने लगे हैं। एंडोस्कोपिक सर्जरी की सहायता से मरीज को बड़ा चीरा नहीं लगाना होता और की-होल सर्जरी से ही उसका ट्यूमर निकाल दिया जाता है। इससे मरीज की रक्त वाहिकाओं को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचता और कम रक्तस्त्राव से उसकी सर्जरी हो जाती है। एंडोस्कोपिक सर्जरी से मरीज जल्दी रिकवरी कर अपने सामान्य जीवन में लौट सकता है।


ब्रेन ट्यूमर के लक्षण-:

  • सुबह उठने के तुरंत बाद ही सिर में दर्द होना।
  • अचानक उल्टी जैसा महसूस होना।
  • व्यक्ति के व्यवहार में परिवर्तन आना।
  • छोटी-छोटी बातों में चिड़चिड़ाहट होना।
  • आंखों की रोशनी कम होना।


बचाव के उपाय-:

  • तनाव रहित जीवन शैली।
  • भरपूर नींद लें।
  • मोबाइल फोन का सीमित उपयोग करें।
  • खान-पान संतुलित करें।
  • लक्षण दिखने पर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।
यह भी पढ़ें:

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

हार्ट फेलियर इलाज के लिए नई दवा मंजूर, हृदय रोगियों को मिलेगी राहत

हाल ही में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने हार्ट फेलियर विद रिड्यूज्ड इजेक्शन फ्रैक्शन (एचएफआरईएफ) से पीड़ित वयस्क मरीजों के इलाज के लिए डैपाग्लिफ्लोजिन नाम की दवा को मंजूरी दी है। इससे दिल की बीमारी और हार्ट फेलियर से होने वाली मरीजों की मौत का जोखिम कम होगा।

29/08/2020

बिना चीरफाड़ के अत्याधुनिक तकनीक से बदला हार्ट वॉल्व, मरीज की पहले हो चुकी बायपास सर्जरी

अधिक उम्र पर बायपास सर्जरी का इतिहास एवं कैंसर का सफल उपचार करा चुके 73 वर्षीय नरेन शर्मा (परिवर्तित नाम) को फिर से जब हृदय की गंभीर बीमारी हुई तो अत्याधुनिक तकनीक उनके लिए वरदान साबित हुई। ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वॉल्व इम्प्लांटेशन(टावी) द्वारा मरीज की सिकुड़ी हुई एओर्टिक वॉल्व को बिना ओपन चेस्ट सर्जरी के बदल दिया।

06/01/2020

युवाओं और महिलाओं में बढ़ रहे हार्ट फेलियर के मामले, 50 साल से कम उम्र के लोग ज्यादा प्रभावित

जयपुर में एक चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। दरअसल 50 साल से कम आयु वर्ग के मरीजों में हार्ट फेलियर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालांकि आमतौर पर 60 से 65 वर्ष की आयु के लोगों में हार्ट फेलियर होता है।

14/02/2020

नई तकनीकों से संभव है ब्रेन ट्यूमर का इलाज

30 साल के हुलासमल और 50 साल की यशोदा को जब पता चला कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर है तो मानों उनकी जिंदगी जैसे थम सी गई थी। जबकि नई तकनीकों से ब्रेन ट्यूमर का ईलाज संभव है और व्यक्ति जिंदगी पहले की तरह ही जी सकता है।

08/06/2019

CBSE की 10वीं-12वीं की परीक्षा के नतीजे जल्द, 9वीं, 11वीं के छात्रों को फेल होने पर मिलेगा एक और मौका

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन जारी है और 50 दिन के भीतर यह काम पूरा हो जाएगा तथा जल्दी ही परीक्षा के नतीजे आ जाएंगे।

14/05/2020

वर्ल्ड हार्ट डे आज, कोरोना वायरस ने बढ़ाई हार्ट के मरीजों की परेशानी

कोरोना काल के दौरान सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना हृदय रोगियों को करना पड़ा है। कोरोना के कारण अस्पताल में जाने का डर और इलाज में देरी के कारण ज्यादतर हृदय रोगियों की इस दौरान मौत हो गई, जो कि मरने से पहले या मरने के बाद आई जांच में कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

29/09/2020