Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 20th of October 2020
 
स्वास्थ्य

अस्थमा नहीं है लाइलाज, इनहेलेशन थैरेपी है कारगर

Friday, May 03, 2019 13:15 PM
अस्थमा एक क्रोनिक (दीर्घावधि) बीमारी है

जयपुर। अस्थमा एक क्रोनिक (दीर्घावधि) बीमारी है जिसमें श्वास मार्ग में सूजन और श्वास मार्ग की संकीर्णता की समस्या होती है जो समय के साथ कम ज्यादा होती है। बच्चों में अस्थमा के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। डॉक्टर्स का मानना है कि वे बच्चों में अस्थमा के 25-30 नए मामले हर महीने देखते हैं। पिछले एक वर्ष में अस्थमा के पीड़ित मरीजों की संख्या में औसतन पांच फीसदी बढ़ोतरी देखी गई है।

हालांकि पिछले कुछ वर्षों में इन्हेलेशन थेरेपी लेने वाले मरीजों की संख्या बढ़ी है, लेकिन करीब 20 फीसदी अस्थमा पीड़ित किशोरावस्था से पहले ही या किशोरावस्था के दौरान इन्हेलर का उपयोग बंद कर देते हैं। अस्थमा के प्रमुख कारणों में वायु प्रदूषण से लेकर एयर पार्टिकुलेट मैटर्स का बढ़ना, धूम्रपान, बचपन में सही उपचार नहीं होना, मौसम में बदलाव जिसकी वजह से कॉमन फ्लू जैसा वायरल इन्फेक्शन होना और सबसे बड़ी बात मरीजों में इसके प्रति भारी अनदेखी हैं।

इनहेलेशन के प्रति भ्रांति दूर होना जरूरी
जेके लोन हॉस्पिटल के प्रोफेसर एंड यूनिट हैड पल्मोनरी डिजीज डॉ. बी एस शर्मा और फोर्टिस अस्पताल के इंचार्ज पल्मोनरी विभाग डॉ. अंकित बंसल ने बताया कि इनहलेशन थेरेपी के प्रति लोगों की धारणा बदलना बेहद जरूरी है। इन्हेलेशन थेरेपी लोगों के जीवन पर अस्थमा का प्रभाव कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है, इसलिए इसका अनुपालन महत्वपूर्ण है। सांस के माध्यम से औषधिया लेने से वे सीधी फेफड़ों में पहुंचतीं हैं।

लेकिन इसका असर तभी होगा जब मरीज अपने डॉक्टर के साथ सहयोग करे और बताई गई विधि के अनुसार उपचार का प्रयोग करे। इस स्थिति के बारे में लोगों की जानकारी बढ़ाना जरूरी है, क्योंकि भारत में मरीज बीच में ही इनहलेशन थेरेपी बंद कर देते हैं जिसके कारण रोग पर नियंत्रण मुश्किल हो जाता है।

यह भी पढ़ें:

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी।

21/08/2020

ईएसआई मॉडल हॉस्पिटल में मनाया गया विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस

अजमेर रोड स्थित ईएसआई हॉस्पिटल में मनोरोग विभाग की ओर से विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर चिकित्सकों के लिए अवसाद एवं आत्महत्या के उपचार और रोकथाम को लेकर सेमिनार एवं मानसिक स्वास्थ्य प्रदर्शनी का आयोजन किया गया।

10/10/2019

SMS अस्पताल: हार्ट ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को वेलिंलेटर से हटाया, तबीयत में हो रहा सुधार

सवाई मानसिंह अस्पताल (SMS) में जिस मरीज का हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ, उस मरीज को वेंटिलेटर से हटा दिया गया है और उसकी तबीयत में सुधार है।

17/01/2020

गंभीर बीमारियों का इलाज भी होम्योपैथी से संभव

एक ओर जहां पूरा विश्व एलोपैथी दवाइयों और इलाज के पीछे भाग रहा है, वहीं होम्योपैथी पद्धति भी अब कई गंभीर रोगों के इलाज को संभव बना रही है।

10/04/2019

850 ग्राम की जन्मे शिशु ने जीती जिंदगी की जंग, डॉक्टरों की मेहनत लाई रंग

जहां 850 ग्राम की प्री-मैच्योर डिलीवरी हुई बच्ची को बचा लिया गया।

19/10/2019

गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर दिया नया जीवन, मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ

जयपुर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने एक मरीज के गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर उसे नया जीवन दिया है। ऑपरेशन में ट्यूमर को पूरी तरह निकाल दिया गया है। मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है और खाना-पीना कर रहा है। इसके बाद अब मरीज की अस्पताल से छुट्टी कर दी गई है।

19/08/2020

जेके लॉन अस्पताल में अब 'लिसा तकनीक' से होगा नवजात शिशुओं का इलाज

जेके लॉन हास्पिटल में नवजात शिशुओं के फेफड़ों को विकसित करने के लिए अब लिसा तकनीक से उपचार किया जाएगा। जेके लॉन अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता ने बताया कि नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई में इस मशीन को रखा गया है।

18/05/2020