Dainik Navajyoti Logo
Sunday 16th of May 2021
 
स्वास्थ्य

एओर्टिक डिसेक्शन का जटिल ऑपरेशन कर बचाई जान, महात्मा गांधी अस्पताल के डॉक्टर्स ने की ब्लडलेस सर्जरी

Friday, October 09, 2020 11:40 AM
हार्ट सर्जन डॉ. एम ए चिश्ती और उनकी टीम ने की सफल सर्जरी।

जयपुर। शहर के सीतापुरा स्थित महात्मा गांधी अस्पताल के हार्ट सर्जन को एओर्टिक डिसेक्शन का जटिल ऑपरेशन कर एक युवक की जान बचाने में सफलता अर्जित की है। युवक बहुत ही नाजुक स्थिति में महात्मा गांधी अस्पताल में आया था। प्रख्यात हार्ट सर्जन डॉ एम ए चिश्ती ने तुरंत ही बीमारी की पहचान कर ली थी। रोगी को मोरफैंस सिंड्रोम नामक बीमारी की वजह से हृदय की महाधमनी की परतें विभाजित हो गई थी तथा इनमें लीकेज की वजह से एन्युरिज्म यानी फुलाव आकर खून भर गया था। ऐसे  दुर्लभ व जटिल मामले 1 लाख व्यक्तियों में से 1 से 3 रोगी में ही सामने आते है। रोगी का एओर्टिक वाल्व खराब हो गया था और हार्ट, लीवर, किडनी फैलियर की स्थिति थी, जो रोगी के लिए जानलेवा स्थिति होती है, लेकिन अनुभवी चिकित्सकों ने सफल ऑपरेशन के जरिए रोगी को नया जीवन प्रदान किया।

उल्लेखनीय है कि डॉ. चिश्ती को राज्य में पहला हृदय प्रत्यारोपण करने का श्रेय भी हासिल है। महात्मा गांधी अस्पताल के हार्ट सर्जरी विभाग के निदेशक डॉ. चिश्ती के अनुसार रोगी दिल की बीमारी से बीते लगभग 3 साल से पीड़ित था। एओर्टिक वाल्व सामान्यतया 2.5 डाई सेंटीमीटर तक फूलता है फिर नॉर्मल हो जाता है। किंतु इस रोगी के फुलाव 4 गुना बढ़कर 10 डाई सेमी तक हो गया था।

इस प्रकार हुई यह ब्लडलेस सर्जरी
डॉ. चिश्ती ने बताया कि पहले रोगी को मेडिकल मैनेजमेंट के जरिए लीवर व किडनी फेलियर की स्थिति से बाहर निकाला गया। एओर्टा डिसेक्शन के इस जटिल ऑपरेशन में रोगी का खून हार्ट एवं लंग्स मशीन में पहुंचा दिया गया तथा हार्ट को 20 मिनट तक बंद कर दिया गया। ब्रेन को दोनों के एओर्टिक आर्टिज के जरिए ब्लड सप्लाई दी गई। हार्ट को सुरक्षित रखने के लिए कार्डियक प्लीजिया दिया गया। एक विशेष प्रकार का 'डेक्रोम ग्राफ्ट' लगाकर रक्त संचार को सुचारू किया गया। ऑपरेशन 8 घंटे तक चला। इस सर्जरी की विशेष बात यह थी कि सर्जरी के दौरान जरा भी खून का रिसाव नहीं हुआ। इसे ब्लडलेस सर्जरी कहा जाता है। रोगी के ठीक हो जाने पर उसे घर भेज दिया गया। खास बात यह भी है कि दिल्ली व अन्य मेट्रो सिटीज के मुकाबले उपचार खर्च इस सर्जरी में एक चौथाई से भी कम रहा।

यह भी पढ़ें:

आइसक्रीम स्टिक टेक्निक से बोन कैंसर का इलाज, रिकवरी में लगने वाला समय और खर्च भी होगा कम

आइसक्रीम स्टिक टेक्निक बोन कैंसर से जुझ रहे रोगियों के इलाज की नवीनतम तकनीक के रूप में सामने आई है। इस तकनीक की सहायता से रोगी की कैंसर ग्रसित बोन को लिक्विड नाइट्रोजन की सहायता से कैंसर मुक्त करना संभव है।

12/06/2020

CBSE की 10वीं-12वीं की परीक्षा के नतीजे जल्द, 9वीं, 11वीं के छात्रों को फेल होने पर मिलेगा एक और मौका

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन जारी है और 50 दिन के भीतर यह काम पूरा हो जाएगा तथा जल्दी ही परीक्षा के नतीजे आ जाएंगे।

14/05/2020

दक्षिण कोरिया के नौसेना स्टेशन में विस्फोट के बाद एक की मौत, 3 घायल

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्व में एक नौसेना स्टेशन पर एक पनडुब्बी पर मरम्मत के काम के दौरान दुर्घटनावश विस्फोट होने के बाद एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य लापता हैं.

16/08/2016

भारतीयों में आंखों की बढ़ती बीमारी से चिंता

विश्व दृष्टि दिवस पर हाल में जारी एक शोध के नतीजे में कहा गया है कि भारतीयों में दृष्टि दोष या आंखों के कमजोर और बीमार होने के मामले हाल में बहुत बढ गए हैं।

12/10/2019

कोविड और पोस्ट कोविड मरीजों में हार्ट डिजीज का खतरा 15 प्रतिशत ज्यादा, अलर्ट रहने की जरूरत

पश्चिमी देशों के मुकाबले भारत में ह्रदय संबंधित मामले तीन गुना अधिक होते हैं। वहीं अब कोरोना वायरस द्वारा दिल पर बुरा प्रभाव पड़ने से डॉक्टरों की चिंताएं बढ़ा दी है। आंकड़ों के अनुसार कोरोना से संक्रमण होने पर हार्ट डिजीज का खतरा 10 से 15 प्रतिशत तक ज्यादा बढ़ जाता है।

06/01/2021

सिर से आंखों की तरफ बढ़ा ट्यूमर, ऑपरेशन से निकाला

ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित एक महिला मरीज का निजी अस्पताल में ऑपरेशन कर नया जीवन दिया गया है। हरियाणा के सिरसा स्थित गांव डबवाली की निवासी 30 वर्षीय महिला मरीज वीरपाल कौर के सिर दर्द और आंखों के आसपास सूजन बढ़ रही थी। जिसके बाद मरीज की एमआरआई जांच कराई गई।

03/02/2020

सेरेब्रल मलेरिया की दस्तक, चपेट में आई बालिका

डेंगू बुखार और सामान्य मलेरिया के बाद अब प्रदेश में सेरेब्रल मलेरिया ने भी दस्तक दे दी है। इस बीमारी को जानलेवा फालस्पिैरम मलेरिया के नाम से भी जाना जाता है।

18/10/2019