Dainik Navajyoti Logo
Monday 18th of January 2021
 
स्वास्थ्य

एओर्टिक डिसेक्शन का जटिल ऑपरेशन कर बचाई जान, महात्मा गांधी अस्पताल के डॉक्टर्स ने की ब्लडलेस सर्जरी

Friday, October 09, 2020 11:40 AM
हार्ट सर्जन डॉ. एम ए चिश्ती और उनकी टीम ने की सफल सर्जरी।

जयपुर। शहर के सीतापुरा स्थित महात्मा गांधी अस्पताल के हार्ट सर्जन को एओर्टिक डिसेक्शन का जटिल ऑपरेशन कर एक युवक की जान बचाने में सफलता अर्जित की है। युवक बहुत ही नाजुक स्थिति में महात्मा गांधी अस्पताल में आया था। प्रख्यात हार्ट सर्जन डॉ एम ए चिश्ती ने तुरंत ही बीमारी की पहचान कर ली थी। रोगी को मोरफैंस सिंड्रोम नामक बीमारी की वजह से हृदय की महाधमनी की परतें विभाजित हो गई थी तथा इनमें लीकेज की वजह से एन्युरिज्म यानी फुलाव आकर खून भर गया था। ऐसे  दुर्लभ व जटिल मामले 1 लाख व्यक्तियों में से 1 से 3 रोगी में ही सामने आते है। रोगी का एओर्टिक वाल्व खराब हो गया था और हार्ट, लीवर, किडनी फैलियर की स्थिति थी, जो रोगी के लिए जानलेवा स्थिति होती है, लेकिन अनुभवी चिकित्सकों ने सफल ऑपरेशन के जरिए रोगी को नया जीवन प्रदान किया।

उल्लेखनीय है कि डॉ. चिश्ती को राज्य में पहला हृदय प्रत्यारोपण करने का श्रेय भी हासिल है। महात्मा गांधी अस्पताल के हार्ट सर्जरी विभाग के निदेशक डॉ. चिश्ती के अनुसार रोगी दिल की बीमारी से बीते लगभग 3 साल से पीड़ित था। एओर्टिक वाल्व सामान्यतया 2.5 डाई सेंटीमीटर तक फूलता है फिर नॉर्मल हो जाता है। किंतु इस रोगी के फुलाव 4 गुना बढ़कर 10 डाई सेमी तक हो गया था।

इस प्रकार हुई यह ब्लडलेस सर्जरी
डॉ. चिश्ती ने बताया कि पहले रोगी को मेडिकल मैनेजमेंट के जरिए लीवर व किडनी फेलियर की स्थिति से बाहर निकाला गया। एओर्टा डिसेक्शन के इस जटिल ऑपरेशन में रोगी का खून हार्ट एवं लंग्स मशीन में पहुंचा दिया गया तथा हार्ट को 20 मिनट तक बंद कर दिया गया। ब्रेन को दोनों के एओर्टिक आर्टिज के जरिए ब्लड सप्लाई दी गई। हार्ट को सुरक्षित रखने के लिए कार्डियक प्लीजिया दिया गया। एक विशेष प्रकार का 'डेक्रोम ग्राफ्ट' लगाकर रक्त संचार को सुचारू किया गया। ऑपरेशन 8 घंटे तक चला। इस सर्जरी की विशेष बात यह थी कि सर्जरी के दौरान जरा भी खून का रिसाव नहीं हुआ। इसे ब्लडलेस सर्जरी कहा जाता है। रोगी के ठीक हो जाने पर उसे घर भेज दिया गया। खास बात यह भी है कि दिल्ली व अन्य मेट्रो सिटीज के मुकाबले उपचार खर्च इस सर्जरी में एक चौथाई से भी कम रहा।

यह भी पढ़ें:

SMS अस्पताल में कैंसर रोगियों को मिलेंगी आधुनिक सुविधाएं

एसएमएस अस्पताल में अब कैंसर सर्जरी और मेडिसिन विभाग के भर्ती मरीजों को अत्याधुनिक वातानुकूलित वार्ड की सुविधा मिलना शुरू हो गई है।

13/04/2019

बिना वेंटीलेटर के भी बच सकती है मरीज की जान

मरीज को वेंटीलेटर में होने वाले संभावित खतरों के बिना ही नई तकनीक से बचाया जा सकता है। अगर उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो वेंटीलेटर पर ले जाए बिना भी उसकी जान बचाई जा सकती है।

16/11/2019

जेके लॉन अस्पताल में अब 'लिसा तकनीक' से होगा नवजात शिशुओं का इलाज

जेके लॉन हास्पिटल में नवजात शिशुओं के फेफड़ों को विकसित करने के लिए अब लिसा तकनीक से उपचार किया जाएगा। जेके लॉन अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता ने बताया कि नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई में इस मशीन को रखा गया है।

18/05/2020

विश्व के 83 और भारत के 89 प्रतिशत लोग तनाव में जी रहे : वांगचुक

जयपुरिया इंस्टीट्यूट आॅफ मैनेजमेंट, जयपुर में सोमवार को भूटान के पूर्व शिक्षा मंत्री नोरबू वांगचुक का हैप्पीनेस लैसंस फ्रॉम भूटान विषय पर इंटरेनशनल गेस्ट सैशन आयोजित किया गया।

05/11/2019

गर्दन में डैंस की हड्डी का डॉक्टरों ने किया सफल ऑपरेशन

रामअवतार यादव उंचाई से गिर गया था, जिसके कारण उसकी गर्दन में गहरी चोट लग गई थी। एक्स-रे में सामने आया कि मरीज की गर्दन में डैंस की हड्डी का फैक्चर है।

19/10/2019

घिसा कूल्हे का जोड़, आयुर्वेद से हुआ ठीक, अब बॉडी बिल्डिंग में स्थापित किए नए आयाम

जयपुर का एक युवक कूल्हे के जोड़ खराब होने के कारण चलने फिरने में अक्षम हो गया था, लेकिन आयुर्वेदिक पद्धति ने उसे नया जीवन दिया। डेढ़ साल में ही युवक को इस लायक बना दिया कि अब वह जिला और राज्य स्तर तक की प्रतिष्ठित बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिताओं का विजेता तक बन चुका है।

26/11/2019

एसएमएस अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में बनेगा स्पेशियलिटी क्लीनिक

सवाई मानसिंह अस्पताल में अब मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया एवं मूवमेंट डिस ऑर्डर के मरीजों के लिए राहत की खबर है। इन मरीजों के लिए अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में जल्द ही स्पेशियलिटी क्लीनिक शुरू की जाएगी।

22/11/2019