Dainik Navajyoti Logo
Thursday 20th of January 2022
 
स्वास्थ्य

जनजागरुकता से ही एड्स जैसी बीमारी को दी जा सकती है मात

Wednesday, December 01, 2021 15:45 PM
एड्स नियंत्रण के लिए बेहतरीन कार्य करने वाले अधिकारियों, कार्मिकों और रेड रिबन क्लब के सदस्यों को प्रशस्ति पत्र देकर भी सम्मानित किया।

जयपुर। ओटीएस में विश्व एड्स दिवस के मौके पर बुधवार को  राज्य स्तरीय समारोह आयोजित हुआ। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने शिरकत की। उन्होंने कहा कि एड्स पीडित नियमित दवाओं के सेवन से सामान्य जीवन यापन कर सकता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेशवासियों को चिंरजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के जरिए 5 लाख रुपए तक का ​बीमा दिया जा रहा है। राज्य सरकार जरूरतंमद लोगों की निशुल्क दवाएं और निशुल्क जांचें कर मुख्यमंत्री के निरोगी राजस्थान ​के संकल्प को साकार कर रही है। उन्होंने जोखिम वाली बीमारियों के मरीजों को आगे आकर जांच करवाने का आव्हान किया।

जनजागरुकता से ही एड्स जैसी बीमारी को दी जा सकती है मात
चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि समाज में जनजागरुकता लाकर ही एचआईवी/एड्स बीमारी के खिलाफ जंग को सशक्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि सावधानी और सतर्कता के जरिए ही हम अपनी पीढ़ियों को सुरक्षित कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा प्रशासन शहरों एवं गांवों के संग अभियान में भी मरीजों की स्क्रीनिंग कर निशुल्क दवाएं दी जा रही हैं। सरकार का लक्ष्य 2030 तक प्रदेश को एड्स मुक्त बनाना है।


सरकार की कोशिश जरूरतमंद और गरीब तबके के मिले चिकित्सा सुविधा
चिकित्सा मंत्री ने कहा कि सरकार जरूरतमंद और गरीब तबके के लोगों तक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की हरसंभव कोशिश कर रही है। विभाग द्वारा एचआईवी/एड्स बीमारी के साथ जी रहे लोगों को विभिन्न सामाजिक सुरक्षा योजनाओं से लाभान्वित किया जा रहा है। उन्होंने एड्स पीडितों के लिए कार्य कर रही संस्थाओं की दिल खोलकर प्रशंसा करते हुए कहा कि संस्थाएं ऐसे लोगों को मुख्यधारा में लाने का अनुकरणीय कार्य कर रही है। इस अवसर पर एड्स नियंत्रण के लिए बेहतरीन कार्य करने वाले अधिकारियों, कार्मिकों और रेड रिबन क्लब के सदस्यों को प्रशस्ति पत्र देकर भी सम्मानित किया।

कार्यक्रम में टांसजेडर समुदाय से 'नई भोर' संस्था की पुष्पा गिदवानी और एड्स बीमारी को मात देकर आई शकीरा खान ने भी अपने विचार व्यक्त किए। एड्स कंटोल सोसायटी के निदेशक डॉ रवि प्रकाश शर्मा ने बताया कि विभाग द्वारा प्रदेश में व्यापक स्तर पर जनजागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं। सभी चिकित्सा संस्थानों में जांच और दवाओं की सुविधा उपलब्ध है। कोई भी मरीज बिना किसी संकोच के उपचार प्राप्त कर सकता है। इस अवसर पर एड्स कंटोल सोसायटी के अतिरिक्त निदेशक डॉ एमएम मित्तल, विभाग के अधिकारीगण, नर्सिंगकर्मी एवं बड़ी संख्या में नर्सिंग कॉलेजों के छात्र—छात्राएं उपस्थित रहे।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

गतिहीन शुक्राणु लेकिन लेजर आईवीएफ पद्धति से पितृत्व सुख

उदयपुर। जयपुर के अविनाश कुमार के रूप में (बदला नाम) के शुक्राणु गतिहीन होने का एक अनूठा मामला सामने आया है।

23/09/2019

बिना चीरफाड़ के अत्याधुनिक तकनीक से बदला हार्ट वॉल्व, मरीज की पहले हो चुकी बायपास सर्जरी

अधिक उम्र पर बायपास सर्जरी का इतिहास एवं कैंसर का सफल उपचार करा चुके 73 वर्षीय नरेन शर्मा (परिवर्तित नाम) को फिर से जब हृदय की गंभीर बीमारी हुई तो अत्याधुनिक तकनीक उनके लिए वरदान साबित हुई। ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वॉल्व इम्प्लांटेशन(टावी) द्वारा मरीज की सिकुड़ी हुई एओर्टिक वॉल्व को बिना ओपन चेस्ट सर्जरी के बदल दिया।

06/01/2020

जयपुर मैराथन : दौड़ लगाकर जयपुरवासियों ने दिया अच्छी फिटनेस रखने का संदेश

कड़ाके की ठंड के बावजूद संडे के दिन देर तक सोने के बजाय देशभर से आए धावकों ने जयपुर मैराथन के 11वें सीजन में भाग लिया। इस दौरान बच्चे, युवा, बुजुर्गों के संग पुलिस, भारतीय सेना और विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ता दौड़े।

03/02/2020

3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से कैंसर ग्रस्त रहे मरीज का जबड़ा फिर लगा

दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल के चिकित्सकों ने अपनी तरह की अनूठी एवं पहली शल्य क्रिया के तहत 3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से एक मरीज का जबड़ा पुननिर्मित करके उसे फिर से खाना खाने में सक्षम बना दिया है।

19/02/2020

ओमिक्रॉन से लहर की आशंका, फुल वैक्सीनेशन पर चिंता

60 लाख अब भी वैक्सीन से कर रहे परहेज 52 लाख दूसरी डोज लेने में लापरवाह

23/12/2021

नई तकनीकों से कार्डियक सर्जरी और आसान, नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का बदल रहा ट्रेंड

नई जांच तकनीकों और एंजियोप्लास्टी में काम आने वाले नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का ट्रेंड बदल रहा है और जटिल केस भी आसानी से हो रहे हैं। शहर के सीनियर कार्डियोलोजिस्ट डॉ. जितेंद्र मक्कड़ ने बताया कि इंट्रावस्कुलर अल्ट्रासाउंड (आइवीस) तकनीक से आर्टरी की सिकुड़न, ब्लॉकेज की लंबाई और कठोरता, आर्टरी में जमे कैल्शियम के बारे में पता चलता है

17/03/2021

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी।

21/08/2020