Dainik Navajyoti Logo
Monday 30th of March 2020
 
स्वास्थ्य

WHO ने कोरोना वायरस को दिया COVID-19 नाम, कहा- 18 महीने में तैयार होगी वैक्सीन

Wednesday, February 12, 2020 13:30 PM
मीडिया से बात करते हुए डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस अदनोम घेब्रेयसेस।

जिनेवा। दुनिया के अलग-अलग हिस्‍सों में वैज्ञानिक कोरोना वायरस से निपटने की मुहिम में लगे हैं। इस वायरस से लड़ने का टीका विकसित करने के लिए लाखों डॉलर के अभियान में ऑस्ट्रेलिया, चीन, फ्रांस, जर्मनी और अमेरिका की कई कंपनियां, संस्थान और वैज्ञानिक नई तकनीक का भी सहारा ले रहे हैं। मंगलवार को जिनेवा में न्यू कोरोना वायरस पर दो दिवसीय वैश्विक अध्ययन और नवाचार सम्मेलन में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेब्रेयसेस ने न्यू कोरोना वायरस को COVID-19 का नाम दिया।

उन्होंने कहा कि चीन में कोरोना के 99 फीसदी मामले पाए गए हैं, इसलिए यह उस देश के लिए एक आपदा है, लेकिन पूरे विश्व के लिए भी बहुत बड़ा खतरा है। दो दिवसीय इस संगोष्ठी में वैज्ञानिक कोरोना वायरस के फैलने और इसका संभावित टीका विकसित करने पर विचार करेंगे। टेड्रोस ने कहा कि सबसे जरूरी है कि इस वायरस को फैलने से रोका जाए और जिंदगियां बचाई जाएं। आपके सहयोग से हम यह मिलकर कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि अब हमारे पास बीमारी के लिए नाम है और यह कोविड-19 है। उन्होंने नाम की व्याख्या करते हुए कहा कि ‘‘को’’ का मतलब ‘‘कोरोना’’, ‘‘वि’’ का मतलब ‘‘वायरस’’ और ‘‘डी’’ का मतलब ‘‘डिसीज’’ (बीमारी) है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के लिए पहला टीका 18 महीनों के भीतर तैयार किया जाएगा। टेड्रोस ने कहा कि कोरोना वायरस का प्रकोप पूरी दुनिया के लिए बहुत गंभीर खतरा है और इसे लोगों के दुश्मन नंबर 1 के रूप में देखा जाना चाहिए। टेड्रोस ने सभी देशों से आग्रह किया कि वे वायरस का पता लगाने और उसमें शामिल होने के लिए कदम उठाएं।

टेड्रोस ने कुछ सरकारों के आतंकवाद विरोधी उपायों का जिक्र करते हुए कहा कि एक वायरस हमला किसी भी आतंकवादी हमले की तुलना में राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक उथल-पुथल पैदा करने में अधिक शक्तिशाली है। उन्होंने कहा कि किसी भी आतंकवादी कार्रवाई की तुलना में एक वायरस के अधिक घातक परिणाम हो सकते हैं। टेड्रोस ने आशा जताई कि विभिन्न पक्ष संबंधित मुद्दों पर सहमति हासिल करेंगे और योजना बनाएंगे।

उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन दुनिया भर के 400 से अधिक वैज्ञानिकों के साथ विचार-विमर्श कर रहा है। रोडमैप बनाना भी महत्वपूर्ण है, जिससे संबंधित संगठनों को साफ दिशा दी जाएगी और सार्वजनिक स्वास्थ्य पर बड़ा प्रभाव पड़ेगा। टेड्रोस ने कहा कि पहला टीका 18 महीनों के भीतर सामने आएगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मरीजों के इलाज और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की रक्षा के लिए संबंधित सामग्रियों को विभिन्न देशों में पहुंचाया है। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय सहयोग मजबूत करने की अपील भी की।

यह भी पढ़ें:

दक्षिण कोरिया के नौसेना स्टेशन में विस्फोट के बाद एक की मौत, 3 घायल

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्व में एक नौसेना स्टेशन पर एक पनडुब्बी पर मरम्मत के काम के दौरान दुर्घटनावश विस्फोट होने के बाद एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य लापता हैं.

16/08/2016

वैज्ञानिकों को मिली बड़ी सफलता, खोजा ऐसा वायरस जो हर तरह के कैंसर का करेगा खात्मा

दुनियाभर के साथ ही भारत में भी कैंसर की बीमारी तेजी से फैल रही है। इस खतरनाक बीमारी की वजह से हर साल करीब 8 लाख लोगों की मौत हो जाती है। ऐसे में वैज्ञानिकों ने एक ऐसा वायरस खोजा है जो हर तरह के कैंसर को खत्म कर सकता है।

11/11/2019

नई तकनीकों से संभव है ब्रेन ट्यूमर का इलाज

30 साल के हुलासमल और 50 साल की यशोदा को जब पता चला कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर है तो मानों उनकी जिंदगी जैसे थम सी गई थी। जबकि नई तकनीकों से ब्रेन ट्यूमर का ईलाज संभव है और व्यक्ति जिंदगी पहले की तरह ही जी सकता है।

08/06/2019

नारायणा हॉस्पिटल में दुर्लभ केस की जटिल सर्जरी, डॉक्टर्स ने बचाई बच्ची की जान

जयपुर के नारायणा हॉस्पिटल में डॉक्टर्स को एक दुर्लभ केस में जटिल सर्जरी कर बच्ची की जान बचाई है। दो साल आठ महीने की काश्वी दिल में छेद, ब्लॉकेज के साथ अत्यंत दुर्लभ जन्मजात विकारों से पीड़ित थी, जिसमें हार्ट और लिवर जैसे महत्वपूर्ण अंग उल्टी दिशा में थे। मामला बेहद जटिल व जोखिम भरा था लेकिन अस्पताल की कार्डियक साइंसेज टीम ने चुनौती स्वीकारी और बच्ची की सफलतापूर्वक सर्जरी की।

03/10/2019

850 ग्राम की जन्मे शिशु ने जीती जिंदगी की जंग, डॉक्टरों की मेहनत लाई रंग

जहां 850 ग्राम की प्री-मैच्योर डिलीवरी हुई बच्ची को बचा लिया गया।

19/10/2019

थ्रीडी टेक्नोलॉजी से दिया न्यूरो सर्जरी का लाइव डेमो, 12 साल की एकता का सफल ऑपरेशन

एसएमएस अस्पताल के न्यूरो सर्जरी विभाग में पहली बार एक्सप्लोर क्रेनिया वर्टिब्रल जंक्शन वर्कशॉप का आयोजन किया गया। एम्स नई दिल्ली सहित देश के नामचीन न्यूरो सर्जन्स ने तिरछी रीढ़ की हड्डी को सीधी करने तथा क्रिमियो वर्टिब्रल जंक्शन के फ्रैक्चर के थ्रीडी तकनीक से लाइव ऑपरेशन किए।

30/12/2019

क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप संपन्न, वेंटीलेटर पर बदलेगा सांस लेने का पैटर्न, बचेगी जान

खासाकोठी सर्किल स्थित एक होटल में संपन्न हुई दो दिवसीय इंटरनेशनल क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने गंभीर मरीजों को बचाने की नई तकनीकों पर चर्चा की।

18/11/2019