Dainik Navajyoti Logo
Friday 14th of May 2021
 
स्वास्थ्य

Video: मेंढक के स्टेम सेल से बनाया दुनिया का पहला जिंदा रोबोट, जो करेगा कैंसर का इलाज

Wednesday, January 15, 2020 14:25 PM
फोटो साभार, यूट्यूब University of Vermont

न्यूयॉर्क। अमेरिकी वैज्ञानिकों ने साइंस वर्ल्ड में एक और नया ऐतिसाहिक अध्याय जोड़ दिया है, जिसकी चर्चा दुनियाभर में हो रही है। अफ्रीकी मेंढक के स्टेम सेल से अमेरिका के वैज्ञानिकों ने दुनिया का पहला जिंदा और सबसे छोटा रोबोट तैयार किया है, जिसका आकार में इंच के 25वें भाग यानी 1 मिमी जितना है।

 

इस रोबोट की खास बात यह है कि यह इंसान के शरीर में आसानी के साथ घूम-फिर और तैर सकता है। साथ ही हफ्तों तक बिना भोजन के जीवित रह सकता है। समूह में काम करने वाले वाले इस सूक्ष्म रोबोट का उपयोग कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने या समुद्र से माइक्रोप्लास्टिक्स को हटाने के लिए किया जा सकता है।

अमेरिका की वर्मोंट और टफ्ट्स यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने यह रोबोट तैयार किया है, इसे ‘जेनोबोट्स’ नाम दिया है। वर्मोंट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस विशेषज्ञ जोश बोंगार्ड के मुताबिक यह एक तरह की अनूठी मशीन की तरह है, यह ना तो रोबोट है और ना ही किसी जानवर की प्रजाति है, यह एक प्रकार की जीवित मशीन है, जिसे किसी इंसान के इलाज में काम में लिया जा सकता है, जो बहुत ही कारगर साबित होगी। खास बात यह भी है कि जेनोबोट्स में खुद का इलाज करने की भी क्षमता है।

यह भी पढ़ें:

ये 'मेडिकल ATM' चंद मिनटों में करेगा 58 तरह की मेडिकल जांच

देश में जल्दी ही बिना कठिनाई और अत्यधिक तेज मेडिकल जांच हर किसी के लिए संभव हो सकेगी। ऐसा एटीएम जैसे एक कियोस्क के कारण होगा। जो लोगों के लिए 58 तरह के अधिक बुनियादी और उन्नत पैथोलॉजी परीक्षणों की सुविधा देगा और अपनी रिपोर्ट भी तत्काल दे देगा।

04/10/2019

वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे: बच्चों में इन लक्षणों को ना करें अनदेखा, हो सकता है ब्रेन कैंसर

बच्चों में ब्लड कैंसर के बाद सर्वाधिक होने वाला कैंसर ब्रेन ट्यूमर है। नेशनल हेल्थ प्रोग्राम की ओर से जारी एक रिपोर्ट के अनुसार बड़ों के मुकाबले बच्चों में यह बीमारी ज्यादा तेजी से बढ़ रही है। इसके लक्षणों को अनदेखा करना हजारों बच्चों के अकाल मौत का कारण बन रहा है।

08/06/2020

इंसुलिनोमा टयूमर की हुई पहचान, मोलिक्यूर फंक्शनल इमेजिंग टेस्ट के जरिए कैंसर की जांच

शरीर में इंसुलिन की मात्रा को तेजी से बढ़ाने वाले कैंसर 'इंसुलिनोमा टयूमर' की पहचान राज्य में पहली बार हुई है। प्रदेश के भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के न्यूक्लियर मेडिसन विभाग में इस रेयर टयूमर को डायग्नोस किया गया है।

11/09/2019

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लेकर आपातकाल किया घोषित

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 212 हो गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लगातार बढ़ने के कारण अंतर्राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया है।

31/01/2020

लॉकडाउन में 10 हजार से ज्यादा कैंसर मरीजों का किया इलाज, WHO के सुरक्षा नियमों को अपनाते हुए उपचार

कैंसर रोगियों को समय पर उपचार मिले और उनकी बीमारी को फैलने से रोका जा सके इसके लिए लॉकडाउन के समय में भी भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर जयपुर की ओर से 10 हजार से ज्यादा कैंसर रोगियों को उपचार सुविधाएं उपलब्ध कराई गई।

15/06/2020

सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोट निभाएंगे महत्वपूर्ण भूमिका

भविष्य में सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोटिक सर्जरी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। इस दिशा में ऐसा ह्यूमनॉइड रोबोट का निर्माण, जो मनुष्यों की न्यूनतम सहायता से सर्जरी कर सके, वर्तमान में सर्वाधिक चर्चा का विषय है।

20/09/2019

दृढ़ इच्छा शक्ति और उचित इलाज से कैंसर को हराना होना चाहिए हमारा लक्ष्य: गहलोत

विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि हमारा लक्ष्य उचित उपचार एवं इच्छा शक्ति के माध्यम से कैंसर को हराने का होना चाहिए। सकारात्मक सोच, प्रतिरोध क्षमता और काबू पाने का दृढ़ संकल्प कैंसर के खिलाफ लड़ाई लड़ने में एक लंबा रास्ता तय करेगा।

04/02/2020