Dainik Navajyoti Logo
Saturday 5th of December 2020
 
स्वास्थ्य

SMS अस्पताल के चिकित्सकों ने किया कमाल, हार्ट का ऑपरेशन कर जन्मजात विकृति की दूर

Tuesday, November 17, 2020 13:30 PM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। प्रदेश के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल के कार्डियो थोरेसिक विभाग ने एक जटिल ऑपरेशन कर 19 वर्षीय किशोरी के हृदय की जन्मजात विकृति को दूर करने में सफलता हासिल की है। इसमें चिकित्सकों ने यह ऑपरेशन बिना छाती की हड्डी कांटे एक छोटा सा चीरा लगाकर अंजाम दिया है। कार्डियोथोरेसिक विभाग की इस उपलब्धि पर अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सकों ने प्रसन्नता व्यक्त की है। इससे पहले यहीं पर उत्तर भारत का सबसे पहला हृदय प्रत्यारोपण भी किया गया था।

कार्डियोथोरेसिक विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. अनिल शर्मा ने बताया कि मरीज ममता पुत्री जोगाराम (आयु 19 वर्ष, निवासी-दाबली सारा छावा, बाड़मेर) को जन्म से ही सांस फूलने, छाती में दर्द व अत्यधिक थकान की शिकायत थी। वह अपनी दिनचर्या का कोई भी काम ठीक से नहीं कर पाती थी। मरीज की जांच करने पर पाया गया कि मरीज को एवी कैनाल डिफेक्ट विद वेंट्रिकूलर सेप्टल डिफेक्ट विद सिवियर माईट्रल एण्ड ट्राईकस्पिड लीक विद पल्मोनरी आर्टिरियल हाईपरटेंशन की बीमारी थी, जो की लगभग 1000 में से मात्र 1 या उससे भी कम लोगो में होती है, जो वयस्कों में भी पाई जा सकती है।

ममता के मिट्रल वाल्व की कोर्डे और ट्राईकस्पिड वाल्व की कोर्ड आपस में उलझी हुई थी, जिसे रिपेयर कर पाना काफी मुश्किल था। उसका ऑपरेशन ऑपरेशन छाती की हड्डी काट कर ही किया जा सकता था और ऐसा ऑपरेशन बिना छाती की हड्डी काटे भी संभव नहीं है। मरीज की उम्र 19 वर्षीय एवं लड़की होने की वजह से सामने दिखते हुए चीरे की वजह से उसकी शादी में अड़चन ना आए, ऐसे में चिकित्सकों ने करीब 3 घंटे तक विचार कर इस ऑपरेशन को बिना छाती की हड्डी काटे तथा बिना जांघ पर चीरा लगाए पूरा करने की योजना बनाई। चिकित्सकों ने पूरी योजना के बाद यह ऑपरेशन करीब 9 सेंटीमीटर का छाती पर चीरा लगाकर अंजाम दिया है।

इस ऑपरेशन में मरीज के एक 1 सेमी बड़ा वेन्टीकूलर सेप्टल डिफेक्ट रिपेयर किया गया। इसकी माईट्रल वाल्व लीफलेट 5-0 प्रोरोलीन से रिपेयर की गई, साथ ही ट्राईकस्पिट वाल्व की लीफलेट पेच से रिपेयर की गई। इस तरह का ऑपरेशन एशिया में संभवतः पहली बार बिना छाती की हड्डी काटे एसएमएस के डॉक्टर्स की टीम ने किया है। इस ऑपरेशन की सफलता में डॉ. अनिल शर्मा के साथ डॉ. सुनील दीक्षित, डॉ. मोहित शर्मा, डॉ के. के. मावर, डॉ. ध्रुव, डॉ. प्रमोद, डॉ. जमना राम, डॉ. राजेंद्र सर्जन रहे एवं एनेस्थीसिया में डॉ. रीमा एवं डॉ. इंदु रहे।

बता दें कि अभी तक ह्रदय के जो मिनिमल इनवेसिव ऑपरेशन होते है उनमे छाती पर चार अलग-अलग छोटे चीरे लगाए जाते है ताकि उपकरण आसानी से छाती में प्रवेश कर सके एवं उसके अलावा एक चीरा जांघ में लगाया जाता है जिसके द्वारा जांघ की फेमोरल धमनी एवं शिरा (आर्टरी एवं वेन) के द्वारा रक्त संचार प्रणाली को ऑपरेशन के दौरान नियंत्रित किया जा सके। इस प्रकार की सर्जरी के लिए विशिष्ट प्रकार का ऑपरेशन थिएटर, विशेष ट्रेंड स्टाफ एवं उपकरणों की आवश्यकता होती है। डॉ. शर्मा और उनकी टीम द्वारा बिना छाती की हड्डी काटे एक ही चीरे द्वारा जन्मजात विकृति की यह सफल सर्जरी एसएमएस अस्पताल की ऐतिहासिक उपलब्धि है।

यह भी पढ़ें:

दक्षिण कोरिया के नौसेना स्टेशन में विस्फोट के बाद एक की मौत, 3 घायल

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्व में एक नौसेना स्टेशन पर एक पनडुब्बी पर मरम्मत के काम के दौरान दुर्घटनावश विस्फोट होने के बाद एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य लापता हैं.

16/08/2016

प्रदेश में खुलेगा पहला सरकारी होम्योपैथी कॉलेज, चिकित्सा मंत्री ने की घोषणा

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि अन्य चिकित्सा पद्धतियों के साथ लोगों में होम्योपैथी के प्रति भी विश्वास बढ़ रहा है। यही वजह है कि सरकार ने 24 तरह की होम्योपैथी दवाओं को ‘ट्रिपल ए’ यानी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी और एएनएम के जरिए आमजन तक पहुंचाने की योजना बनाई है।

05/12/2019

घिसा कूल्हे का जोड़, आयुर्वेद से हुआ ठीक, अब बॉडी बिल्डिंग में स्थापित किए नए आयाम

जयपुर का एक युवक कूल्हे के जोड़ खराब होने के कारण चलने फिरने में अक्षम हो गया था, लेकिन आयुर्वेदिक पद्धति ने उसे नया जीवन दिया। डेढ़ साल में ही युवक को इस लायक बना दिया कि अब वह जिला और राज्य स्तर तक की प्रतिष्ठित बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिताओं का विजेता तक बन चुका है।

26/11/2019

वैज्ञानिकों का दावा, टी सेल थैरेपी से ठीक किया जा सकता है कैंसर

वैज्ञानिकों ने दावा किया कि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानि इम्यूनिटी को बढ़ाकर हर तरह के कैंसर से लड़ सकते हैं।

22/01/2020

चीन से भारतीयों को निकालने के लिए रवाना हुआ एयर इंडिया का विमान

एयर इंडिया की विशेष उड़ान शुक्रवार सुबह मुंबई से रवाना हुई। बोइंग 747 विमान रास्ते में दिल्ली से मेडिकल किट लेकर चीन जाएगा।

31/01/2020

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां के इलाज के लिए सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है।

03/10/2019

घुटने के टिश्यू निकालकर की कंधे की दुर्लभ सर्जरी

शहर के मानसरोवर स्थित इंडस हॉस्पिटल में झुंझुनूं निवासी 45 वर्षीय अमरचंद के घुटने के टिश्यू निकालकर कंधे की सफल सर्जरी की गई।

20/04/2019