Dainik Navajyoti Logo
Thursday 4th of June 2020
 
स्वास्थ्य

मंत्री रघु शर्मा और सुभाष गर्ग ने SMS अस्पताल को दी कई सौगातें

Saturday, November 30, 2019 13:25 PM
मीडिया से बात करते चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा, साथ में चिकित्सा राज्य मंत्री सुभाष गर्ग व अन्य

जयपुर। प्रदेश के चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा और चिकित्सा राज्य मंत्री सुभाष गर्ग ने शनिवार को एसएमएस अस्पताल के ब्लड बैंक ‘न्यू ब्लड कॉम्पोनेंट सेपरेशन‘ यूनिट, अस्थि रोग विभाग के नॉर्थ विंग-प्रथम वार्ड के नवीनीकरण का लोकार्पण और अस्पताल में ही स्थित डाटा सेंटर की आईटी सेल का शुभारंभ कर प्रदेशवासियों को सौगात दी।
 
डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि 55 लाख रुपए की लागत से निर्मित ‘न्यू ब्लड कॉम्पोनेंट सेपरेशन‘ यूनिट लगने से यूनिट में रक्त और अवयव बनाए जा सकेंगे तथा एसडीपी या प्लेटलेट्स भी तैयार की जा सकेंगी। इसके अलावा 30 लाख रुपए की लागत से नॉर्थ विंग-प्रथम वार्ड को नवीनीकृत किया है, जिससे अस्थि रोग विभाग में भर्ती मरीजों को बेहतर सुविधा मिल पाएगी। उन्होंने बताया कि चिकित्सालय में 12 लाख की लागत से नवनिर्मित डाटा सेंटर की आईटी सेल का भी शुभारंभ किया। इससे मरीजों के आईपीडी, ओपीडी, सर्जरी से जुड़े सभी डाटाज और जरूरी जानकारी मिल सकेगी। यहां एसएमएस और इससे संबद्ध अस्पतालों के डाटा को केंद्रीयकृत किया जा सकेगा साथ ही पेशेंट की केसेज की हिस्ट्री रखने में भी मदद मिलेगी।

चिकित्सा मंत्री ने एमएमएस अस्पताल के सुश्रुत सभागार में आयोजित रक्तदाता सम्मान समारोह में भी शिरकत की और प्रदेश में रक्तदान के लिए उल्लेखनीय कार्य कर रहे संस्थानों और व्यक्तियों को भी सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के दूरदराज के क्षेत्रों में रक्तदान की सुविधाएं बढ़ाने के लिए पिछले दिनों 5 करोड़ 8 लाख रुपए लागत के 14 रक्त संग्रहण एवं परिवहन वाहनों को रवाना किया है, जो कि सातों संभागों के मुख्यालयों सहित 14 जिलों में स्वैच्छिक रक्तदाताओं से रक्त संग्रहण कर संबंधित जिलों के ब्लड बैंकों को सौपेंगे।

डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि रक्तदान में सामाजिक सहयोग की भावना होना बेहद जरूरी है। सरकार रक्तदान के प्रति और अधिक जागरूकता लाने और इसके संग्रहण के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। इस अवसर पर लाड़ली रक्त सेवा योजना और कैंसर पीड़ित बच्चों के लिए रक्त योजना के पोस्टर्स का भी विमोचन किया गया। 
 
चिकित्सा राज्यमंत्री सुभाष गर्ग ने इस अवसर पर संबोधित करते हुए कहा कि जयपुर के एसएमएस ब्लड बैंक विभाग द्वारा हर साल 1 लाख 40 हजार ब्लड व अन्य अवयव (कॉम्पोनेंट) मरीजों को उपलब्ध कराए जाते हैं, जो कि  बड़ी उपलब्धि की बात है। उन्होंने चिकित्सकों को आव्हान करते हुए कहा कि मेडिकल बहुत नोबल प्रोफेशन है, इसमें मरीजों की सेवा करते हुए और उन्हें बेहतर सुविधाएं देकर ही एमएमएस अस्पताल को देश के श्रेष्ठ संस्थानों में शामिल करवा सकते हैं। 

इस अवसर पर आदर्श नगर विधायक रफीक खान, फतेहपुर विधायक हाकम अली, नीमकाथाना विधायक सुरेश मोदी, एसएमएम मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य सुधीर भंडारी, अस्पताल के अधीक्षक डीएस मीना, डॉ सुनीता बुुंदस सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें:

जानिए गाइनेकोमेस्टिया के बारे में, जो पुरुषों की लाइफस्टाइल को प्रभावित करता है

कई बार अलग शारीरिक बनावट के कारण हमें समाज में शर्मिंदा होना पड़ जाता है। ऐसी ही तेजी से बढ़ती एक समस्या है पुरुषों में ब्रेस्ट विकसित होने की है, जिसे गाइनेकोमेस्टिया कहते है।

11/09/2019

सर्जरी में रखे ध्यान, बेहतर होंगे परिणाम

ज्वाइंट रिप्लेसमेंट का मतलब शरीर के किसी भी हिस्से का ज्वाइंट हो सकता है। इसमें घुटनों का बदलना भी शामिल है और हिप रिप्लेसमेंट भी।

14/05/2019

850 ग्राम की जन्मे शिशु ने जीती जिंदगी की जंग, डॉक्टरों की मेहनत लाई रंग

जहां 850 ग्राम की प्री-मैच्योर डिलीवरी हुई बच्ची को बचा लिया गया।

19/10/2019

बच्चों पर शोध: खांसी-जुकाम नहीं बल्कि बुखार के साथ उल्टी दस्त, पेट दर्द होने पर भी हो सकता है कोरोना

अब तक खांसी जुकाम या बुखार के लक्षण होने पर ही कोरोना वायरस की पुष्टि होना माना जा रहा था। लेकिन बच्चों में बुखार के साथ उल्टी दस्त होने पर भी कोरोना वायरस होना पाया गया है। सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज जयपुर में बच्चों पर हुए एक शोध में इसकी पुष्टि हुई है।

03/06/2020

क्या है कोरोना वायरस, पढ़िए इसके लक्षण और इससे बचाव की पूरी जानकारी

चाइना में कहर बरपाने के बाद कोरोना वायरस अब भारत में भी अपनी दस्तक दे चुका है। मुंबई में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध मामले सामने आए हैं। दोनों संदिग्धों को कस्तूरबा हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

24/01/2020

तनावयुक्त जीवनशैली, अनियमित दिनचर्या से होती हैं ये बीमारियां

विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर राजस्थान स्वास्थ्य योग परिषद ट्रस्ट, योग भवन, शास्त्री नगर में न्यूरो केयर, जागरण शिविर का आयोजन हुआ, जिसमें संतोकबा दुर्लभजी अस्पताल के न्यूरो फि जिशियन डॉ. नीरज भूटानी और न्यूरो सर्जन डॉ. डीपी शर्मा ने व्याख्यान दिया।

08/04/2019

देश का पहला मामला: 9 साल के बच्चे में कोरोना के लक्षण नहीं, 10 बार रिपोर्ट आई पॉजिटिव

जेकेलोन अस्पताल में एक ऐसा केस भी सामने आया, जिसमें एक 9 साल के बच्चे को कोई लक्षण नहीं थे। बावजूद इसके उसकी कुल 10 रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आ चुकी है। हालांकि अस्पताल के चिकित्सकों के कमाल के चलते 28 और 30 मई को बच्चे की दोनों रिपोर्ट लगातार नेगेटिव आने पर उसे 1 जून को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

04/06/2020