Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 10th of December 2019
 
स्वास्थ्य

मंत्री रघु शर्मा और सुभाष गर्ग ने SMS अस्पताल को दी कई सौगातें

Saturday, November 30, 2019 13:25 PM
मीडिया से बात करते चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा, साथ में चिकित्सा राज्य मंत्री सुभाष गर्ग व अन्य

जयपुर। प्रदेश के चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा और चिकित्सा राज्य मंत्री सुभाष गर्ग ने शनिवार को एसएमएस अस्पताल के ब्लड बैंक ‘न्यू ब्लड कॉम्पोनेंट सेपरेशन‘ यूनिट, अस्थि रोग विभाग के नॉर्थ विंग-प्रथम वार्ड के नवीनीकरण का लोकार्पण और अस्पताल में ही स्थित डाटा सेंटर की आईटी सेल का शुभारंभ कर प्रदेशवासियों को सौगात दी।
 
डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि 55 लाख रुपए की लागत से निर्मित ‘न्यू ब्लड कॉम्पोनेंट सेपरेशन‘ यूनिट लगने से यूनिट में रक्त और अवयव बनाए जा सकेंगे तथा एसडीपी या प्लेटलेट्स भी तैयार की जा सकेंगी। इसके अलावा 30 लाख रुपए की लागत से नॉर्थ विंग-प्रथम वार्ड को नवीनीकृत किया है, जिससे अस्थि रोग विभाग में भर्ती मरीजों को बेहतर सुविधा मिल पाएगी। उन्होंने बताया कि चिकित्सालय में 12 लाख की लागत से नवनिर्मित डाटा सेंटर की आईटी सेल का भी शुभारंभ किया। इससे मरीजों के आईपीडी, ओपीडी, सर्जरी से जुड़े सभी डाटाज और जरूरी जानकारी मिल सकेगी। यहां एसएमएस और इससे संबद्ध अस्पतालों के डाटा को केंद्रीयकृत किया जा सकेगा साथ ही पेशेंट की केसेज की हिस्ट्री रखने में भी मदद मिलेगी।

चिकित्सा मंत्री ने एमएमएस अस्पताल के सुश्रुत सभागार में आयोजित रक्तदाता सम्मान समारोह में भी शिरकत की और प्रदेश में रक्तदान के लिए उल्लेखनीय कार्य कर रहे संस्थानों और व्यक्तियों को भी सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के दूरदराज के क्षेत्रों में रक्तदान की सुविधाएं बढ़ाने के लिए पिछले दिनों 5 करोड़ 8 लाख रुपए लागत के 14 रक्त संग्रहण एवं परिवहन वाहनों को रवाना किया है, जो कि सातों संभागों के मुख्यालयों सहित 14 जिलों में स्वैच्छिक रक्तदाताओं से रक्त संग्रहण कर संबंधित जिलों के ब्लड बैंकों को सौपेंगे।

डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि रक्तदान में सामाजिक सहयोग की भावना होना बेहद जरूरी है। सरकार रक्तदान के प्रति और अधिक जागरूकता लाने और इसके संग्रहण के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। इस अवसर पर लाड़ली रक्त सेवा योजना और कैंसर पीड़ित बच्चों के लिए रक्त योजना के पोस्टर्स का भी विमोचन किया गया। 
 
चिकित्सा राज्यमंत्री सुभाष गर्ग ने इस अवसर पर संबोधित करते हुए कहा कि जयपुर के एसएमएस ब्लड बैंक विभाग द्वारा हर साल 1 लाख 40 हजार ब्लड व अन्य अवयव (कॉम्पोनेंट) मरीजों को उपलब्ध कराए जाते हैं, जो कि  बड़ी उपलब्धि की बात है। उन्होंने चिकित्सकों को आव्हान करते हुए कहा कि मेडिकल बहुत नोबल प्रोफेशन है, इसमें मरीजों की सेवा करते हुए और उन्हें बेहतर सुविधाएं देकर ही एमएमएस अस्पताल को देश के श्रेष्ठ संस्थानों में शामिल करवा सकते हैं। 

इस अवसर पर आदर्श नगर विधायक रफीक खान, फतेहपुर विधायक हाकम अली, नीमकाथाना विधायक सुरेश मोदी, एसएमएम मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य सुधीर भंडारी, अस्पताल के अधीक्षक डीएस मीना, डॉ सुनीता बुुंदस सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें:

नाइजीरियन युवक के खराब हो चुके कूल्हे के जोड़ों का प्रत्यारोपण

नाईजीरिया के अमादि ओजी कूल्हों के जोड़ों में असहनीय दर्द के चलते चलने-फिरने तक के लिए भी मोहताज हो गए। मरीज जब जयपुर आया तो यहां जटिल ऑपरेशन कर मरीज के दोनों कूल्हे के जोड़ प्रत्यारोपण किया गया।

11/09/2019

युवा ले रहे अत्यधिक स्टेरोयड्स, हो रही ये बीमारी

आमतौर पर बुढ़ापे में सताने वाला आर्थराइटिस रोग अब युवाओं में भी देखने को मिल रहा है। बॉडी बनाने के लिए स्टेरोइड सेवन, स्पोर्ट्स इंजरी की अनदेखी, फिजिकल एक्टीविटी नहीं करने के कारण युवाओं में यह बीमारी सामने आ रही है।

12/10/2019

जानलेवा हो सकता है हीट स्ट्रोक

इन दिनों पड़ रही भीषण गर्मी से जनजीवन बुरी तरह त्रस्त है। इस मौसम में हीट स्ट्रोक का ज्यादा खतरा है, जो जानलेवा भी हो सकता है।

03/06/2019

लिगामेंट चोट में अब नई डबल बंडल तकनीक

एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट घुटनों की चोट में सर्वाधिक चोटिल होने वाला लिगामेंट है। लिगामेंट दो हड्डियों की संरचना को जोड़ने वाली इकाई है, जो हड्डियों की चाल को आसान बनाती है।

08/05/2019

स्तन हटाए बिना लेजर से कैंसर का कारगर इलाज

देश में महिलाओं की मौत के सबसे बड़े कारण स्तन कैंसर से जंग में लेजर तकनीक काफी कारगर सिद्ध हो रही है। कैंसर सर्जरी के कुल मामलों में 80 प्रतिशत मुख तथा स्तन कैंसर के हैं ऐसे में इस नई तकनीक को सभी के लिए सुलभ बनाने की सख्त जरूरत है।

22/11/2019

नारायणा हॉस्पिटल में दुर्लभ केस की जटिल सर्जरी, डॉक्टर्स ने बचाई बच्ची की जान

जयपुर के नारायणा हॉस्पिटल में डॉक्टर्स को एक दुर्लभ केस में जटिल सर्जरी कर बच्ची की जान बचाई है। दो साल आठ महीने की काश्वी दिल में छेद, ब्लॉकेज के साथ अत्यंत दुर्लभ जन्मजात विकारों से पीड़ित थी, जिसमें हार्ट और लिवर जैसे महत्वपूर्ण अंग उल्टी दिशा में थे। मामला बेहद जटिल व जोखिम भरा था लेकिन अस्पताल की कार्डियक साइंसेज टीम ने चुनौती स्वीकारी और बच्ची की सफलतापूर्वक सर्जरी की।

03/10/2019

देश में 40 लाख से अधिक लोग अल्जाइमर से पीड़ित

अल्जाइमर एक तरह की भूलने की बीमारी है जो सामान्यतया बुजुर्गों में 60 वर्ष के बाद शुरू होती है। इससे पीड़ित सामान रखकर भूल जाते हैं।

21/09/2019