Dainik Navajyoti Logo
Sunday 18th of April 2021
 
स्वास्थ्य

एम्स में आइवीयूएस व आईएफआर तकनीक से हुई पहली बार एंजियोग्राफी

Sunday, February 28, 2021 00:10 AM
आइवीयूएस तकनीक से इलाज।

जोधपुर। एम्स जोधपुर के हृदय रोग विभाग ने इस नई तकनीक का इस्तेमाल करते हुए दो मरीजों का सफल इलाज किया। उत्तर भारत में इस तकनीक की सहायता से पहली बार इलाज किया गया। एम्स के निदेशक डॉक्टर संजीव मिश्रा ने बताया कि संस्थान के सभी विभागों में उच्चतम तकनीक से मरीजों का इलाज किया जाता है। हृदय रोग विभाग में भी दो कैथलेब व आइवीयूएस और ओसीटी जैसी नई उच्च तकनीक वाली मशीने उपलब्ध है जिससे मरीजों का इलाज और बेहतर ढंग से करने में सहायता मिलती है। डीएन एकेडमिक डॉक्टर कुलदीप सिंह ने बताया कि इस तरह की नई तकनीकों से उच्च शिक्षा में अनुसंधान में भी सहायता मिलेगी, जो आगे चल कर इलाज की दिशा तय करते है।

हृदय रोग विभाग के सह आचार्य डॉ देवड़ा ने दी जानकारी
डॉक्टर सुरेंद्र देवड़ा ने बताया की यह नई तकनीक एंजियोप्लास्टी के दौरान यह बताती है की मरीज को स्टंट की वास्तव में जरूरत है या नहीं। आइवीयूएस तकनीक से हृदय की नसों में कैमरा डाल कर ब्लॉकेज का सही अध्ययन किया जाता है और आईएफ आर द्वारा ब्लॉकेज से होने वाली रक्त की कमी का अध्ययन किया जाता है। पहले 52 वर्षीय मरीज को सीने में दर्द की शिकायत के कारण एंजियोग्राफी की गई जिसमें हृदय की धमनियों में ब्लॉकेज का ढीक से पता नहीं चल पाया। इसलिए आईवीयूएसए आईएफ आर विथ एंजियो को रजिस्ट्रेशन की सहायता ली गई तथा मरीज को स्टंट ना लगाकर दवाइयों से इलाज किया गया।

दूसरे 70 वर्षीय मरीज की 2018 में सीने में दर्द की लिए दो स्टंट लगाए गए थे। यह मरीज फिर से सीने में दर्द की शिकायत की लिए एम्स में भर्ती किया गया। हृदय की एंजियोग्राफी की गई व स्टंट में बॉर्डर लाइन ब्लॉकेज पाया गया। इस नई तकनीक से ब्लॉकेज को कंफर्म किया गया व एक स्टंट और लगा कर सफल इलाज किस गया। इस तकनीक से स्टंट की साइज व उसका हृदय की नसों में सही से इम्पलाटेशन हुआ कि नहीं पता किया जाता है। एम्स जोधपुर के हृदय रोग विभाग में अब जटिल केसेज नियमित रूप से किए जाने लग गए है और इन नई तकनीकों से सफल इलाज करने में भी सफलता मिल रही है। हृदय रोग विभाग की डॉक्टर राहुल, डॉक्टर अतुल, नर्सिंग ऑफिसर बाबूलाल, नन्दराम व तकनीशियन साजिद ने भी सहयोग किया।

यह भी पढ़ें:

फिट मूवमेंट के तहत प्रदेश के युवाओं को करेंगे अवेयर

फिट इंडिया मूवमेंट की तर्ज पर एक वेलफेयर सोसायटी की ओर से फिट राजस्थान मूवमेंट का आयोजन किया जाएगा।

03/12/2019

प्रदेश में खुलेगा पहला सरकारी होम्योपैथी कॉलेज, चिकित्सा मंत्री ने की घोषणा

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि अन्य चिकित्सा पद्धतियों के साथ लोगों में होम्योपैथी के प्रति भी विश्वास बढ़ रहा है। यही वजह है कि सरकार ने 24 तरह की होम्योपैथी दवाओं को ‘ट्रिपल ए’ यानी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी और एएनएम के जरिए आमजन तक पहुंचाने की योजना बनाई है।

05/12/2019

कश्मीर : ताजा संघर्ष में पांच की मौत, अब तक 63 की मौत

कश्मीर में बडग्राम और अनंतनाग जिले में पत्थर फेंक रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच ताजा संघर्षों में आज पांच लोगों की मौत हो गयी और कई अन्य घायल हो गये. घाटी में कर्फ्यू, पाबंदियों और अलगाववादी समर्थित हड़ताल के कारण आज लगातार 39वें दिन जनजीवन प्रभावित हुआ.

16/08/2016

105 साल की महिला ने जीती कोविड-19 से जंग, डॉक्टर्स और मरीज के जज्बे ने मिलकर कोरोना को हराया

राजधानी जयपुर में 105 वर्ष की सूरज देवी चौधरी ने इस उम्र में भी वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण को अपने जज्बे से मात दे दी। नारायणा मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की अनुभवी कोविड टीम ने सूरज देवी की उम्र को उनके इलाज के बीच नहीं आने दिया बल्कि उनका सफल उपचार कर एक तरह से नया जीवनदान दिया।

20/10/2020

कोरोना रोगियों के लिए संजीवनी बनी प्लाज्मा थेरेपी, महात्मा गांधी अस्पताल में वेबीनार में विशेषज्ञों ने दी जानकारी

प्लाज्मा थेरेपी इलाज के लिए पहले भी काम में ली जाती रही है इस समय प्रयोग के तौर पर कोरोना रोगियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। यह जानकारी महात्मा गांधी अस्पताल के ब्लड बैंक एवं ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन के निदेशक डॉ. राम मोहन जायसवाल ने दी।

21/08/2020

विश्व में टीबी के करीब 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित : गुप्ता

आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी के चयेरमैन डॉ. एसडी गुप्ता ने कहा कि विश्व में टीबी के लगभग 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित हैं।

05/12/2019

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां के इलाज के लिए सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है।

03/10/2019