Dainik Navajyoti Logo
Saturday 15th of August 2020
Dainik Navajyoti
 
स्वास्थ्य

डॉक्टर्स ने 75 दिन के अथक प्रयासों के बाद 670 ग्राम की बच्ची को दिया जीवनदान

Wednesday, January 08, 2020 18:15 PM
नवजात कन्या

उदयपुर। प्रदेश के उदयपुर मेडिकल काॅलेज की एसएनसीयू विंग के डाॅक्टर्स ने मात्र 670 ग्राम वजन और 26 सप्ताह मे समय पूर्व जन्मे नवजात को जीवनदान देकर मिसाल कायम की है। नवजात को 75 दिन एसएनसीयू (स्पेशल न्यू बोर्न केयर यूनिट) में रखने के बाद मंगलवार को स्वस्थ रूप से डिस्चार्ज भी कर दिया। इतने लंबे समय तक सरकारी अस्पताल में किसी नवजात को भर्ती रखने का संभवत: यह पहला मामला है।
 
राजसमंद जिले के नाथद्वारा के पास ग्राम की देवली बाई ने 27 अक्टूबर को बेटी को अपने घर में ही जन्म दिया। प्रसूता 18 वर्षीया देवली बाई का वजन केवल 40 किलो था व 26 सप्ताह की समय से पूर्व जन्मी कन्या का वजन महज 670 ग्राम था। बहुत कम वजन होने के चलते घरवाले उसे  नाथद्वारा के सरकारी अस्पताल में लेकर आये। नाथद्वारा से एम्बुलेंस द्वारा उसे उदयपुर के लिए रैफर कर दिया। उदयपुर के महाराणा भूपाल अस्पताल मे पहुंचते ही तुरन्त उसका इलाज शुरू कर दिया गया। महिला के पति दिनेश भील मजदूरी कर जीवनयापन करते हैं।

नवजात की स्थिति अत्यधिक कम वजन होने की वजह से नाजुक थी। एसएनसीयू इंचार्ज डाॅ. अनुराधा सनाढ्य ने तुरन्त इलाज प्रारम्भ किया। जरुरत के मुताबिक आक्सीजन, आईवी फ्लूड, रोग प्रतिरोधक दवाएं आदि दिए गए। पहले महीने बच्ची की स्थिति कई बार बिगड़ी। उसे चार बार रक्त भी चढ़ाया गया। पूरी निगरानी में रह रही नवजात का 10 से 15 ग्राम वजन बढ़ना शुरू हो गया। पूरे 75 दिन तक सीनियर डाॅक्टर्स, रेजिडेंट डाॅक्टर एवं नर्सिग स्टाफ ने दिन रात अथक प्रयास किया और 7 जनवरी, मंगलवार को एक किलो 375 ग्राम वजन की स्वस्थ  कन्या को नर्सरी से डिस्चार्ज किया गया।

इस दौरान सरकार द्वारा दी जा रही सभी तरह की दवाइयां, भोजन व अन्य सुविधाएं निःषुल्क प्रदान की गई। यही नहीं समय-समय पर डाॅक्टर्स एवं स्टाफ द्वारा आर्थिक सहायता भी दी गई। डाॅ. लाखन पोसवाल, प्रिंसिपल एवं नियंत्रक, रवीन्द्र नाथ टैगोर मेडिकल काॅलेज, उदयपुर, डाॅ. आर. एल. सुमन, अधीक्षक, महाराणा भूपाल होस्पिटल उदयपुर, डाॅ. सुरेश गोयल, विभागाध्यक्ष बाल चिकित्सा विभाग उदयपुर एवं डाॅ. अनुराधा सनाढ्य, एसएनसीयू इंचार्ज के अथक प्रयासों से नवजात  स्वस्थ व एवं परिवारजन खुश हैं।

यह भी पढ़ें:

कटिंग मशीन से अलग हुई हथेली को सर्जरी कर जोड़ा

श्रम करने और रोजी-रोटी के लिए इंसान के हाथ ही उसका सबसे बड़ा जरिया होते हैं, और जब वही शरीर से अलग हो जाएं तो जिंदगी थम सी जाती है। कुछ ऐसा ही 20 वर्ष के चेतन (परिवर्तित नाम) के साथ हुआ जब फैक्ट्री में काम करते हुए कटिंग मशीन से उसकी हथेली कट कर अलग हो गई।

01/06/2019

नारायणा हॉस्पिटल में दुर्लभ केस की जटिल सर्जरी, डॉक्टर्स ने बचाई बच्ची की जान

जयपुर के नारायणा हॉस्पिटल में डॉक्टर्स को एक दुर्लभ केस में जटिल सर्जरी कर बच्ची की जान बचाई है। दो साल आठ महीने की काश्वी दिल में छेद, ब्लॉकेज के साथ अत्यंत दुर्लभ जन्मजात विकारों से पीड़ित थी, जिसमें हार्ट और लिवर जैसे महत्वपूर्ण अंग उल्टी दिशा में थे। मामला बेहद जटिल व जोखिम भरा था लेकिन अस्पताल की कार्डियक साइंसेज टीम ने चुनौती स्वीकारी और बच्ची की सफलतापूर्वक सर्जरी की।

03/10/2019

जयपुर मैराथन : दौड़ लगाकर जयपुरवासियों ने दिया अच्छी फिटनेस रखने का संदेश

कड़ाके की ठंड के बावजूद संडे के दिन देर तक सोने के बजाय देशभर से आए धावकों ने जयपुर मैराथन के 11वें सीजन में भाग लिया। इस दौरान बच्चे, युवा, बुजुर्गों के संग पुलिस, भारतीय सेना और विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ता दौड़े।

03/02/2020

डेंगू होने से फेफड़ों ने काम करना बंद कर दिया, वेंटीलेटर भी फेल, डॉक्टर्स ने बचाया

डेंगू के गंभीर स्थिति में हो जाने के बाद प्रिंस के फेफड़ों ने काम करना बंद कर दिया था। कृत्रिम सांस देने के लिए लगाया गया वेंटीलेटर भी फेल हो गया था।

18/10/2019

विषम परिस्थितियों में नई तकनीक व प्रोटोकॉल डिजाइन कर नवजात की सफल हार्ट सर्जरी

फोर्टिस हॉस्पिटल के शिशु हृदय रोग सर्जरी विषेशज्ञ डॉ. सुनिल कौशल ने 15 दिन के बच्चे की दुर्लभ सफल आर्टियल स्वीच सर्जरी की। इस सर्जरी के दौरान डॉ. कौशल ने चिकित्सा जगत में नए आयाम स्थापित किए। डॉ. सुनील ने बताया की बच्चे को हृदय की दुर्लभ जन्मजात बीमारी थी, जिसे ट्रांसपोजीशन ऑफग्रेट आर्टरी कहा जाता है और उसका एक मात्र ईलाज आर्टियल स्वीच नामक हार्ट का ऑपरेशन ही है।

02/05/2020

सिर से आंखों की तरफ बढ़ा ट्यूमर, ऑपरेशन से निकाला

ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित एक महिला मरीज का निजी अस्पताल में ऑपरेशन कर नया जीवन दिया गया है। हरियाणा के सिरसा स्थित गांव डबवाली की निवासी 30 वर्षीय महिला मरीज वीरपाल कौर के सिर दर्द और आंखों के आसपास सूजन बढ़ रही थी। जिसके बाद मरीज की एमआरआई जांच कराई गई।

03/02/2020

3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से कैंसर ग्रस्त रहे मरीज का जबड़ा फिर लगा

दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल के चिकित्सकों ने अपनी तरह की अनूठी एवं पहली शल्य क्रिया के तहत 3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से एक मरीज का जबड़ा पुननिर्मित करके उसे फिर से खाना खाने में सक्षम बना दिया है।

19/02/2020