Dainik Navajyoti Logo
Sunday 26th of January 2020
 
स्वास्थ्य

डॉक्टर्स ने 75 दिन के अथक प्रयासों के बाद 670 ग्राम की बच्ची को दिया जीवनदान

Wednesday, January 08, 2020 18:15 PM
नवजात कन्या

उदयपुर। प्रदेश के उदयपुर मेडिकल काॅलेज की एसएनसीयू विंग के डाॅक्टर्स ने मात्र 670 ग्राम वजन और 26 सप्ताह मे समय पूर्व जन्मे नवजात को जीवनदान देकर मिसाल कायम की है। नवजात को 75 दिन एसएनसीयू (स्पेशल न्यू बोर्न केयर यूनिट) में रखने के बाद मंगलवार को स्वस्थ रूप से डिस्चार्ज भी कर दिया। इतने लंबे समय तक सरकारी अस्पताल में किसी नवजात को भर्ती रखने का संभवत: यह पहला मामला है।
 
राजसमंद जिले के नाथद्वारा के पास ग्राम की देवली बाई ने 27 अक्टूबर को बेटी को अपने घर में ही जन्म दिया। प्रसूता 18 वर्षीया देवली बाई का वजन केवल 40 किलो था व 26 सप्ताह की समय से पूर्व जन्मी कन्या का वजन महज 670 ग्राम था। बहुत कम वजन होने के चलते घरवाले उसे  नाथद्वारा के सरकारी अस्पताल में लेकर आये। नाथद्वारा से एम्बुलेंस द्वारा उसे उदयपुर के लिए रैफर कर दिया। उदयपुर के महाराणा भूपाल अस्पताल मे पहुंचते ही तुरन्त उसका इलाज शुरू कर दिया गया। महिला के पति दिनेश भील मजदूरी कर जीवनयापन करते हैं।

नवजात की स्थिति अत्यधिक कम वजन होने की वजह से नाजुक थी। एसएनसीयू इंचार्ज डाॅ. अनुराधा सनाढ्य ने तुरन्त इलाज प्रारम्भ किया। जरुरत के मुताबिक आक्सीजन, आईवी फ्लूड, रोग प्रतिरोधक दवाएं आदि दिए गए। पहले महीने बच्ची की स्थिति कई बार बिगड़ी। उसे चार बार रक्त भी चढ़ाया गया। पूरी निगरानी में रह रही नवजात का 10 से 15 ग्राम वजन बढ़ना शुरू हो गया। पूरे 75 दिन तक सीनियर डाॅक्टर्स, रेजिडेंट डाॅक्टर एवं नर्सिग स्टाफ ने दिन रात अथक प्रयास किया और 7 जनवरी, मंगलवार को एक किलो 375 ग्राम वजन की स्वस्थ  कन्या को नर्सरी से डिस्चार्ज किया गया।

इस दौरान सरकार द्वारा दी जा रही सभी तरह की दवाइयां, भोजन व अन्य सुविधाएं निःषुल्क प्रदान की गई। यही नहीं समय-समय पर डाॅक्टर्स एवं स्टाफ द्वारा आर्थिक सहायता भी दी गई। डाॅ. लाखन पोसवाल, प्रिंसिपल एवं नियंत्रक, रवीन्द्र नाथ टैगोर मेडिकल काॅलेज, उदयपुर, डाॅ. आर. एल. सुमन, अधीक्षक, महाराणा भूपाल होस्पिटल उदयपुर, डाॅ. सुरेश गोयल, विभागाध्यक्ष बाल चिकित्सा विभाग उदयपुर एवं डाॅ. अनुराधा सनाढ्य, एसएनसीयू इंचार्ज के अथक प्रयासों से नवजात  स्वस्थ व एवं परिवारजन खुश हैं।

यह भी पढ़ें:

डीआरडीओ ने हिमालय की जड़ी-बूटियां से बनाई सफेद दाग की दवा

देश के प्रमुख रक्षा शोध संगठन ने सफेद दाग की हर्बल दवा मरीजों के विकसित की थी। ये दवा मरीजों के लिए रामबाण साबित हो रही है।

25/06/2019

दक्षिण कोरिया के नौसेना स्टेशन में विस्फोट के बाद एक की मौत, 3 घायल

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्व में एक नौसेना स्टेशन पर एक पनडुब्बी पर मरम्मत के काम के दौरान दुर्घटनावश विस्फोट होने के बाद एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य लापता हैं.

16/08/2016

युवा ले रहे अत्यधिक स्टेरोयड्स, हो रही ये बीमारी

आमतौर पर बुढ़ापे में सताने वाला आर्थराइटिस रोग अब युवाओं में भी देखने को मिल रहा है। बॉडी बनाने के लिए स्टेरोइड सेवन, स्पोर्ट्स इंजरी की अनदेखी, फिजिकल एक्टीविटी नहीं करने के कारण युवाओं में यह बीमारी सामने आ रही है।

12/10/2019

सर्जरी में रखे ध्यान, बेहतर होंगे परिणाम

ज्वाइंट रिप्लेसमेंट का मतलब शरीर के किसी भी हिस्से का ज्वाइंट हो सकता है। इसमें घुटनों का बदलना भी शामिल है और हिप रिप्लेसमेंट भी।

14/05/2019

सवाई मानसिंह अस्पताल में हुआ हार्ट ट्रांसप्लांट, मुख्यमंत्री गहलोत ने जताई खुशी

सवाई मानसिंह अस्पताल में गुरुवार अलसुबह हुआ प्रदेश का सरकारी स्तर का पहला हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ।

16/01/2020

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां के इलाज के लिए सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है।

03/10/2019

ये 'मेडिकल ATM' चंद मिनटों में करेगा 58 तरह की मेडिकल जांच

देश में जल्दी ही बिना कठिनाई और अत्यधिक तेज मेडिकल जांच हर किसी के लिए संभव हो सकेगी। ऐसा एटीएम जैसे एक कियोस्क के कारण होगा। जो लोगों के लिए 58 तरह के अधिक बुनियादी और उन्नत पैथोलॉजी परीक्षणों की सुविधा देगा और अपनी रिपोर्ट भी तत्काल दे देगा।

04/10/2019