Dainik Navajyoti Logo
Thursday 6th of May 2021
 
स्वास्थ्य

850 ग्राम की जन्मे शिशु ने जीती जिंदगी की जंग, डॉक्टरों की मेहनत लाई रंग

Saturday, October 19, 2019 11:30 AM
डॉक्टरों की टीम के साथ मासूम बच्ची

जयपुर। जन्म के बाद 57 दिनों तक जिंदगी की लड़ाई नवजात ने जीत ही ली। गर्भावस्था के 28वें हफ्ते में ही पैदा हुई राजवी (परिवर्तिन नाम) का वजन मात्र 850 ग्राम था और उसके आतंरिक अंग भी पूरी तरह से विकसित नहीं हुए थे, लेकिन डॉक्टरों के दिन-रात किए गए प्रयास रंग लाए और राजवी 1.6 किग्रा की होकर अपने माता-पिता के साथ घर रवाना हुई। अपनी तरह का यह अनूठा मामला जयपुर के नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल का है, जहां 850 ग्राम की प्री-मैच्योर डिलीवरी हुई बच्ची को बचा लिया गया।

मां गर्भावधि डायबिटीज से ग्रसित थी
नवजात राजवी की मां बीना मीणा (29), गर्भावधि डायबिटीज से ग्रसित थी और शुरूआत से ही उनकी गर्भावस्था काफी जटिल रही थी जिसे नारायणा हॉस्पिटल की स्त्री रोग विशेषज्ञ टीम द्वारा अच्छी तरह से प्रबंधित किया जा रहा था। जब गर्भावस्था के 28वें हफ्ते में ही सुरक्षात्मक एमनियोटिक द्रव (मां के गर्भाशय में बच्चे के चारों ओर सुरक्षात्मक द्रव) लीक हो गया तो उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया। 28वें हफ्ते में भ्रूण के फेफड़े सहित अन्य अंग पूरी तरह से विकसित नहीं होते हैं, ऐसे में इमरजेंसी प्री-टर्म डिलीवरी से पहले ही माँ का आवश्यक उपचार किया गया जिससे बच्चे के जीवित रहने की संभावना को बढ़ाया जा सके।

 

फेफड़े पूरी तरह से विकसित नहीं हुए थे
नारायणा हॉस्पिटल के बाल एवं शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश पाठक ने बताया कि जब बच्ची का जन्म गर्भावस्था के 28वें हफ्ते (7वें महीने) में हुआ था तो उसके फेफड़े पूरी तरह से विकसित नहीं हुए थे, इसलिए उसे सांस संबंधित समस्या को रोकने की दवा दी गई और वेंटीलेटर पर रखा गया। जन्म के तुरंत बाद किए गए जरूरी प्रयासों से उसके फेफड़ों को पूरी तरह से परिपक्व करने में मदद मिली एवं धीरे-धीरे वेंटीलेटर और फिर बाहरी ऑक्सीजन को चरणों में हटा लिया गया। जन्म के समय बच्ची का वजन सिर्फ 850 ग्राम था और वह बहुत कमजोर थी। इसीलिए वह 24 घंटे एन.आई.सी.यू. में पीडियाट्रिक्स विशेषज्ञों की निगरानी में थी।

गर्भ जैसा माहौल देकर की नवजात की देखभाल
डॉ. राजेश पाठक ने बताया कि यूं तो माँ के गर्भ की तरह स्थितियां बनाना संभव नहीं है लेकिन फिर भी हमने सही तापमान, न्यूनतम शोर और प्रकाश के साथ सबसे उन्नत नवजात देखभाल प्रदान करने की कोशिश की है। कई दवाओं, पोषक तत्वों के अलावा तापमान मॉनिटर, हृदय गति मॉनिटर और एपनिया मॉनिटर की सहायता से बच्चे की स्थिति पर 24 घंटे निगरानी की गई।

यह भी पढ़ें:

युवा ले रहे अत्यधिक स्टेरोयड्स, हो रही ये बीमारी

आमतौर पर बुढ़ापे में सताने वाला आर्थराइटिस रोग अब युवाओं में भी देखने को मिल रहा है। बॉडी बनाने के लिए स्टेरोइड सेवन, स्पोर्ट्स इंजरी की अनदेखी, फिजिकल एक्टीविटी नहीं करने के कारण युवाओं में यह बीमारी सामने आ रही है।

12/10/2019

14 माह की बच्ची के लीवर कैंसर की सफल सर्जरी

सवाई मानसिंह अस्पताल के गेस्ट्रोसर्जरी एवं एनेस्थिसिया विभाग के चिकित्सकों ने महज 14 माह की बच्ची के लीवर कैंसर का आॅपरेशन करने में सफलता प्राप्त की है।

10/04/2019

इस खास तकनीक से बिना सीना चीरे बदला हार्ट वाल्व

कभी बुजुर्गों की मानी जाने वाले हृदय की बीमारियां अब युवा पीढ़ी को भी अपनी चपेट में ले रही है । यह समाज के लिए बड़ी चुनौती है।

07/11/2019

Video: डॉक्टर्स ने पेट से निकाला बालों का बड़ा गुच्छा

सर्जन एवं विभागाध्यक्ष डॉ. अनिल त्रिपाठी ने बताया कि मरीज के पेट में दर्द, भूख ना लगना, उल्टी होना, वजन कम होना इत्यादि लक्षणों की शिकायत कुछ महीनों से थी।

23/12/2019

पेल्विक बोन ट्यूमर की जटिल सर्जरी, महात्मा गांधी अस्पताल में हुआ सफल ऑपरेशन

महात्मा गांधी अस्पताल के चिकित्सकों ने झुंझुनूं जिले की 14 वर्षीय किशोरी के पेल्विक बोन ट्यूमर की सफल सर्जरी की है। किशोरी अपने बाएं कूल्हे (पेल्विक रीजन) में दर्द को लेकर अस्पताल भर्ती हुई। जांच में उसे इविंग्स सारकोमा नामक कैंसर की पुष्टि हुई। यह बीमारी लाखों में से किसी एक को होती है।

31/01/2021

मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वालों को टेनिस एल्बो का खतरा

यह खबर हर घर हर अभिभावकों के लिए जरूरी है। मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वाले लोग टेनिस एल्बो से पीड़ित होने लगे हैं। इतना ही नहीं वे बच्चे जो आउटडोर गेम की बजाय दिनभर वीडियो गेम या मोबाइल में गेम खेलते रहते हैं, उन्हें भी टेनिस एल्बो का असहनीय दर्द हो सकता है।

15/01/2020

वर्ल्ड हार्ट डे आज, कोरोना वायरस ने बढ़ाई हार्ट के मरीजों की परेशानी

कोरोना काल के दौरान सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना हृदय रोगियों को करना पड़ा है। कोरोना के कारण अस्पताल में जाने का डर और इलाज में देरी के कारण ज्यादतर हृदय रोगियों की इस दौरान मौत हो गई, जो कि मरने से पहले या मरने के बाद आई जांच में कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

29/09/2020