Dainik Navajyoti Logo
Monday 20th of September 2021
 
स्वास्थ्य

टीएवीआर तकनीक से 28 वर्षीय गर्भवती महिला का बदला हार्ट वॉल्व

Sunday, February 14, 2021 10:45 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

जयपुर। शहर के चिकित्सकों ने एक महिला का तीन माह की गर्भावस्था के दौरान भी बिना सर्जरी के वॉल्व बदलने में सफलता प्राप्त की है। इस प्रोसीजर को सफलता पूर्वक अंजाम देने वाले शहर चीफ इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. रवीन्द्र सिंह राव ने बताया कि 28 वर्षीय यह महिला सिम्पटोमैटिक एओर्टिक स्टेनोसिस से पीड़ित थी। जिन मरीजों में गंभीर एओर्टिक स्टेनोसिस के लक्षण विकसित होते हैं, वे औसतन दो साल के भीतर मर सकते हैं, अगर उनके एओर्टिक वॉल्व को बदला नहीं जाए।

गर्भावस्था की तिमाही, सर्जरी विकल्प नहीं
सबसे महत्वपूर्ण बात यह थी कि वह गर्भावस्था की तिमाही में थी, ऐसे में सर्जरी कोई विकल्प नहीं था। तीन असफल गर्भावस्था के बाद यह चौथी बार गर्भधारण किया था। उसके हृदय की स्थिति का उपचार करने के लिए कोई सर्जिकल विकल्प नहीं था, जो हर गुजरते दिन के साथ बिगड़ रही थी। मैंने ट्रांसकैथेटर एओर्टिक हार्ट वॉल्व रिप्लेसमेंट (टीएवीआर) का विकल्प चुना। कैथ लैब के अंदर पांच से अधिक विशेषज्ञ डॉक्टरों के साथ 2.30 घंटे तक चली संवेदनशील प्रक्रिया में वॉल्व को सफलतापूर्वक बदल दिया गया, इस दौरान मरीज पूरी तरह से सचेत रहा।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

SMS अस्पताल: हार्ट ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को वेलिंलेटर से हटाया, तबीयत में हो रहा सुधार

सवाई मानसिंह अस्पताल (SMS) में जिस मरीज का हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ, उस मरीज को वेंटिलेटर से हटा दिया गया है और उसकी तबीयत में सुधार है।

17/01/2020

नेजोफैरेंजियल वॉश रोक सकते है कोरोना इंफेक्शन: लंग इंडिया

अंतरराष्ट्रीय जनरल लंग इंडिया ने अपने ताजा अंक में प्रकाशित रिसर्च पेपर में प्रतिपादित किया है कि अगर गुनगुने पानी के गरारे और नेजल वॉश (जल नेती) को नियमित किया जाए तो कोरोना का संक्रमण जो इंसान के मुंह और गले से होते हुए लंग्स (फेंफड़ों) तक पहुंचता है, उस पर विराम लग सकती है तथा कोरोना के इलाज में मदद मिल सकती है।

06/05/2020

देश का पहला मामला: 9 साल के बच्चे में कोरोना के लक्षण नहीं, 10 बार रिपोर्ट आई पॉजिटिव

जेकेलोन अस्पताल में एक ऐसा केस भी सामने आया, जिसमें एक 9 साल के बच्चे को कोई लक्षण नहीं थे। बावजूद इसके उसकी कुल 10 रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आ चुकी है। हालांकि अस्पताल के चिकित्सकों के कमाल के चलते 28 और 30 मई को बच्चे की दोनों रिपोर्ट लगातार नेगेटिव आने पर उसे 1 जून को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

04/06/2020

नई तकनीकों से कार्डियक सर्जरी और आसान, नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का बदल रहा ट्रेंड

नई जांच तकनीकों और एंजियोप्लास्टी में काम आने वाले नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का ट्रेंड बदल रहा है और जटिल केस भी आसानी से हो रहे हैं। शहर के सीनियर कार्डियोलोजिस्ट डॉ. जितेंद्र मक्कड़ ने बताया कि इंट्रावस्कुलर अल्ट्रासाउंड (आइवीस) तकनीक से आर्टरी की सिकुड़न, ब्लॉकेज की लंबाई और कठोरता, आर्टरी में जमे कैल्शियम के बारे में पता चलता है

17/03/2021

दक्षिण कोरिया के नौसेना स्टेशन में विस्फोट के बाद एक की मौत, 3 घायल

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्व में एक नौसेना स्टेशन पर एक पनडुब्बी पर मरम्मत के काम के दौरान दुर्घटनावश विस्फोट होने के बाद एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य लापता हैं.

16/08/2016

हार्ट फेल और खराब फेफड़े होने पर एक्मो तकनीक से बच सकती है जान, वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने दी ट्रेनिंग

कई बार मरीजों को गंभीर कार्डियक फेलियर, फेफड़े खराब होने के कारण सांस की तकलीफ के कारण अस्पताल में इमरजेंसी में लाया जाता है। मरीज का हृदय या फेफड़े सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम नहीं रहते और रोगी सांस लेने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों की जान उन्नत एक्मो तकनीक से बचाई जा सकती है।

20/01/2020

अचानक बढ़ जाती है दिल की धड़कन तो हो सकता है आईएसटी, जानें डॉक्टर की राय

दिल के साथ-साथ शरीर के अन्य महत्वपूर्ण अंगों जैसे फेफड़े, लीवर, किडनी और दिमाग को भी नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसी ही एक बीमारी इनएप्रोप्रीऐट साइनस टेककार्डिया (आईएसटी) है।

25/12/2019