Dainik Navajyoti Logo
Thursday 20th of January 2022
 
स्वास्थ्य

टीएवीआर तकनीक से 28 वर्षीय गर्भवती महिला का बदला हार्ट वॉल्व

Sunday, February 14, 2021 10:45 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

जयपुर। शहर के चिकित्सकों ने एक महिला का तीन माह की गर्भावस्था के दौरान भी बिना सर्जरी के वॉल्व बदलने में सफलता प्राप्त की है। इस प्रोसीजर को सफलता पूर्वक अंजाम देने वाले शहर चीफ इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. रवीन्द्र सिंह राव ने बताया कि 28 वर्षीय यह महिला सिम्पटोमैटिक एओर्टिक स्टेनोसिस से पीड़ित थी। जिन मरीजों में गंभीर एओर्टिक स्टेनोसिस के लक्षण विकसित होते हैं, वे औसतन दो साल के भीतर मर सकते हैं, अगर उनके एओर्टिक वॉल्व को बदला नहीं जाए।

गर्भावस्था की तिमाही, सर्जरी विकल्प नहीं
सबसे महत्वपूर्ण बात यह थी कि वह गर्भावस्था की तिमाही में थी, ऐसे में सर्जरी कोई विकल्प नहीं था। तीन असफल गर्भावस्था के बाद यह चौथी बार गर्भधारण किया था। उसके हृदय की स्थिति का उपचार करने के लिए कोई सर्जिकल विकल्प नहीं था, जो हर गुजरते दिन के साथ बिगड़ रही थी। मैंने ट्रांसकैथेटर एओर्टिक हार्ट वॉल्व रिप्लेसमेंट (टीएवीआर) का विकल्प चुना। कैथ लैब के अंदर पांच से अधिक विशेषज्ञ डॉक्टरों के साथ 2.30 घंटे तक चली संवेदनशील प्रक्रिया में वॉल्व को सफलतापूर्वक बदल दिया गया, इस दौरान मरीज पूरी तरह से सचेत रहा।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

विषम परिस्थितियों में नई तकनीक व प्रोटोकॉल डिजाइन कर नवजात की सफल हार्ट सर्जरी

फोर्टिस हॉस्पिटल के शिशु हृदय रोग सर्जरी विषेशज्ञ डॉ. सुनिल कौशल ने 15 दिन के बच्चे की दुर्लभ सफल आर्टियल स्वीच सर्जरी की। इस सर्जरी के दौरान डॉ. कौशल ने चिकित्सा जगत में नए आयाम स्थापित किए। डॉ. सुनील ने बताया की बच्चे को हृदय की दुर्लभ जन्मजात बीमारी थी, जिसे ट्रांसपोजीशन ऑफग्रेट आर्टरी कहा जाता है और उसका एक मात्र ईलाज आर्टियल स्वीच नामक हार्ट का ऑपरेशन ही है।

02/05/2020

कटिंग मशीन से अलग हुई हथेली को सर्जरी कर जोड़ा

श्रम करने और रोजी-रोटी के लिए इंसान के हाथ ही उसका सबसे बड़ा जरिया होते हैं, और जब वही शरीर से अलग हो जाएं तो जिंदगी थम सी जाती है। कुछ ऐसा ही 20 वर्ष के चेतन (परिवर्तित नाम) के साथ हुआ जब फैक्ट्री में काम करते हुए कटिंग मशीन से उसकी हथेली कट कर अलग हो गई।

01/06/2019

ओमिक्रॉन से लहर की आशंका, फुल वैक्सीनेशन पर चिंता

60 लाख अब भी वैक्सीन से कर रहे परहेज 52 लाख दूसरी डोज लेने में लापरवाह

23/12/2021

साढ़े चार महीने बाद जयपुर में कोरोना फिर हुआ जानलेवा

ढाई साल के बच्चे की मौत, 12 वर्षीय स्कूली छात्रा पॉजिटिव : 30 जून को आखिरी बार हुई थी जयपुर में कोरोना से मौत

19/11/2021

सफलतापूर्वक सर्जरी कर मासूम को दिया नया जीवन

3 साल के बच्चे पर गिरा 200 किलो का ड्रम, फट गया हार्ट का हिस्सा

23/08/2021

इम्यूनिटी और वैक्सीन के बाद हारेगा कोरोना, संक्रमण के फैलाव के साथ लोगों में विकसित हो रही इम्यूनिटी

कोरोना का समय जैसे-जैसे बढ़ता जा रहा है, इसके इलाज और इम्यूनिटी पावर से संबंधित सवालों के जवाब मिल रहे हैं। कुछ देशों से कोरोना की वैक्सीन तैयार करने का दावा भी किया है लेकिन उसके बारे में कुछ स्पष्ट स्थिति सामने नहीं आ रही है। वहीं कोरोना केसों में हो रही वृद्धि के कारण आमजन में हर्ड इम्यूनिटी बढ़ने की चर्चा भी चल रही है।

09/09/2020

जन्मजात बीमारी से पीड़ित बालिका को SMS हॉस्पिटल में मिला नया जीवन

सीटी सर्जरी विभाग के सीनियर कॉर्डिक सर्जन की टीम ने किया ऑपरेशन

24/11/2021