Dainik Navajyoti Logo
Sunday 20th of June 2021
 
स्वास्थ्य

27 साल पहले हार्ट में लगी पेसमेकर की तार को बिना सर्जरी के निकाला, राजस्थान में इस तरह का पहला केस

Thursday, July 09, 2020 14:15 PM
लीड एक्सट्रैक्शन प्रक्रिया करने वाली टीम।

जयपुर। वर्षों पहले लगे पेसमेकर में संक्रमण होने के कारण उसे तार समेत हार्ट से निकालने के जटिल मामले को शहर के डॉक्टर्स ने सफलतापूर्वक कर दिखाया। प्रदेश में पहली बार इस तरह का केस हुआ है जब मरीज को 27 साल पहले लगे पेसमेकर और तार को इंफेक्शन होने पर बिना ओपन हार्ट सर्जरी के हृदय में से निकाला गया। लीड एक्सट्रैक्शन नामक यह प्रक्रिया इतनी जटिल थी कि तार निकालने में जरा भी चूक होती तो मरीज की उसी समय मौत हो सकती थी। शहर के इटरनल हॉस्पिटल में हुए इस केस में डॉक्टर्स ने नई तकनीक लीड लॉकिंग डिवाइस और टाइट रेल डिवाइस की सहायता से इसे सफल बनाया।

पेसमेकर के साथ तार नहीं निकालते तब भी मरीज की जान को खतरा
इटरनल हॉस्पिटल के इंटरवेंशनल व इलेक्ट्रोफिजीयोलॉजी डायेक्टर डॉ. जितेंद्र सिंह मक्कड़ ने बताया कि जयपुर से ही 41 वर्षीय फूलचंद मीणा (परिवर्तित नाम) को कम धड़कन के चलते मात्र 14 वर्ष की उम्र में 27 साल पहले पेसमेकर लगाया गया था। अब तक के समय में दो बार उनके पेसमेकर की बैटरी बदली गई थी। कुछ माह पहले पेसमेकर की जगह में सूजन व मवाद निकलने की स्थिति मे उन्हें इटरनल हॉस्पिटल में दिखाया गया, जहां कुछ टेस्ट होने के बाद यह पता चला कि उनके पेसमेकर और तार में इंफेक्शन हो गया है। डॉ. मक्कड़ ने बताया कि अगर यह समय पर नहीं निकाला जाता तो इंफेक्शन मरीज के पूरे शरीर में फैल जाता और मरीज की मौत हो सकती थी।

हृदय से तार निकालने में था बेहद जोखिम
अस्पताल के इलेक्ट्रोफिजीयोलॉजी कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. कुश कुमार भगत ने बताया कि पेसमेकर और तार इम्प्लांट करने के बाद जैसे-जैसे पुराना होता जाता है, वह शरीर की नसों और टिश्यू के साथ चिपकने लगता है। मरीज के पेसमेकर लगे 27 साल हो चुके थे। ऐसे में पेसमेकर की तार हृदय की नसों और टिश्यू के साथ अच्छे से चिपक गई थी। तार को निकालने में जरा सी लापरवाही होने पर नस या हृदय की झिल्ली फटने का खतरा था, जिससे मरीज की उसी वक्त मौत हो सकती थी।

नई तकनीक से सफल किया केस
इस अत्याधिक जटिल केस को नई तकनीक लीड लॉकिंग डिवाइस और टाइट रेल डिवाइस की सहायता से सफल किया गया। डॉ. जितेंद्र सिंह मक्कड़ ने बताया कि पेसमेकर की तार के साथ चिपकी नसों और दूसरे टिश्यू को निकालने के लिए पहले लीड लॉकिंग डिवाइस से तार को पकड़ा और टाइट रेल डिवाइस से धीरे-धीरे नसों और टिश्यू से उसे अलग किया गया। इस प्रक्रिया में 40 मिनट का समय लगा। हॉस्पिटल की एमडी और को-चेयरपर्सन मंजू शर्मा ने बताया कि यह बहुत ही जटिल केस था, जिसे सफल करने के लिए अत्याधुनिक तकनीक और अनुभवी विशेषज्ञों की आवश्यकता थी। इटरनल हॉस्पिटल के अनुभवी डॉक्टर्स अपने मरीज को विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए कटिबद्ध हैं। हमें खुशी है कि मरीज अब सामान्य जीवन जी पा रहे हैं। डॉ. अजीत बाना ने कहा कि लीड एक्सट्रैक्शन एक कठिन प्रक्रिया है जो आमतौर पर ओपन हार्ट सर्जरी द्वारा की जाती है और इस बार डॉ. मक्कड़ के नेतृत्व में इटरनल अस्पताल की कार्डियोलॉजी टीम ने बिना किसी ऑपरेशन के लीड लेकर अभूतपूर्व काम किया है। इस केस को सफल करने में हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ कैलाश गढ़वाल, कार्डियक सर्जन डॉ. मनप्रीत सलूजा, कार्डियक एनेस्थिसया विशेषज्ञ डॉ. नवनीत मेहता व प्रशांत वार्षेय का सहयोग रहा।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

कोरोना से अटकी 'रोशनी', संक्रमण के चलते दान नहीं हो सकी आंखें

राजस्थान में कोरोना महामारी के कारण अंधता से जूझ रहे हजारों लोगों के जीवन में रोशनी का इंतजार और लंबा हो गया है। संक्रमण के खतरे के चलते आंखें यानि कार्निया दान करने की रफ्तार पर ब्रेक से लग गए। प्रदेश में इस साल मार्च में कोरोना की दस्तक के बाद से कार्निया दान होने की प्रक्रिया एक तरह से थम सी गई।

04/01/2021

शोध पूरा हो तो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का इलाज संभव, खर्च सिर्फ 4 हजार रुपए प्रतिमाह

कैंसर जैसी गंभीर जानलेवा बीमारी का इलाज संभव हो गया है, वह भी महज कुछ हजार रुपए की मासिक दवा पर। यह दावा है प्रसिद्ध कैन्सर वैज्ञानिक डॉ. मंजु रे का। करीब चालीस वर्षों के गहन शोध के बाद उन्होंने कैंसर की दवा खोज निकाली है जिसका प्रथम और द्वितीय ट्रायल हो चुका है लेकिन बाजार में दवा आने से पहले तीसरा ट्रायल होना है।

10/10/2019

बिना चीरफाड़ के अत्याधुनिक तकनीक से बदला हार्ट वॉल्व, मरीज की पहले हो चुकी बायपास सर्जरी

अधिक उम्र पर बायपास सर्जरी का इतिहास एवं कैंसर का सफल उपचार करा चुके 73 वर्षीय नरेन शर्मा (परिवर्तित नाम) को फिर से जब हृदय की गंभीर बीमारी हुई तो अत्याधुनिक तकनीक उनके लिए वरदान साबित हुई। ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वॉल्व इम्प्लांटेशन(टावी) द्वारा मरीज की सिकुड़ी हुई एओर्टिक वॉल्व को बिना ओपन चेस्ट सर्जरी के बदल दिया।

06/01/2020

देश में 16 प्रतिशत बच्चों में बिस्तर गीला करने की बीमारी

देश में स्कूल जाने की उम्र वाले 12 से 16 प्रतिशत बच्चे सोते समय बिस्तर गीला करने की समस्या से जूझ रहे हैं। यह समस्या न सिर्फ उनके व्यक्तित्व को प्रभावित करती है बल्कि उनके आत्मविश्वास को भी कमजोर कर रही है।

06/04/2019

ब्लैक फंगस पर विशेषज्ञों की राय, मास्क में नमी के कारण हो सकता है फंगल इंफेक्शन

देश में कोविड 19 के मरीजों में म्यूकोरमायकोसिस (ब्लैक फंगस) के मामलों वृद्धि को मास्क में नमी होना माना जा रहा है।

21/05/2021

विश्व के 83 और भारत के 89 प्रतिशत लोग तनाव में जी रहे : वांगचुक

जयपुरिया इंस्टीट्यूट आॅफ मैनेजमेंट, जयपुर में सोमवार को भूटान के पूर्व शिक्षा मंत्री नोरबू वांगचुक का हैप्पीनेस लैसंस फ्रॉम भूटान विषय पर इंटरेनशनल गेस्ट सैशन आयोजित किया गया।

05/11/2019

मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वालों को टेनिस एल्बो का खतरा

यह खबर हर घर हर अभिभावकों के लिए जरूरी है। मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वाले लोग टेनिस एल्बो से पीड़ित होने लगे हैं। इतना ही नहीं वे बच्चे जो आउटडोर गेम की बजाय दिनभर वीडियो गेम या मोबाइल में गेम खेलते रहते हैं, उन्हें भी टेनिस एल्बो का असहनीय दर्द हो सकता है।

15/01/2020