Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of March 2021
 
स्वास्थ्य

27 साल पहले हार्ट में लगी पेसमेकर की तार को बिना सर्जरी के निकाला, राजस्थान में इस तरह का पहला केस

Thursday, July 09, 2020 14:15 PM
लीड एक्सट्रैक्शन प्रक्रिया करने वाली टीम।

जयपुर। वर्षों पहले लगे पेसमेकर में संक्रमण होने के कारण उसे तार समेत हार्ट से निकालने के जटिल मामले को शहर के डॉक्टर्स ने सफलतापूर्वक कर दिखाया। प्रदेश में पहली बार इस तरह का केस हुआ है जब मरीज को 27 साल पहले लगे पेसमेकर और तार को इंफेक्शन होने पर बिना ओपन हार्ट सर्जरी के हृदय में से निकाला गया। लीड एक्सट्रैक्शन नामक यह प्रक्रिया इतनी जटिल थी कि तार निकालने में जरा भी चूक होती तो मरीज की उसी समय मौत हो सकती थी। शहर के इटरनल हॉस्पिटल में हुए इस केस में डॉक्टर्स ने नई तकनीक लीड लॉकिंग डिवाइस और टाइट रेल डिवाइस की सहायता से इसे सफल बनाया।

पेसमेकर के साथ तार नहीं निकालते तब भी मरीज की जान को खतरा
इटरनल हॉस्पिटल के इंटरवेंशनल व इलेक्ट्रोफिजीयोलॉजी डायेक्टर डॉ. जितेंद्र सिंह मक्कड़ ने बताया कि जयपुर से ही 41 वर्षीय फूलचंद मीणा (परिवर्तित नाम) को कम धड़कन के चलते मात्र 14 वर्ष की उम्र में 27 साल पहले पेसमेकर लगाया गया था। अब तक के समय में दो बार उनके पेसमेकर की बैटरी बदली गई थी। कुछ माह पहले पेसमेकर की जगह में सूजन व मवाद निकलने की स्थिति मे उन्हें इटरनल हॉस्पिटल में दिखाया गया, जहां कुछ टेस्ट होने के बाद यह पता चला कि उनके पेसमेकर और तार में इंफेक्शन हो गया है। डॉ. मक्कड़ ने बताया कि अगर यह समय पर नहीं निकाला जाता तो इंफेक्शन मरीज के पूरे शरीर में फैल जाता और मरीज की मौत हो सकती थी।

हृदय से तार निकालने में था बेहद जोखिम
अस्पताल के इलेक्ट्रोफिजीयोलॉजी कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. कुश कुमार भगत ने बताया कि पेसमेकर और तार इम्प्लांट करने के बाद जैसे-जैसे पुराना होता जाता है, वह शरीर की नसों और टिश्यू के साथ चिपकने लगता है। मरीज के पेसमेकर लगे 27 साल हो चुके थे। ऐसे में पेसमेकर की तार हृदय की नसों और टिश्यू के साथ अच्छे से चिपक गई थी। तार को निकालने में जरा सी लापरवाही होने पर नस या हृदय की झिल्ली फटने का खतरा था, जिससे मरीज की उसी वक्त मौत हो सकती थी।

नई तकनीक से सफल किया केस
इस अत्याधिक जटिल केस को नई तकनीक लीड लॉकिंग डिवाइस और टाइट रेल डिवाइस की सहायता से सफल किया गया। डॉ. जितेंद्र सिंह मक्कड़ ने बताया कि पेसमेकर की तार के साथ चिपकी नसों और दूसरे टिश्यू को निकालने के लिए पहले लीड लॉकिंग डिवाइस से तार को पकड़ा और टाइट रेल डिवाइस से धीरे-धीरे नसों और टिश्यू से उसे अलग किया गया। इस प्रक्रिया में 40 मिनट का समय लगा। हॉस्पिटल की एमडी और को-चेयरपर्सन मंजू शर्मा ने बताया कि यह बहुत ही जटिल केस था, जिसे सफल करने के लिए अत्याधुनिक तकनीक और अनुभवी विशेषज्ञों की आवश्यकता थी। इटरनल हॉस्पिटल के अनुभवी डॉक्टर्स अपने मरीज को विश्वस्तरीय चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए कटिबद्ध हैं। हमें खुशी है कि मरीज अब सामान्य जीवन जी पा रहे हैं। डॉ. अजीत बाना ने कहा कि लीड एक्सट्रैक्शन एक कठिन प्रक्रिया है जो आमतौर पर ओपन हार्ट सर्जरी द्वारा की जाती है और इस बार डॉ. मक्कड़ के नेतृत्व में इटरनल अस्पताल की कार्डियोलॉजी टीम ने बिना किसी ऑपरेशन के लीड लेकर अभूतपूर्व काम किया है। इस केस को सफल करने में हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ कैलाश गढ़वाल, कार्डियक सर्जन डॉ. मनप्रीत सलूजा, कार्डियक एनेस्थिसया विशेषज्ञ डॉ. नवनीत मेहता व प्रशांत वार्षेय का सहयोग रहा।

यह भी पढ़ें:

Video: डॉक्टर्स ने पेट से निकाला बालों का बड़ा गुच्छा

सर्जन एवं विभागाध्यक्ष डॉ. अनिल त्रिपाठी ने बताया कि मरीज के पेट में दर्द, भूख ना लगना, उल्टी होना, वजन कम होना इत्यादि लक्षणों की शिकायत कुछ महीनों से थी।

23/12/2019

एसएमएस अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में बनेगा स्पेशियलिटी क्लीनिक

सवाई मानसिंह अस्पताल में अब मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया एवं मूवमेंट डिस ऑर्डर के मरीजों के लिए राहत की खबर है। इन मरीजों के लिए अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में जल्द ही स्पेशियलिटी क्लीनिक शुरू की जाएगी।

22/11/2019

उत्तर भारत में पहली बार कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण, SMS अस्पताल में हुआ सफल लीवर और किडनी ट्रांसप्लांट

एसएमएस अस्पताल के चिकित्सकों ने एक बार फिर अंग प्रत्यारोपण के क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित किया है। यहां चिकित्सकों ने पहली बार स्वयं के स्तर पर लीवर का ट्रांसप्लांट किया है। इस सफलता पर चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भी उत्तर भारत में पहली बार सफलतापूर्वक कैडवरिक गुर्दा प्रत्यारोपण करने पर एसएमएस प्रबंधन एवं डॉक्टर्स की टीम को बधाई दी है।

13/11/2020

'भारत-अमेरिका नवोन्मेष मंच' का उद्घाटन अगले सप्ताह

किसी नए विचार या नव प्रवर्तन को उसकी खोज के स्तर से उठाकर उसको उसके वाणिज्यिक प्रयोग तक पहुंचाने में मदद के लिए भारत और अमेरिका में एक नई भागीदारी शुरू होने जा रही है। भारत-अमेरिका नवोन्मेष मंच नाम से इस पहल की शुरुआत अगले सप्ताह नई दिल्ली में की जाएगी।

25/08/2016

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

नारायणा हॉस्पिटल में दुर्लभ केस की जटिल सर्जरी, डॉक्टर्स ने बचाई बच्ची की जान

जयपुर के नारायणा हॉस्पिटल में डॉक्टर्स को एक दुर्लभ केस में जटिल सर्जरी कर बच्ची की जान बचाई है। दो साल आठ महीने की काश्वी दिल में छेद, ब्लॉकेज के साथ अत्यंत दुर्लभ जन्मजात विकारों से पीड़ित थी, जिसमें हार्ट और लिवर जैसे महत्वपूर्ण अंग उल्टी दिशा में थे। मामला बेहद जटिल व जोखिम भरा था लेकिन अस्पताल की कार्डियक साइंसेज टीम ने चुनौती स्वीकारी और बच्ची की सफलतापूर्वक सर्जरी की।

03/10/2019

WHO ने कोरोना वायरस को दिया COVID-19 नाम, कहा- 18 महीने में तैयार होगी वैक्सीन

दुनिया के अलग-अलग हिस्‍सों में वैज्ञानिक कोरोना वायरस से निपटने की मुहिम में लगे हैं। इस बीच जिनेवा में कोरोना पर दो दिवसीय वैश्विक अध्ययन और नवाचार सम्मेलन में विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम गेब्रेयसेस ने कोरोना को COVID-19 का नाम दिया।

12/02/2020