Dainik Navajyoti Logo
Thursday 21st of January 2021
 
स्वास्थ्य

105 साल की महिला ने जीती कोविड-19 से जंग, डॉक्टर्स और मरीज के जज्बे ने मिलकर कोरोना को हराया

Tuesday, October 20, 2020 15:40 PM
105 साल की महिला ने कोरोना वायरस को दी मात।

जयपुर। अगर बीमारी का हराने का जज्बा हो और आपके पास एक बेहतर मेडिकल टीम का साथ हो तो उम्र चाहे 100 पार हो, कोरोना जैसी महामारी भी आपके आगे कहीं नहीं ठहरती। यही वाकया लगभग 105 वर्ष की सूरज देवी चौधरी के साथ बीता जिन्होंने इस उम्र में भी कोरोना को हरा दिया। जयपुर शहर के नारायणा मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की अनुभवी कोविड टीम ने सूरज देवी की उम्र को उनके इलाज के बीच नहीं आने दिया बल्कि उनका सफल उपचार कर एक तरह से नया जीवनदान दिया।

लक्षण दिखने तक खाना-पीना भी छोड़ा
105 साल की सूरज देवी को उनके केयर टेकर से संक्रमण हुआ था। उनको तेज बुखार हो गया था और उनकी मुंह के स्वाद व सूंघने की क्षमता भी खत्म हो गई थी। तबियत खराब होने पर उन्होंने खाना-पीना भी बिल्कुल छोड़ दिया था जिसकी वजह से उनमें काफी कमजोरी आ गई थी और काफी वजन भी घट गया था। ऐसे में उन्हें नारायणा मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की इमरजेंसी में लाया गया जहां कोविड विशेषज्ञों की टीम में शामिल श्वास रोग विशेषज्ञ डॉ. शिवानी स्वामी और इंटरनल मेडिसिन एक्सपर्ट्स डॉ. बृज वल्लभ शर्मा व डॉ. अजय नायर ने तुरंत उन्हें अपनी निगरानी में लिया। यहां उनके लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक दवाएं एवं थेरेपी दी गईं और उनकी कमजोरी को ठीक करने के लिए उन्हें ट्यूब द्वारा भोजन दिया गया। 20 दिनों तक योजनाबद्ध तरीके से इलाज एवं 24/7 क्रिटिकल केयर मॉनिटर्रिंग के परिणामस्वरूप मरीज ने करोना से जंग जीत ली।

विशेषज्ञों की मेहनत सफल रही
मरीज के पूरी तरह से स्वस्थ होने के बाद उन्हें हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया गया। इस दौरान सूरज देवी के परिजनों ने कहा कि नारायणा हॉस्पिटल के विशेषज्ञों की तत्परता और बेहतर प्रबंधन ने कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई को और आसान बना दिया।

यह भी पढ़ें:

आइसक्रीम स्टिक टेक्निक से बोन कैंसर का इलाज, रिकवरी में लगने वाला समय और खर्च भी होगा कम

आइसक्रीम स्टिक टेक्निक बोन कैंसर से जुझ रहे रोगियों के इलाज की नवीनतम तकनीक के रूप में सामने आई है। इस तकनीक की सहायता से रोगी की कैंसर ग्रसित बोन को लिक्विड नाइट्रोजन की सहायता से कैंसर मुक्त करना संभव है।

12/06/2020

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बचाती है मैमोग्राफी स्क्रीनिंग

भारत में हर साल करीब डेढ़ लाख महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर होता है। अगर एक उम्र के बाद रूटीन चेकअप कराया जाए तो ब्रेस्ट कैंसर के गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है।

03/05/2019

जयपुर मैराथन : दौड़ लगाकर जयपुरवासियों ने दिया अच्छी फिटनेस रखने का संदेश

कड़ाके की ठंड के बावजूद संडे के दिन देर तक सोने के बजाय देशभर से आए धावकों ने जयपुर मैराथन के 11वें सीजन में भाग लिया। इस दौरान बच्चे, युवा, बुजुर्गों के संग पुलिस, भारतीय सेना और विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ता दौड़े।

03/02/2020

अस्थमा नहीं है लाइलाज, इनहेलेशन थैरेपी है कारगर

अस्थमा एक क्रोनिक (दीर्घावधि) बीमारी है जिसमें श्वास मार्ग में सूजन और श्वास मार्ग की संकीर्णता की समस्या होती है जो समय के साथ कम ज्यादा होती है।

03/05/2019

एसएमएस अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में बनेगा स्पेशियलिटी क्लीनिक

सवाई मानसिंह अस्पताल में अब मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया एवं मूवमेंट डिस ऑर्डर के मरीजों के लिए राहत की खबर है। इन मरीजों के लिए अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में जल्द ही स्पेशियलिटी क्लीनिक शुरू की जाएगी।

22/11/2019

डीआरडीओ ने हिमालय की जड़ी-बूटियां से बनाई सफेद दाग की दवा

देश के प्रमुख रक्षा शोध संगठन ने सफेद दाग की हर्बल दवा मरीजों के विकसित की थी। ये दवा मरीजों के लिए रामबाण साबित हो रही है।

25/06/2019

फिटनेस और गेम्स का कॉम्बीनेशन पसंद आ रहा है शहरवासियों को

शहर के पार्कों में हो रहे योगिक फिटनेस बूट कैम्प्स में भाग लेकर जयपुरवासी अपनी सेहत को अच्छा रखने के साथ साथ शरीर की इंटरनल पॉवर में इजाफा कर रहे हैं।

22/04/2019