Dainik Navajyoti Logo
Saturday 15th of May 2021
 
स्वास्थ्य

105 साल की महिला ने जीती कोविड-19 से जंग, डॉक्टर्स और मरीज के जज्बे ने मिलकर कोरोना को हराया

Tuesday, October 20, 2020 15:40 PM
105 साल की महिला ने कोरोना वायरस को दी मात।

जयपुर। अगर बीमारी का हराने का जज्बा हो और आपके पास एक बेहतर मेडिकल टीम का साथ हो तो उम्र चाहे 100 पार हो, कोरोना जैसी महामारी भी आपके आगे कहीं नहीं ठहरती। यही वाकया लगभग 105 वर्ष की सूरज देवी चौधरी के साथ बीता जिन्होंने इस उम्र में भी कोरोना को हरा दिया। जयपुर शहर के नारायणा मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की अनुभवी कोविड टीम ने सूरज देवी की उम्र को उनके इलाज के बीच नहीं आने दिया बल्कि उनका सफल उपचार कर एक तरह से नया जीवनदान दिया।

लक्षण दिखने तक खाना-पीना भी छोड़ा
105 साल की सूरज देवी को उनके केयर टेकर से संक्रमण हुआ था। उनको तेज बुखार हो गया था और उनकी मुंह के स्वाद व सूंघने की क्षमता भी खत्म हो गई थी। तबियत खराब होने पर उन्होंने खाना-पीना भी बिल्कुल छोड़ दिया था जिसकी वजह से उनमें काफी कमजोरी आ गई थी और काफी वजन भी घट गया था। ऐसे में उन्हें नारायणा मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल की इमरजेंसी में लाया गया जहां कोविड विशेषज्ञों की टीम में शामिल श्वास रोग विशेषज्ञ डॉ. शिवानी स्वामी और इंटरनल मेडिसिन एक्सपर्ट्स डॉ. बृज वल्लभ शर्मा व डॉ. अजय नायर ने तुरंत उन्हें अपनी निगरानी में लिया। यहां उनके लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक दवाएं एवं थेरेपी दी गईं और उनकी कमजोरी को ठीक करने के लिए उन्हें ट्यूब द्वारा भोजन दिया गया। 20 दिनों तक योजनाबद्ध तरीके से इलाज एवं 24/7 क्रिटिकल केयर मॉनिटर्रिंग के परिणामस्वरूप मरीज ने करोना से जंग जीत ली।

विशेषज्ञों की मेहनत सफल रही
मरीज के पूरी तरह से स्वस्थ होने के बाद उन्हें हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया गया। इस दौरान सूरज देवी के परिजनों ने कहा कि नारायणा हॉस्पिटल के विशेषज्ञों की तत्परता और बेहतर प्रबंधन ने कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई को और आसान बना दिया।

यह भी पढ़ें:

ये 'मेडिकल ATM' चंद मिनटों में करेगा 58 तरह की मेडिकल जांच

देश में जल्दी ही बिना कठिनाई और अत्यधिक तेज मेडिकल जांच हर किसी के लिए संभव हो सकेगी। ऐसा एटीएम जैसे एक कियोस्क के कारण होगा। जो लोगों के लिए 58 तरह के अधिक बुनियादी और उन्नत पैथोलॉजी परीक्षणों की सुविधा देगा और अपनी रिपोर्ट भी तत्काल दे देगा।

04/10/2019

वैज्ञानिकों का दावा, टी सेल थैरेपी से ठीक किया जा सकता है कैंसर

वैज्ञानिकों ने दावा किया कि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानि इम्यूनिटी को बढ़ाकर हर तरह के कैंसर से लड़ सकते हैं।

22/01/2020

सिर में बिजली कौंधने जैसा दर्द तो हो सकता है ट्राइजेमिनल न्यूरोलजिया, लापरवाही हो सकती है जानलेवा

सिर दर्द कई तरह का होता है, लेकिन अगर आपको सिर व चेहरे पर बिजली कौंधने जैसा तेज दर्द हो तो आपको सावधान होने की जरूरत है। यह गंभीर न्यूरो डिजिज ट्राइजेमिनल न्यूरोलजिया हो सकती है। आमतौर पर युवाओं में ज्यादा देखे जाने वाली इस बीमारी में दर्द का पहला अटैक आते ही बिना देर किए विशेषज्ञ डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

22/01/2021

एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित मरीज की हिप जॉइंट सर्जरी, 3डी प्रिंटिंग तकनीक से राजस्थान में पहले ऑपरेशन का दावा

राजधानी के एचसीजी अस्पताल में 20 साल से एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस बीमारी से पीड़ित मरीज की सफल सर्जरी की गई। इस बीमारी में कूल्हे के जोड़ के एक जगह जड़ हो गए। डॉक्टर्स ने इस जटिल केस को 3डी प्रिंटिंग तकनीक की सहायता से सफलतापूर्वक ठीक कर दिया। दावा है कि राजस्थान में इस तरह की सर्जरी का यह पहला मामला है।

03/12/2019

देश में 16 प्रतिशत बच्चों में बिस्तर गीला करने की बीमारी

देश में स्कूल जाने की उम्र वाले 12 से 16 प्रतिशत बच्चे सोते समय बिस्तर गीला करने की समस्या से जूझ रहे हैं। यह समस्या न सिर्फ उनके व्यक्तित्व को प्रभावित करती है बल्कि उनके आत्मविश्वास को भी कमजोर कर रही है।

06/04/2019

जयपुर में जुटे देश-विदेश के नामचीन शिशु रोग विशेषज्ञ

बंदोपाध्याय ने कहा कि देश में शिशु मृत्युदर चिंता का विषय है, इसे कम करने के लिए हमें समाज की मानसिकता को बदलना होगा।

05/10/2019

बिना चीरफाड़ के अत्याधुनिक तकनीक से बदला हार्ट वॉल्व, मरीज की पहले हो चुकी बायपास सर्जरी

अधिक उम्र पर बायपास सर्जरी का इतिहास एवं कैंसर का सफल उपचार करा चुके 73 वर्षीय नरेन शर्मा (परिवर्तित नाम) को फिर से जब हृदय की गंभीर बीमारी हुई तो अत्याधुनिक तकनीक उनके लिए वरदान साबित हुई। ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वॉल्व इम्प्लांटेशन(टावी) द्वारा मरीज की सिकुड़ी हुई एओर्टिक वॉल्व को बिना ओपन चेस्ट सर्जरी के बदल दिया।

06/01/2020