Dainik Navajyoti Logo
Friday 23rd of July 2021
 
स्वास्थ्य

भारत में पहला मामला, महिला के शरीर में दुर्लभ जटिलताएं, देखकर चिकित्सक हैरान

थांवला कस्बे के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर एक 22 वर्षीय महिला के शरीर के अन्दरूनी भागों में एक से अधिक प्राइवेट पार्ट होने के खुलासे के बाद चिकित्सक हैरान रह गए। इन शारीरिक जटिलताओं के चलते महिला के दो माह के गर्भ को गिराना पड़ा। महिला को भी इस बात का ध्यान चिकित्सकों द्वारा कराई गई सोनोग्राफी के बाद पता चला।

06 Jul 10:15 AM

ब्लैक फंगस पर दो बड़े डॉक्टरों की सलाह, डायबिटीज काबू में तो म्यूकोरमाइकोसिस से बचे रहेंगे

कोरोना महामारी के बीच एक और गंभीर बीमारी ‘ब्लैक फंगस’ के मामले देश के कई राज्यों में सामने आ रहे हैं। कई राज्यों ने तो इसे महामारी भी घोषित कर दिया है। इस बीच एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि अनियंत्रित मधुमेह और कोरोना से संक्रमित होने की वजह से म्यूकोरमाइकोसिस का खतरा बढ़ सकता है।

22 May 10:55 AM

कोविड के दौर में डेंगू भी दे रहा दस्तक, डेंगू के प्रारंभिक लक्षण कोरोना के जैसे होने से पैदा हो रही उलझन

कोविड महामारी के दौर में जहां लक्षणों के आधार पर जांच व इलाज की दिशा तय की जा रही है, वहीं इस कड़ी में बहुत सी ऐसी बीमारियां भी हैं जिनके प्राथमिक लक्षण कोविड से मिलते जुलते हैं। ये लक्षण लोगों मन में कुछ हद तक उलझन पैदा कर सकते हैं। इन्हीं में से एक है डेंगू।

16 May 11:30 AM

नई तकनीकों से कार्डियक सर्जरी और आसान, नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का बदल रहा ट्रेंड

नई जांच तकनीकों और एंजियोप्लास्टी में काम आने वाले नई जनरेशन के स्टेंट्स से एंजियोप्लास्टी का ट्रेंड बदल रहा है और जटिल केस भी आसानी से हो रहे हैं। शहर के सीनियर कार्डियोलोजिस्ट डॉ. जितेंद्र मक्कड़ ने बताया कि इंट्रावस्कुलर अल्ट्रासाउंड (आइवीस) तकनीक से आर्टरी की सिकुड़न, ब्लॉकेज की लंबाई और कठोरता, आर्टरी में जमे कैल्शियम के बारे में पता चलता है

17 Mar 10:25 AM

78 वर्षीय बुजुर्ग को मिली राहत, हार्ट वॉल्व का बिना चीरफाड़ के किया प्रत्यारोपण

जयपुर शहर के जगतपुरा स्थित एक निजी अस्पताल में 78 वर्षीय मरीज के हार्ट वॉल्व का बिना किसी चीरफाड़ के सफलतापूर्वक प्रत्यारोपण किया गया है। अस्पताल के वरिष्ठ कार्डियक सर्जन डॉ. समीर शर्मा ने बताया कि मरीज को करीब पांच साल पहले हृदय की नसों में रुकावट के बाद दो स्टंट लगाए गए थे।

05 Mar 10:35 AM

एम्स में आइवीयूएस व आईएफआर तकनीक से हुई पहली बार एंजियोग्राफी

एम्स जोधपुर के हृदय रोग विभाग ने इस नई तकनीक का इस्तेमाल करते हुए दो मरीजों का सफल इलाज किया। उत्तर भारत में इस तकनीक की सहायता से पहली बार इलाज किया गया। एम्स के निदेशक डॉक्टर संजीव मिश्रा ने बताया कि संस्थान के सभी विभागों में उच्चतम तकनीक से मरीजों का इलाज किया जाता है।

28 Feb 00:10 AM

टीएवीआर तकनीक से 28 वर्षीय गर्भवती महिला का बदला हार्ट वॉल्व

शहर के चिकित्सकों ने एक महिला का तीन माह की गर्भावस्था के दौरान भी बिना सर्जरी के वॉल्व बदलने में सफलता प्राप्त की है। इस प्रोसीजर को सफलता पूर्वक अंजाम देने वाले शहर चीफ इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. रवीन्द्र सिंह राव ने बताया कि 28 वर्षीय यह महिला सिम्पटोमैटिक एओर्टिक स्टेनोसिस से पीड़ित थी।

14 Feb 10:45 AM

SMS में हुआ प्रदेश का 41वां अंगदान, 14 वर्षीय विशाल ने ब्रेन डैड होने के बाद 4 लोगों को दिया जीवनदान

सवाई मानसिंह अस्पताल में 41वां अंगदान किया गया है। प्राचार्य एसएमएस मेडिकल कॉलेज डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि देर रात तक अंगों का प्रत्यारोपण किया गया। दोनों किडनीयों को सवाई मानसिंह चिकित्सालय, लिवर को महात्मा गांधी अस्पताल, जयपुर में प्रत्यारोपित किया गया।

02 Feb 12:20 PM

पेल्विक बोन ट्यूमर की जटिल सर्जरी, महात्मा गांधी अस्पताल में हुआ सफल ऑपरेशन

महात्मा गांधी अस्पताल के चिकित्सकों ने झुंझुनूं जिले की 14 वर्षीय किशोरी के पेल्विक बोन ट्यूमर की सफल सर्जरी की है। किशोरी अपने बाएं कूल्हे (पेल्विक रीजन) में दर्द को लेकर अस्पताल भर्ती हुई। जांच में उसे इविंग्स सारकोमा नामक कैंसर की पुष्टि हुई। यह बीमारी लाखों में से किसी एक को होती है।

31 Jan 10:40 AM

स्ट्रोक का सही समय पर इलाज कर 34 वर्षीय महिला मरीज की बचाई जान

जयपुर शहर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टमी तकनीक से स्ट्रोक से पीड़ित एक 34 वर्षीय महिला मरीज की जान बचाने में सफलता प्राप्त की है। दरअसल मरीज को हाल ही में जब दुर्लभजी अस्पताल की इमरजेंसी में लाया गया था तब उसे अचेतन अवस्था के साथ ही शरीर के बाएं हिस्से में लकवे की शिकायत थी।

24 Jan 10:40 AM