Dainik Navajyoti Logo
Sunday 18th of April 2021
 
गैजेट्स

कैम स्कैनर एप में आया खतरनाक वायरस, गूगल प्ले स्टोर से हटाया

Wednesday, August 28, 2019 19:10 PM
कैम स्कैनर एप लोगो।

मोबाइल में डॉक्यूमेट को स्कैन करने लिए कैम स्कैनर एप काफी पॉपुलर है। गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद यह एप हर किसी के स्मार्टफोन में मिल जाती है। लेकिन एंड्रॉयड यजर्स के लिए एक बड़ी समस्या सामने आई है। पिछले कुछ समय से गूगल प्ले स्टोर पर लगातार फेक ऐप्स की लिस्ट सामने आ रही है और अब कैम स्कैनर एप में भी मैलवेयर पाया गया है।

साइबर सिक्योरिटी कैसपरस्काई ने यूज़र्स को अपने ब्लॉग पोस्ट में चेतावनी देते हुए कहा कि गूगल प्ले स्टोर पर पॉपुलर डॉक्यूमेंट स्कैनिंग ऐप कैम स्कैनर में कुछ खतरनाक मॉड्यूल मिले हैं जो या तो एड पुश कर रहे हैं या यूजर के स्मार्टफोन में बिना सहमति के एप डाउनलोड करा रहे हैं। रिसर्चर्स के मुताबिक इस एप के नए वर्जन के साथ मिलने वाला मैलिशस मॉड्यूल ट्रोजन ड्रॉपर को डिलिवरी मकैनिज्म की तरह एक मकसद से डिजाइन किया गया है। कैसपरस्काई टीम के रिसर्चर्स को इससे पहले चाइनीज स्मार्टफोन्स की कुछ ऐप्स में ट्रोजन ड्रॉपर  मैलवेयर प्री-इंस्टॉल मिला था। एप के एक वर्जन में यह मैलवेयर स्पॉट करने और गूगल से इसे रिपोर्ट करने के बाद एप को गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया गया है।

रिसर्चर्स ने रिपोर्ट किया कि कैम स्कैनर ने लेटेस्ट वर्जन में यह मैलवेयर मॉड्यूल हटा दिया है, लेकिन अलग-अलग डिवाइसेज पर अलग-अलग वर्जन मिल सकते हैं और उनमें से कई में मैलिशयस कोड मौजूद हैं। तो ऐसे में किसी भी खतरे से फोन को बचाने के लिए इस ऐप को तुरंत अनइंस्टॉल कर दें।  बता दें कि ये ऐप प्ले स्टोर की पॉपुलर ऐप्स में से एक है, जिसे 10 करोड़ से ज़्यादा लोगों ने डाउनलोड किया है।


 

यह भी पढ़ें:

अब टेक कंपनियों को न्यूज शेयर करना पड़ेगा महंगा, ऑस्ट्रेलिया के नए कानून के तहत करना होगा भुगतान

ऑस्ट्रेलिया संसद ने आखिरकार इस कानून को पारित कर दिया, जिसमें टेक कम्पिनयों को अपने प्लेटफॉर्म पर कोई भी न्यूज पब्लिश करने पर पब्लिशर या मीडिया हाउस को उसका भुगतान करना होगा। ऑस्ट्रेलिया में बड़ी टेक्नोलॉजी कम्पिनयों और मीडिया कंपनियों के बीच लड़ाई में मिसाल के लिए विश्व स्तर पर करीब से देखा जा रहा है।

27/02/2021

UC ब्राउजर की भारत में क्लाउड स्टोरेज सेवा यूसी ड्राइव लॉन्च करने की तैयारी

भारतीय बाजार में अपनी उपस्थिति को और सशक्त बनाने के उद्देश्य से यूसी ब्राउजर इन एप क्लाउड स्टोरेज सेवा यूसी ड्राइव लॉन्च करने की तैयारी में है। इससे यूजर अपने मोबाइल फोन का स्टोरेज या मेमोरी का उपयोग किए बगैर ब्राउजिंग करते समय अलग-अलग तरह के कंटेंट सीधे डाउनलोड कर सकेंगे।

07/01/2020

रिलायंस जियो ने शुरू की वाई-फाई कॉलिंग सेवा, भीड़भाड़ वाले इलाके में भी मिलेगी अच्छी कॉल क्वालिटी

रिलायंस जियो ने भारत में सब्सक्राइबर्स के लिए वाई-फाई कॉलिंग की शुरुआत कर दी है। ये जानकारी एक रिपोर्ट के हवाले से मिली है। इस फीचर से यूजर्स सेल्यूलर की जगह वाई-फाई नेटवर्क के जरिए वॉयस कॉल्स कर सकते हैं या रिसीव कर सकते हैं।

18/12/2019

व्हाट्सऐप की नई शर्तों को नहीं मानने वाले यूजर्स नहीं कर पाएंगे संदेशों का आदान-प्रदान

लोकप्रिय मैसेंजर ऐप व्हाट्सऐप ने अपनी नई शर्तों और नीतियों को स्वीकार करने के लिए 15 मई की समयसीमा तय की है और इसे नहीं मानने वाले यूजर्स इस अवधि के बाद संदेशों का आदान-प्रदान नहीं कर पाएंगे।

21/02/2021

विवो ने लॉन्च किया नया V 19 स्मार्टफोन, 15 मई से ऑनलाइन होगी बिक्री

स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी विवो ने भारतीय बाजार में डुअल फ्रंट कैमरा वाला अपना नया स्मार्टफोन V 19 लॉन्च करने की घोषणा की जिसकी कीमत 31990 रुपए तक है। क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 712 मोबाइल प्लेटफॉर्म और एंड्रायड 10 ऑपरेटिंग सिस्टम पर आधारित इस स्मार्टफोन में 32 मेगा पिक्सल और 8 मेगा पिक्सल का फ्रंट कैमरा है।

13/05/2020

अब ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर मिलेंगे मैकफे के इंटरनेट सिक्योरिटी सॉल्यूशन, फ्लिपकार्ट के साथ साझेदारी

सिक्योरिटी सॉल्यूशन सॉफ्टवेयर प्रदाता कंपनी मैकफे के उत्पाद अब आनॅलाइन मार्केटप्लेस फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध होंगे। फ्लिपकार्ट के साथ मैकफे की साझेदारी का उद्देश्य ऑनलाइन सुरक्षा का महत्व प्रदर्शित कर उपभोक्ताओं को सुकून प्रदान करना है।

07/01/2020

जियो फोन के केएआईओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध आरोग्य सेतु एप

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमित व्यक्ति के आसपास होने पर सतर्क करने वाला आरोग्य सेतु एप अब सभी जियो फोन के केएआईओएस प्लेटफॉर्म पर भी उपलब्ध है। आरोग्य सेतु एप की तरफ से यह जानकारी दी गई है।

20/05/2020