Dainik Navajyoti Logo
Thursday 17th of June 2021
 
मूवी-मस्ती

#Happy Birthday A R Rahman: दिलीप कुमार से बने रहमान, भारतीय संगीत को दिलाई अंतरराष्ट्रीय पहचान

Monday, January 06, 2020 14:35 PM
ए आर रहमान (फाइल फोटो)

मुंबई। भारतीय सिनेमा जगत में एआर रहमान को एक ऐसे प्रयोगवादी और प्रतिभाशाली संगीतकार के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने भारतीय सिनेमा संगीत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विशेष पहचान दिलाई है। 6 जनवरी 1967 को तमिलनाडु में जन्मे रहमान का रूझान बचपन के दिनों से ही संगीत की ओर था। उनके पिता आरके शेखर मलयालम फिल्मों के लिए संगीत दिया करते थे। रहमान भी अपने पिता की तरह संगीतकार बनना चाहते थे। संगीत के प्रति उनके बढ़ते रूझान को देख उनके पिता ने उन्हें इस राह पर चलने के लिए प्रेरित किया और संगीत की शिक्षा देने लगे।

सिंथेसाइजर और हारमोनियम पर संगीत का रियाज करने वाले रहमान की 'की बोर्ड' पर उंगलियां ऐसा कमाल करती थी कि सुनने वाले स्तम्भ रह जाते थे कि इतना छोटा बच्चा इतनी मधुर धुन कैसे बना सकता है। उस समय रहमान की उम्र महज 6 वर्ष की थी। एक बार उनके घर में उनके पिता के एक मित्र आए और जब उन्होंने रहमान की बनाई धुन सुनी तो सहसा उन्हें विश्वास नहीं हुआ। उनकी परीक्षा लेने के लिए उन्होंने हारमोनियम पर कपड़ा रख दिया और रहमान से धुन निकालने के लिए कहा। हारमोनियम पर रखे कपड़े के बावजूद रहमान की उंगलियां बोर्ड पर थिरक उठी और उस धुन को सुन वह चकित रह गए।

रहमान ने एक बैंड नेमेसीस एवेन्यू की नींव रखी। वह इस बैंड में सिंथेनाइजर, पियानो, गिटार और हारमोनियम बजाते थे। अपने संगीत के शुरुआती दौर से ही रहमान को सिंथेनाइजर ज्यादा अच्छा लगता था। उनका मानना था कि वह एक ऐसा वाद्य यंत्र है जिसमें संगीत और तकनीक का बेजोड़ मेल देखने को मिलता है। रहमान अभी संगीत सीख ही रहे थे तो उनके सिर से पिता का साया उठ गया लेकिन रहमान ने हिम्मत नहीं हारी और संगीत का रियाज सीखना जारी रखा। वर्ष 1989 की बात है रहमान की छोटी बहन काफी बीमार पड़ गई और सभी चिकित्सकों ने कह दिया कि उसके बचने की कोई उम्मीद नहीं है।

रहमान ने अपनी छोटी बहन के जीवन की खातिर मंदिर, मस्जिदों में दुआएं मांगी और जल्द ही उनकी दुआ रंग लाई। उनकी बहन चमत्कारिक रूप से एकदम स्वस्थ हो गई। इस चमत्कार को देख रहमान ने इस्लाम कबूल कर लिया और अपना नाम एएस दिलीप कुमार से अल्लाह रखा रहमान यानि एआर रहमान रख लिया। इस बीच रहमान ने मास्टर धनराज से संगीत की शिक्षा हासिल की और दक्षिण फिल्मों के प्रसिद्ध संगीतकार इल्लय राजा के समूह के लिए की बोर्ड बजाना शुरू कर दिया। उस समय रहमान की उम्र महज 11 वर्ष थी। इस दौरान रहमान ने कई नामी संगीतकारों के साथ काम किया। इसके बाद रहमान को लंदन के ट्रिनिटी कॉलेज ऑफ म्यूजिक में स्कॉलरशिप मिली और यहां से उन्होंने वेस्टर्न क्लासिकल म्यूजिक की स्नातक की डिग्री भी हासिल की।

स्नातक की डिग्री लेने के बाद रहमान घर आ गए और उन्होंने अपने घर में हीं एक म्यूजिक स्टूडियों खोला और उसका नाम पंचाथम रिकॉर्ड इन रखा। इस दौरान रहमान ने लगभग एक साल तक फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने के लिए संघर्ष करते रहे और टीवी के लिये छोटा-मोटा संगीत देने और रेडियो जिंगल बनाने का काम करते रहे। वर्ष 1992 रहमान के सिने कैरियर का महत्वपूर्ण वर्ष साबित हुआ। अचानक उनकी मुलाकात फिल्म निर्देशक मणि रत्नम से हुई। मणि उन दिनों फिल्म रोजा के निर्माण में व्यस्त थे और अपनी फिल्म के लिए संगीतकार की तलाश में थे। उन्होंने रहमान को अपनी फिल्म में संगीत देने की पेशकश की ।

कश्मीर आतंकवाद के विषय पर आधारित इस फिल्म में रहमान ने अपने सुपरहिट संगीत से श्रोताओं का दिल जीत लिया और इसके साथ हीं वह सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित किए गए। इसके बाद रहमान ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और फिल्मों में अपने एक से बढ़कर एक एवं बेमिसाल संगीत से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। रहमान ने तिरूड़ा तिरूड़ा, बॉम्बे, जैंटलमैन, इंडियन और कादलन आदि फिल्मों में भी सुपरहिट संगीत दिया और संगीत जगत में अपनी अलग पहचान बना ली।

रहमान ने कर्नाटक संगीत, शास्त्रीय संगीत और आधुनिक संगीत का मिश्रण कर श्रोताओं को एक अलग संगीत देने का प्रयास किया। अपनी इन्हीं खूबियों के कारण वह श्रोताओं के बीच बहुत लोकप्रिय हो गए। इसके बाद रहमान निर्माता-निर्देशको की पहली पसंद बन गए और वे रहमान को अपनी फिल्म में संगीत देने के लिए पेशकश करने लगे, लेकिन रहमान ने केवल उन्हीं फिल्मों के लिए संगीत दिया जिनके लिए उन्हें महसूस हुआ कि हां इसमें कुछ बात है। वर्ष 1997 में भारतीय स्वतंत्रता की 50वीं वर्षगांठ पर उन्होंने स्वर साम्राज्ञी लता मंगेशकर के साथ मिलकर मां तुझे सलाम का निर्माण किया। वर्ष 1999 में रहमान ने कॉरियोग्राफर शोभना, प्रभुदेवा और उनके डांसिंग समूह के साथ मिलकर माइकल जैक्सन के माइकल जैक्सन एंड फ्रेंड्स टूर के लिए म्यूनिख, जर्मनी में कार्यक्रम पेश किया। इसके बाद रहमान को म्यूजिक कॉन्सर्ट में भाग लेने के लिए विदेशों से भी प्रस्ताव आने लगे। उन्होंने पाश्चात्य संगीत के साथ-साथ भारतीय शास्त्रीय संगीत के मिश्रण को लोगों के सामने रखना शुरू कर दिया था।

एआर रहमान को बतौर संगीतकार अब तक 15 बार फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। इन सबके साथ ही अपने उत्कृठ संगीत के लिए 6 बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उन्हें पद्मश्री से भी नवाजा जा चुका है, साथ ही विश्व संगीत में महत्वपूर्ण योगदान के लिए वर्ष 2006 में उन्हें स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में सम्मानित किया गया था। रहमान के सिने करियर में एक नया अध्याय उस समय जुड़ गया जब फिल्म स्लमडॉग मिलिनेयर ने दो ऑस्कर पुरस्कार जीतकर इतिहास रच दिया। रहमान को 81वें एकादमी अवॉर्ड समारोह में इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया। रहमान आज भी उसी जोशो खरोश के साथ संगीत जगत को अपने जादुई संगीत से सुशोभित कर रहे है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

वेबसीरीज में काम करेंगी सुष्मिता सेन

बॉलीवुड अभिनेत्री और पूर्व मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेन वेबसीरीज से एक्टिंग की दूसरी पारी खेलने जा रही हैं। सुष्मिता ने अपनी अपकमिंग वेबसीरीज आर्या का पहला लुक शेयर किया है।

03/06/2020

साफ-सुथरी और पारिवारिक मनोरंजन से भरपूर फिल्म है 'सबका बाप अंगूठा छाप': अक्षरा सिंह

भोजपुरी सिनेमा की सुपरस्टार अभिनेत्री अक्षरा सिंह का कहना है कि उनकी आने वाली फिल्म 'सबका बाप अंगूठा छाप' साफ-सुथरी पारिवारिक मनोरंजन से भरपूर फिल्म है, जो लोगों को बेहद पसंद आएगी। बाबा मोशन पिक्चर्स के बैनर तले बन रही फिल्म 'सबका बाप अंगूठा छाप' में जुबली स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ और अक्षरा सिंह की मुख्य भूमिकाएं है।

14/04/2021

कैंसर के बारे में पता चलने पर टूट गयी थी सोनाली बेंद्रे

बॉलीवुड अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे का कहना है कि जब उन्हें कैंसर की बीमारी का पता चला था तब वह टूट गयी थी और बहुत रोई थी।

06/05/2019

मोगैंबो की भूमिका निभा सकते है शाहरुख खान

बॉलीवुड के किंग खान शाहरुख खान सिल्वर स्क्रीन पर मोगैंबो की भूमिका निभा सकते हैं। बॉलीवुड में चर्चा है कि निर्देशक अली अब्बास जल्द ही वर्ष 1987 में प्रदर्शित फिल्म मिस्टर इंडिया का रीमेक बनाने जा रहे हैं।

17/02/2020

कलाकारों के लिए फायदेमंद हो सकता है ओटीटी प्लेटफॉर्म: संजय दत्त

बॉलीवुड के माचोमैन संजय दत्त का कहना है कि ओटीटी (ओवर द टॉप) प्लेटफॉर्म कलाकारों के लिए फायदेमंद हो सकता है। संजय दत्त ने कहा कि ओटीटी प्लेटफॉर्म फल-फूल रहे हैं और कंटेंट के मामले में विविधता लाए हैं। वे कलाकारों को कंटेंट और कैरेक्टर्स के साथ प्रयोग करने में सक्षम बनाते हैं।

10/05/2020

सुभाष घई ने किया था महिमा चौधरी को लॉन्च, सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का मिला था अवॉर्ड

पश्चिम बंगाल के दार्जलिंग में 13 सितंबर 1973 को जन्मी बॉलीवुड की जानीमानी अभिनेत्री महिमा चौधरी का मूल नाम रितु चौधरी है। उन्होंने अपने करियर की शुरूआत विज्ञापन फिल्मों से की।

13/09/2019

जबरदस्त लुक को लेकर कांस में छाई हुई हैं दीपिका पादुकोण

फ्रांस में चल रहे 72वें कांस फिल्म फेस्टिवल में बॉलीवुड अभिनेत्रीयों के अलग- अलग लुक में नजर आ रही हैं। कंगना रनौत, प्रियंका चौपड़ा, और दिपीका पादुकोण इन तीनों एक्ट्रेस का लुक तो सबसे ज्यादा चर्चा में है

18/05/2019