Dainik Navajyoti Logo
Thursday 20th of January 2022
 
शिक्षा जगत

CBSE बोर्ड के रिजल्ट फॉर्मूला को 'सुप्रीम' मंजूरी, 12वीं की परीक्षा रद्द करने के खिलाफ दायर याचिकाएं खारिज

Wednesday, June 23, 2021 09:35 AM
सुप्रीम कोर्ट।

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड द्वारा 12वीं की परीक्षा रद्द किए जाने के खिलाफ दायर याचिकाओं को खारिज कर दिया है। कोर्ट ने बोर्ड की छात्रों के मूल्यांकन संबंधी स्कीम को मंजूर कर लिया। सुनवाई के दौरान एक याचिकाकर्ता ने कहा कि जो बच्चे 12वीं क्लास में शमिल होने थे, उन्हें एनडीए और दूसरे प्रतियोगी परीक्षाओं में शामिल होना है। क्या सिर्फ 12वीं की परीक्षा ही कोरोना के खतरे का कारण बन सकती है, दूसरी नहीं। ये तो संभव नहीं है। फिर 12वीं परीक्षा को रद्द करने का क्या औचित्य है। फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कहा कि छात्रों ने कोर्ट में याचिका दायर की है। परीक्षा में पेश होने के लिए अपनी असमर्थता जाहिर की है, इसके बाद परीक्षा रद्द हुई। क्या आप चाहते हैं कि ये फैसला पलटकर फिर से 20 लाख छात्रों को अधर में डाल दें।

जनहित में लिया गया फैसला: जस्टिस खानविलकर
जस्टिस एएम खानविलकर ने कहा कि ये बड़े जनहित में लिया गया फैसला था। हम प्रथमदृष्टया इस फैसले से सहमत थे। हरेक परीक्षा अलग है। हरेक का अलग बोर्ड है। सीबीएसई ने जनहित में परीक्षा रद्द करने का फैसला लिया है। स्थिति लगातार बदल रही है। ये पता नहीं कि एग्जाम कब होंगे, अनिश्चितता की स्थिति से बच्चों की मनोदशा पर बुरा ही असर पड़ेगा।

फैसला स्कूलों और छात्रों पर छोड़ देना चाहिए
यूपी पेरेंट्स एसोसिएशन की ओर से वकील विकास सिंह ने कहाकि आईसीएसई का कहना है कि लिखित परीक्षा को लेकर कोई स्पष्टता नहीं है। मेरे ख्याल से दोनों बोर्ड की परीक्षा रद्द करने के बजाए ये फैसला स्कूलों और छात्रों पर छोड़ देना चाहिए कि वो लिखित परीक्षा में पेश होना चाहते हैं या नहीं। तब कोर्ट ने कहा कि स्कूल कैसे अपने स्तर पर फैसला ले सकते हैं। कृपया बेतुकी सलाह न दें। जो छात्र मूल्यांकन से सहमत नहीं, वो आगे चलकर होने वाले लिखित परीक्षा में पेश हो सकते हैं। स्कीम में इसका पहले से प्रावधान है। किसी छात्र को इससे दिक्कत हो, वो हमारे सामने अपनी बात रख सकते हैं।

छात्रों के पास दोनों विकल्प
अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि स्कूलों के पास फैसला लेने का अधिकार नहीं है। पर छात्रों के पास जरूर है। उनके पुराने परफॉर्मेंस के आधार पर उन्हें आंका जाएगा। अगर वो इससे संतुष्ट नहीं तो आगे परीक्षा में बैठ सकते हैं। उनके लिए वैकल्पिक परीक्षा में मिले अंक ही फाइनल होंगे। कोर्ट ने पूछा कि क्या छात्रों को शुरू में ही मौका नहीं दिया जा सकता कि वो लिखित परीक्षा या आंतरिक मूल्यांकन मे एक विकल्प चुन लें। जो यह विकल्प चुनें, उनका मूल्यांकन न हो। आप उनके लिए परीक्षा का इंतजाम करें। तब अटार्नी जनरल ने कहा कि स्कीम के तहत छात्रों को दोनों विकल्प मिल रहे हैं। अगर वो आंतरिक मूल्यांकन में मिले नंबर से संतुष्ट नहीं होंगे, तो लिखित परीक्षा का विकल्प चुन सकते हैं। लेकिन अगर लिखित परीक्षा चुनते हैं तो फिर मूल्यांकन में मिले नंबर का कोई औचित्य नहीं है। लिखित परीक्षा के नंबर ही मान्य होंगे। जस्टिस महेश्वरी ने भी कहा कि छात्रों को ये अंदाजा ही नहीं होगा कि उन्हें आंतरिक मूल्यांकन में कितने नंबर मिलेंगे। लिहाजा लिखित परीक्षा या आतंरिक मूल्यांकन में से किसी एक विकल्प को चुनना उनके लिए भी मुश्किल होगा।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

130 से कम अंक तो कॉमन रैंक लिस्ट में नहीं मिलेगा स्थान

देश की अति प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई एडवांस-2019 का 27 मई को आयोजित की गई थी। आईआईटी रुड़की प्रशासन की ओर से जारी इंफॉर्मेशन बुलेटिन के अनुसार शुक्रवार को सुबह 10 बजे प्रतिष्ठित जेईई एडवांस परीक्षा का परिणाम घोषित कर दिया जाएगा।

14/06/2019

ऑन स्क्रीन मूल्यांकन प्रणाली शुरू करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय बना अम्बेडकर विधि विश्वविद्यालय

विश्वविद्यालय द्वारा एक सॉफ़्टवेयर तैय्यार किया गया है जिसे ऑनस्क्रीन इवैल्यूएशन सिस्टम नाम दिया गया है ।

18/11/2021

एमजीपीएस की छात्राओं का परचम

माहेश्वरी गर्ल्स पब्लिक स्कूल विद्याधर नगर की छात्राओं ने सीबीएसई की दसवीं बोेर्ड परीक्षा में परचम लहराया है। प्रिन्सिपल ओ.पी.गुप्ता ने बताया कि श्रेया खाण्डल ने 99.16 प्रतिशत

09/05/2019

10वीं-12वीं बोर्ड एग्जाम रद्द, सवा अरब से ज्यादा का परीक्षा शुल्क लौटाने पर आरबीएसई खामोश

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की सैकण्डरी और सीनियर सैकण्डरी की परीक्षा रद्द होने के बाद अब अभिभावकों और परीक्षार्थियों में फीस वापसी को लेकर चर्चा शुरू हो गई है। लेकिन बोर्ड का फीस लौटाने पर अब तक कोई पक्ष सामने नहीं आया है। इससे संशय की स्थिति है कि फीस वापस मिलेगी या नहीं?

04/06/2021

राजस्थान यूनिवर्सिटी पीजी फाइनल ईयर की परीक्षाएं 4 अगस्त से, विषय के दोनों पेपर एक साथ

राजस्थान विश्वविद्यालय ने स्नातक फाइनल ईयर की परीक्षा के बाद स्नातकोत्तर (पीजी) अंतिम वर्ष की परीक्षा तिथि घोषित कर दी है। इसको लेकर यूनिवर्सिटी के परीक्षा नियंत्रक डॉ. राकेश राव ने बताया कि यूजी की परीक्षाएं 29 जुलाई और पीजी फाइनल ईयर की परीक्षाएं 4 अगस्त से शुरू होंगी।

16/07/2021

आरयू में रोजगार मेले का आयोजन

आरयू के कन्वेंशन सेंटर में कौशल एवं आजीविका विकास निगम के सहयोग से मेघा रोजगार मेले का आयोजन किया गया, जिसमें राजस्थान विश्वविद्यालय संगठक कॉलेजों सहित प्रदेशभर के युवाओं ने हिस्सा लिया।

20/12/2019

पहली से पांचवी तक के खुलें स्कूल

पहले दिन कम रही उपस्थिति

27/09/2021