Dainik Navajyoti Logo
Saturday 15th of May 2021
 
शिक्षा जगत

उच्च शिक्षा के लिए भारतीय छात्रों की पसंद बन रहा है अमेरिका

Sunday, December 01, 2019 13:30 PM
फाइल फोटो

जयपुर। उच्च शिक्षा पर नवीनतम ओपन डोर्स रिपोर्ट 2019 से मालूम होता है कि इस समय लगभग दो लाख भारतीय अमेरिका में उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। यह छह साल पहले की तुलना में तकरीबन दोगुना है। साल 2013-14 में अमेरिका में 102,673 भारतीय छात्र थे, हाल के सालों में जिनकी संख्या में निरंतर इजाफा हुआ है। जिस कारण अब 2018-19 में यह तादाद बढ़कर 202,014 हो गई है। इस रिपोर्ट से एक अन्य खास बात यह मालूम होती है कि अब ज्यादातर छात्र स्कूल के बाद सीधे अमेरिका का रुख कर रहे हैं। इसके साथ ही इस रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि भारतीय छात्रों की दिलचस्पी अमेरिकी विश्वविद्यालय शिक्षा में कम और गैर-डिग्री या वोकेशनल पाठ्यक्रमों में अधिक हो रही है।

अधिकतम प्रवेश वृद्धि
देखने में आया है कि छात्रों की अधिकतम प्रवेश वृद्धि (18.8 प्रतिशत) वोकेशनल पाठ्यक्रमों में हुई है। अन्य श्रेणियों में 12.3 प्रतिशत वृद्धि आॅप्शनल प्रैक्टिकल ट्रेनिंग (ओपीटी) और प्रैक्टिकल वर्क एक्सपीरियंस (डिग्री पाठ्यक्रम के बाद 36 माह तक की ट्रेनिंग) में हुई है। लेकिन यह वृद्धि तुलनात्मक दृष्टि से काफी कम है। अमेरिका में इस समय 24,813 भारतीय छात्र अंडरग्रेजुएट स्तर पर हैं, 90,333 ग्रेजुएट प्रोग्राम में, 84,630 ओपीटी में और 2238 नॉन-डिग्री पाठ्यक्रमों में। बिजनेस मैनेजमेंट में भारतीयों की दिलचस्पी कम हुई है। लेकिन गणित व सांख्यिकी में बढ़ी है; क्योंकि इनसे डाटा एनालिसिस व आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस में जॉब्स मिल जाते हैं।

भारतीयों के लिए छात्र वीजा
अमेरिका स्टेट डिपार्टमेंट के अनुसार भारतीयों के लिए छात्र वीजा में 2015 (74,831) और 2018 (42,694) के बीच 40 प्रतिशत से अधिक की गिरावट आयी। इस अवधि के दौरान ग्लोबल स्तर पर भी अमेरिकी छात्र वीजा में लगभग 40 प्रतिशत की ही कमी आयी। रिपोर्ट से मालूम होता है कि पिछले साल की तुलना में अमेरिका में अंतर्राष्ट्रीय छात्रों की संख्या (10.9 लाख) में 0.05 प्रतिशत की वृद्धि हुई है,जोकि अमेरिका की कुल उच्च शिक्षा जनसंख्या का 5.5 प्रतिशत है। अमेरिका में ओवरसीज छात्रों की जो कुल संख्या है उसका 52 प्रतिशत भारत व चीन के छात्रों से बना है, जिसमें चीन 3,69,548 छात्रों के साथ टॉप पर है। अंतर्राष्ट्रीय छात्रों से फीस के रूप में अमेरिका को 44.7 बिलियन डॉलर का राजस्व  प्राप्त होता है। इसमें अकेले चीन का योगदान 14.9 बिलियन डॉलर और भारत का 8.1 बिलियन डॉलर है।

शिक्षा की गुणवत्ता अद्वितीय
अमेरिका में भारतीय छात्रों की संख्या में वृद्धि से यह तथ्य सामने आ जाता है कि अमेरिका में शिक्षा की गुणवत्ता अद्वितीय है। छात्रों का लेटेस्ट टेक्नोलॉजी और संसार के कुछ बेहतरीन दिमागों तक एक्सेस हो जाता है। अमेरिका की शिक्षा इन-डेप्थ रिसर्च, विभिन्न विषयों में काम करना,टीम में ढलना व काम करना, आलोचनात्मक सोचना, समस्याओं की समीक्षा, विभिन्न संस्कृतियों के बीच स्पष्टता से कम्युनिकेट करना आदि सिखाती है। यह स्किल आधुनिक कार्यबल में काम करने के लिए आवश्यक हैं। शायद इसीलिये अमेरिका में उच्च शिक्षा प्राप्त करना अब पहले से कहीं अधिक जरूरी सा हो गया है।

जबरदस्त अकादमिक विकल्प
अमेरिका में शिक्षा के अविश्वसनीय विकल्प उपलब्ध हैं। यहां उच्च शिक्षा की 4500 से अधिक मान्यताप्राप्त संस्थाएं हैं। इनमें जबरदस्त अकादमिक विकल्प हैं और लर्निंग वातावरण भी। शोध के कुछ बड़े विश्वविद्यालय अध्ययन के विशेष क्षेत्रों पर फोकस करते हैं। जबकि अन्य संस्थाएं जैसे लिबरल आर्ट्स यूनिवर्सिटीज छात्रों को बहुत सारे विषयों की शिक्षा प्रदान कराती हैं। सही योजना व शोध से अमेरिका में उच्च शिक्षा प्राप्त करना अफोर्डेबल हो सकता है और निवेश पर हाई रिटर्न भी मिल सकते हैं। अमेरिका के हर राज्य में रहने व पढ़ने का खर्च अलग अलग है।

छात्र वीजा मिलना आसान
हर साल अंतर्राष्ट्रीय छात्रों को अपने अध्ययन के लिए अच्छा खासा आर्थिक सहयोग भी मिलता है। छात्र वीजा मिलना काफी आसान हो सकता है अगर वीजा अधिकारी को यह समझा दिया जाये कि एक खास कार्यक्रम का अध्ययन करने की इच्छा क्यों है ? छात्र को यह समझाना होगा कि वह अपने विशेष अकादमिक लक्ष्य के प्रति गंभीर है,वह शिक्षा का खर्च उठाने में सक्षम है और वह अपने गृह देश से सम्पर्क बनाये रखेगा। ग्रेजुएशन के बाद अमेरिका में कार्य करने के भी अवसर हैं। छात्र ग्रेजुएशन के बाद एक वर्ष तक अपने अध्ययन क्षेत्र में प्रैक्टिकल ट्रेनिंग हासिल कर सकता है और अगर छात्र का प्रोग्राम स्टेम (साइंस टेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग व गणित) है तो तीन वर्ष तक यह छूट है। हालांकि स्कूल का चयन करना कठिन है,लेकिन हमारी राय है कि आप इस संदर्भ में सिर्फ एजुकेशन यूएसए से ही सुझाव लें, जो अमेरिका सरकार द्वारा प्रायोजित अधिकारिक सुझाव संस्था है। इसके लिए आप एजुकेशनयूएसए इंडिया मोबाइल एप्प भी डाउनलोड कर सकते हैं जिससे सारी जानकारी आॅनलाइन मिल जायेगी।

 

यह भी पढ़ें:

4 मई से 10 जून तक होंगी CBSE बोर्ड की परीक्षाएं, 15 जुलाई तक जारी किया जाएगा रिजल्ट

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने गुरुवार को सीबीएसई बोर्ड की 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षा की तारीखों की घोषणा की। पोखरियाल ने बताया कि सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं 4 मई से शुरू होकर 10 जून तक चलेंगी और 15 जुलाई तक परीक्षा का रिजल्ट घोषित किया जाएगा। इसके पहले 1 मार्च से प्रेक्टिकल परीक्षाएं शुरू होंगी।

31/12/2020

RBSE परीक्षा: जिनका परीक्षा केंद्र बदलेगा, उनके नए प्रवेश पत्र भी होंगे जारी

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की सैकण्डरी और सीनियर सैकण्डरी की शेष परीक्षाएं आयोजित कराने के लिए बनाए जाने वाले नए परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों के लिए नए प्रवेश पत्र भी जारी किए जाएंगे। हालांकि परीक्षार्थियों की सहूलियत के लिए पूर्व में जारी किए प्रवेश पत्र भी मान्य होंगे।

08/06/2020

NEET UG 2020:आवेदन करने की अंतिम तारीख 6 जनवरी तक बढ़ाई, वंचित स्टूडेंट उठाएं लाभ

नीट (यूजी) 2020 के लिए ऐप्लिकेशन फॉर्म जमा करने की आखिरी डेट बढ़ाकर 6 जनवरी, 2020 कर दिया गया है। पहले नीट परीक्षा के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 31 दिसंबर, 2019 तय की गई थी। 31 तारीख तक फॉर्म भरने से वंचित रहे कैंडिडेट्स 6 जनवरी की रात 11:50 बजे तक ऑनलाइन अपना फॉर्म भर सकते हैं।

01/01/2020

RU और संघटक कॉलेजों में प्रवेश के लिए 1 सितंबर को जारी होगी पहली सूची, तैयारियों में जुटा यूनिवर्सिटी प्रशासन

सीबीएसई और आरबीएसई 12वीं का परिणाम जारी होने के बाद राजस्थान विश्वविद्यालय ने चारों संघटक कॉलेज महारानी, महाराजा, राजस्थान और कॉमर्स कॉलेज में 29 जुलाई से 24 अगस्त तक आवेदन प्रक्रिया चली। आवेदन प्रक्रिया पूरी होने के बाद अब राजस्थान यूनिवर्सिटी 1 सितम्बर को पहली सूची जारी करने की तैयारी में जुट गया है।

28/08/2020

प्रतियोगी परीक्षाओं की तरफ बढ़ा स्टूडेंट्स का रुझान

आज के दौर में स्टूडेंट्स कॅरिअर मेंकिग के लिए 12वीं के बाद ही अलग-अलग प्रवेश परीक्षा और सरकारी नौकरी के लिए प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी को प्राथमिकता दे रहे है।

14/05/2019

मेकॉन लिमिटेडए रांची में एग्जीक्यूटिव सहित अनेक पदों पर भर्तियां

मेकॉन लिमिटेडए रांची ने विभिन्न श्रेणी के कुल 168 पदों को भरने के लिए आवेदन पत्र आमंत्रित किए हैं। इनमें एग्जीक्यूटिव, अकाउंटेंट, हिन्दी ट्रांसलेटरए सेफ्टी आॅफिसर समेत अन्य पद शामिल हैं।

14/06/2019

जेईई मेन परीक्षा: ऑरिजनल आईडी से मिलेगी एंट्री, आधा घंटा पहले एंट्री गेट होगा बंद

देश की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई मेन मंगलवार से बीआर्क और बी-प्लानिंग के साथ शुरू होगी। इस दौरान छात्रों को केन्द्र पर ऑरिजनल आईडी से ही प्रवेश दिया जाएगा। ये परीक्षा 26 फरवरी तक देश-विदेश के 331 परीक्षा केंद्रों में कराई जाएगी।

23/02/2021