Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 12th of August 2020
 
शिक्षा जगत

हौसलों की उड़ान के आगे कोई बाधा बड़ी नहीं

Friday, May 10, 2019 11:00 AM
ईशान जैन (फाइल फोटो)

जयपुर। जब हौसले उडान भरते हैं तो कोई बाधा बड़ी नहीं होती है और कुछ ऐसे ही हौसलों की उड़ान भरी है। दौसा के रहने वाले ईशान जैन ने सीबीएसई 12वीं में 87 फीसदी अंक प्राप्त कर प्रदेश के ऐसे विद्यार्थियों के लिए एक मिसाल पेश की है, वे शारीरिक रूप से कमजोर है और ऐसा इसलिए क्यूंकि ईशान जैन को बचपन से ही दिखाई नहीं देता है, लेकिन अपनी कमजोरी को ईशान ने अपने हौसलों पर कभी हावी नहीं होने दिया। सिविल सेवा में जाकर देश की सेवा करने का सपना देखने वाले ईशान आज हर दिव्यांग के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत बन चुके हैं और उनकी इस उपलब्धी पर उनके परिजनों के साथ ही उनके शिक्षकों को भी गर्व है।

दौसा की फ्रेम इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ने वाले ईशान जैन को ही बचपन से ही दिखाई नहीं देता था, लेकिन ईशान बचपन से ही काफी हौशियार थे और उनकी इस प्रतिभा को खोजा उनकी मां ने की। जब कुछ सिखने की बात आती थी तो ईशान की तत्परता काफी बढ़ जाती थी और उसकी इस प्रतिभा को देखकर ईशान की मां ने उसको पढ़ाने का फैसला किया।

मां बनी आंखें

ईशान जैन की आंखे नहीं थी। ऐसे में उनकी आंखें बनी उसकी मां ईशान की माता श्वेता जैन पहले शिक्षकों से पढ़कर ईशान को पढ़ाया करती थी। श्वेता जैन ने बताया कि ईशान बचपन से ही काफी इंटेलिजेंट था और उसे जो पढ़ाया जाता था, वो जल्दी से सिख लेता था, लेकिन वो मेरे द्वारा ही पढ़ाए हुए को जल्दी सिखता था। इसलिए मैं खूद स्कूल में जाकर पहले खुद सिखती थी और फिर ईशान को  सिखाती थी।

पिता बने सीढ़ी

परिवार में ईशान के आने की खुशियों का कोई ठिकाना नहीं था, लेकिन जब ईशान के नेत्रहीन होने का पता चला तो मानो माता-पिता के पैरों के नीचे से जमीन ही खीसक गई है। आंखों के आगे अंधेरा था और ईशान के भविष्य को लेकर चिंता भी थी, लेकिन ईशान जैसे-जैसे बड़ा होता गया। उसकी प्रतिभा भी निखरती गई और ऐसे में ईशान के पिता ज्ञानचंद जैन उसकी सफलता की सीढ़ी बने। अपने बेटे की प्रतिभा को लेकर भावुक हुए ज्ञानचंद जैन ने बताया की ईशान बचपन से ही पढाई में काफी अच्छा था। ज्ञानचंद जैन ने बताया कि ईशान ने उनसे सिर्फ एक ही चीज की मांग की थी और वो था साथ, क्यूंकि ईशान अपने नाम सिर्फ भारत में ही नहीं पूरे विश्व में रोशन करना चाहता है।

ऑडियो की सहायता से की पढ़ाई
ईशान ने ऑडियो की सहायता से पढ़ाई करते हुए अंग्रेजी में 90, भूगोल और मनोविज्ञान में 94 अंक प्राप्त किए। इसके साथ ही ईशान ने सीबीएसई 10वीं की परीक्षा में भी 81 फीसदी अंक प्राप्त किए थे।

 

यह भी पढ़ें:

CBSE बोर्ड ने छात्रों के लिए जारी किए नए हेल्पलाइन नंबर

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सीबीएसई की ओर से कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने में छात्रों की मदद और उन्हें जागरूक करने के लिए नए टेली हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं।

26/03/2020

CAT का रिजल्ट जारी, यहां क्लिक कर देखें, 2 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स ने दी थी परीक्षा

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट कोझिकोड ने कॉमन एप्टीट्यूट टेस्ट (कैट) 2019 का रिजल्ट शनिवार सुबह करीब सवा 11 बजे जारी कर दिया।

04/01/2020

ICSE ने जारी किया 10th और 12th का रिजल्ट

आईसीएसई आईएससी ने 10वीं और 12वीं का रिजल्ट जारी कर दिया है। 10th में 98.54% स्टूडेंट्स और 12th में 96.52% स्टूडेंट्स पास हुए हैं।

07/05/2019

इंद्रधनुष के रंगों पर बच्चों ने दी परफॉर्मेंस

इंद्रधनुष में सात रंगों में एक भी रंग नहीं होगा, तो वह इंद्रधनुष नहीं कहलाएगा। इसी थीम को बच्चों ने मंच पर अपनी परफॉर्मेंस से बखूबी साकार किया।

05/12/2019

पर्लमीत ने बनाया इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड

होनहार बिरवान के होत चिकने पात की कहावत को चरितार्थ करते हुए 7 वर्षीय पर्लमीत ने पेरियॉडिक टेबल को मात्र 38 सैकिंड में सुनाकर एक नया रिकॉर्ड बनाया है।

06/03/2020

अधूरा ऑनलाइन आवेदन बिना किसी सूचना के होगा रद्द

देश की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग, आर्किटेक्चर एवं प्लानिंग प्रवेश परीक्षा जेईई मैंस जनवरी-2020 के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया चल रही है।

13/09/2019

राजस्थान यूनिवर्सिटी ने परीक्षा आवेदन की तिथि बढ़ाई

राजस्थान विश्वविद्यालय की मुख्य परीक्षा-2020 को लेकर आवेदन प्रक्रिया चल रही है, जिसकी अंतिम तिथि 18 नवम्बर थी। आरयू प्रशासन ने विद्यार्थियों को राहत देते हुए अंतिम तिथि निकलने से पहले ही आवेदन की तिथि बढ़ा दी है।

18/11/2019