Dainik Navajyoti Logo
Friday 25th of June 2021
 
शिक्षा जगत

एक्सपर्ट्स की इन टिप्स को फॉलो कर बोर्ड परीक्षाओं में लाएं अच्छे मार्क्स

Thursday, January 16, 2020 12:15 PM
पढाई के बारे में चर्चा करते विद्यार्थी

कोटा। बोर्ड परीक्षाएं शुरू होने में कुछ ही समय बचा है। ऐसे में स्टूडेंट्स का सारा ध्यान परीक्षाओं की तैयारी में लगा हुआ है। स्टूडेंट्स दिन-रात एक करके पढ़ाई में जुटे हुए हैं। जिससे अच्छे नंबर ला सकें। लेकिन जैसे-जैसे परीक्षाएं नजदीक आती जाती हैं विद्यार्थियों के मन में बोर्ड परीक्षा के बारे में तरह-तरह के सवाल उठते है। 10वीं के विद्यार्थियों को यह चिंता कुछ ज्यादा होती है, क्योंकि वह पहली बार बोर्ड परीक्षा में बैठते है। ऐसे में बहुत से विद्यार्थी चिंता और तनाव के दौर से गुजरते हैं। परीक्षा को लेकर तनाव और घबराहट होना आम बात है। घबराने या डरने की जरूरत नहीं है। आप जितना कूल रहकर परीक्षा की तैयारी करेंगे सफलता उतनी ही आसान होगी। अपने दिमाग में किसी भी तरह के नकारात्मक विचार नहीं आने दें। कभी यह नहीं सोचे कि मैं यह नहीं कर सकता। हमेशा पॉजीटिव रहें। बोर्ड एग्जाम कोई ऐसी परीक्षा नहीं होती जिसमें आप अच्छे स्कोर नहीं कर पाएं। थोड़ी-सी प्लानिंग के साथ स्टडी करेंगे तो अच्छे मार्क्स ला सकते हैं। दैनिक नवज्योति ने एक्सपर्ट्स से यहीं जाना कि बोर्ड की परीक्षा में विद्यार्थी अच्छे मार्क्स किस तरह ला सकते हैं। तनाव मुक्त रहकर वह किस तरह परीक्षा दे सकें। 12वीं कक्षा के बच्चे बोर्ड के साथ-साथ कॉम्पीटीटिव एग्जाम की भी तैयारी करते हैं किस तरह वह कॉआॅर्डीनेट करें कि बोर्ड में भी अच्छे मार्क्स ला सकें और प्रतियोगी परीक्षाओं को भी अच्छे से फाइट कर सकें।

 
एक्सपर्ट्स टिप्स
बारहवीं क्लास के बच्चे बोर्ड की परीक्षा के साथ साथ प्रतियोगी परीक्षाओं की भी तैयारी कर रहे हैं। उन्हें प्रतियोगी परीक्षा के लिए ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षा के सिलेबस को पढ़ना होता है। ऐसे में बच्चे बहुत उलझन में होते है। उन्हें समझ नहीं आता कि 11वीं का सिलेबस पढ़ें या 12वीं का या कॉम्पीटीशन की तैयारी करें। बच्चों को हम दिसंबर में ही 11वीं और 12 वीं कक्षा का सिलेबस कम्पलीट करवाकर फ्री कर देते है। उनके पास सेल्फ स्टडी के लिए फिर टाइम रहता है। ऐसे में बच्चों को हमारी सलाह है कि—
- अभी जो सेल्फ स्टडी का समय है इसमें कम से कम पचास प्रतिशत 12वीं के कोर्स को दें और 50 प्रतिशत 11वीं कक्षा के कोर्स को पढ़नें में समय दें। एक जनवरी से बच्चों को कहना शुरू कर दिया था कि 25 जनवरी तक का समय 50-50 प्रतिशत 11वीं व 12वीं कक्षा के सिलेबस को दें।
- 25 जनवरी के बाद यानी 26 जनवरी से 15 फरवरी तक 12वीं कक्षा की तैयारी करें 12वीं कक्षा के सिलेबस के लिए एनसीईआरटी को पढ़ेंगे तो टारगेट बोर्ड की परीक्षा और अपटू कॉम्पटीटिव एग्जाम लेवल दोनों की तैयारी को एप्रोच बनाएं।
-26 जनवरी से 15 फरवरी तक बोर्ड की परीक्षा की तैयारी कर रहे है तो 11वीं कक्षा की प्रिपरेशन को भी पेरेलल दो घंटे चलाएं।
-15 फरवरी के बाद शत-प्रतिशत समय 12वीं बोर्ड की परीक्षा की स्टडी को दें।
- बच्चों को यह सलाह देंगे कि प्रतियोगी परीक्षाओं का पैटर्न आॅब्जेक्टिव प्रश्नों का होता है। आॅब्जेक्टिव पैटर्न की भी तैयारी जारी रखें। 26 जनवरी से 15 फरवरी तक 50 प्रतिशत समय जब 11वीं कक्षा के सिलेबस को दिया तो काफी पोर्शन कम्पलीट हो जाता है।
- 12वीं बोर्ड की परीक्षा से फ्री होने के बाद उनके दिमाग से 12वीं बोर्ड परीक्षा की टेंशन खत्म हो जाती है और 12वीं का कोर्स भी 100% पूरा हो जाता है। तब बच्चे कॉम्पीटिटिव लेवल  के लिए तैयार है। तब बच्चे 11वीं के कोर्स और 12वीं के सिलेबस के आॅब्जेक्टिव की तैयारी पर फोकस करें।
-मयंक जोशी, डायरेक्टर, सर्वोत्तम कॅरियर इंस्टीट्यूट 
 
- परीक्षा की तैयारी पहले से शुरू करें....अंतिम समय तक का इंतजार ना करें।
- राइटिंग पर ध्यान दें और अपनी लिखने की गति को बढ़ाएं।
- समय का ध्यान रखें और समय अनुसार ही प्रश्नों के उत्तर लिखें।
- प्रश्न पत्र प्रारूप को अच्छी तरह समझे और गत परीक्षाओं के प्रश्न पत्रों को हल करें।
- प्रश्नों के उत्तर अंकों के अनुसार ही लिखें।
- प्रश्नों के उत्तरों को रटे नहीं बल्कि अच्छी तरह से समझ कर लिखें।
- शब्दकोष में वृद्धि करने का प्रयास करें...बोलचाल की भाषा का प्रयोग ना करें बल्कि प्रश्नों के उत्तर लिखते  समय अच्छी भाषा का प्रयोग करें।
- तनाव मुक्त रहने के लिए अपनी  रुचियों जैसे संगीत, खेलकूद,नृत्य आदि के लिए भी समय निकालें।
- पर्याप्त नींद लें, पौष्टिक भोजन करें, नियमित व्यायाम  करें और नियमित रूप से दोहराने कार्य करें।
- मुख्य बिंदुओं को अच्छी तरह याद करें, संक्षिप्त एवं सटीक उत्तर लिखें।
- शब्द सीमा एवं अंकों को ध्यान में रखते हुए ही प्रश्नों के उत्तर लिखें।
- प्रश्नों के उत्तरों के प्रस्तुतीकरण पर विशेष ध्यान दें ।
- लिखते समय अक्षरों की बनावट पर विशेष ध्यान दें जिससे कि पढ़ने वाले को अच्छी तरह से समझ में आ सकें।
- सभी विषयों की तैयारी को पर्याप्त समय दें एवं सभी विषयों को  समान महत्व दें।
-प्रवीण कुमार, प्रिंसीपल , सर पदमपत सिंघानिया स्कूल
 
- अगर बच्चा पूरे साल पढ़ाई में रेग्यूलर रहा है तो निश्चित रूप से उसे कॉन्फीडेन्स ज्यादा होगा और टेंशन कम होगी। लेकिन यदि बच्चे ने आज की तारीख में भी पढ़ाई शुरू की है या पढ़ रहा है उसे टेंशन है तो सबसे पहले उसके आसपास के लोग स्ट्रेस फ्री करें।
- पढ़ने के लिए टाइम टेबल बनाए और उसके अनुसार सारे टॉपिक्स रिवाइज करें। जो आपने टाइम टेबिल बनाया है उसे फॉलो करें।
- न्यूट्रीशन का ख्याल रखें। फास्ट फूड नहीं खाएं। घर का खाना खाएं। हेल्दी डाइट लें। चार बार भोजन करें। ब्रेक फास्ट, लंच, शाम को एक गिलास दूध और ड्राई फ्रू ट्स लें। रात का खाना समय पर खाएं। यह एवोइड ना करें।
- टीवी थोड़ा देखें तो कोई हर्ज नहीं है, लेकिन टाइम लिमिटेड रखें।
- 10-15 मिनट प्राणायाम करें। दिनभर में कभी भी 10 मिनट के लिए एक वॉक बाहर की करें या छत पर ही टहलें। इससे फ्रेश फील करेंगे।
- कुछ दिनों के लिए मोबाइल का त्याग कर दें। सोशल मीडिया से दूर रहें।
- रात को चैन की नींद लें। कुछ बच्चों की आदत देर रात तक पढ़ने की होती है। सुबह जल्दी उठकर पढ़े यह आइडियल समय है।  रात को 6-7 घण्टे की नींद बहुत जरूरी है क्योंकि एक अच्छी नींद के बाद एकदम ताजा और ऊर्जा से भरे होते है।
- एक समय में एक ही विषय की तैयारी करें। पूरा कोर्स करें। परीक्षा के दौरान ब्रेक मिलता है उसे रिवीजन के लिए रखें।
- सभी बच्चे जो परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं उन्हें मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं।
- सरिता रंजन गौतम, प्रिंसीपल, डीएवी पब्लिक स्कूल
 
- जो पुराना पढ़ा है उसे रिवाइज करें। आखिरी क्षणों में नया पढ़ने की कोशिश नहीं करें।
- नोट्स बनाकर डायग्र्राम बनाकर पढ़ें। इससे पढ़ा हुआ याद रहता है।
- जिन बच्चों को पढ़ने या याद करने में दिक्कत आती हैं वह दोस्तों के साथ बैठकर पढ़ाई करें।
- पिछले साल के बोर्ड परीक्षा के पेपर को जरूर देखें इससे मदद मिलेगी।
- बोर्ड परीक्षा को इजीली लें। यह कोई हौव्वा नहीं है। सभी बच्चों के लिए कॉमन पेपर आता है। घबराएं नहीं। ऐसे नहीं सोचें कि कठिन प्रश्न-पत्र आएगा। सकारात्मक रहें।
- प्रॉपर नींद 6-7 घंटे की आवश्यक है।
- संतुलित भोजन लें। फैट ज्यादा नहीं लें। हरी सब्जियां, विटामिन से भरपूर खाद्य लें, दूध लें, 2-3 लीटर पानी पीएं।
-  पढ़ाई के टाइम टेबल से समय निकाल कर व्यायाम करें।
- डॉ. एपी सिंह, मनोचिकित्सक, सुधा हॉस्पिटल

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

राजस्थान में 75 हजार पदों पर होंगी भर्तियां, शिक्षा विभाग में 26 हजार

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट में विभिन्न विभागों में 75 हजार पदों पर भर्तियां करने की घोषणा की है।

10/07/2019

अब रीट और स्नातक के अंकों में दी सरकार ने बड़ी राहत, सलेक्शन के पैटर्न में भी किए बदलाव

राज्य सरकार के दो साल पूरा होने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओर से प्रदेश के करीब 11 लाख बेरोजगारों को रीट अध्यापक पात्रता परीक्षा तिथि की घोषणा कर सौगात दी गई। 25 अप्रैल 2021 को आयोजित होने वाली इस परीक्षा को लेकर लगातार बेरोजगारों के लिए राहत का पिटारा खोला जा रहा है।

22/12/2020

भारत के 155 शहरों और दुनिया के 6 देशों में आयोजित हो रही जेईई-एडवांस परीक्षा

देश की सबसे प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई एडवांस्ड आज पूर्णतः ऑनलाईन देश के 155 शहरों एवं छह अन्य देशों इथोपिया, नेपाल, सिंगापुर, बांग्लादेश, दुबई व श्रीलंका में आयोजित हो रही हैं।

27/05/2019

15 मई को आएगा राजस्थान बोर्ड का 12वीं साइंस-कॉमर्स का रिजल्ट

मिली जानकारी के मुताबिक 12 वीं साइंस और कॉमर्स का रिजल्ट 15 मई को शाम 4 बजे जारी हो सकता है।

14/05/2019

RBSE परीक्षा: छात्रों को सेंटर पर आना होगा 1 घंटे पहले, मास्क और सोशल डिस्टेंस नियमों की करनी होगी पालना

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कोरोना से प्रभावित दसवीं एवं बारहवीं बोर्ड की शेष परीक्षाएं कोविड-19 संक्रमण की महामारी से पूरी सावधानी रखते हुए आयोजित करेगा। परीक्षा के दौरान विद्यार्थियों को मास्क लगाकर 1 घंटा पहले परीक्षा केंद्र पर उपस्थित होना होगा।

07/06/2020

नीट देने से छूटे उम्मीदवारों के लिए 14 अक्टूबर को दोबारा परीक्षा, अब 16 को आएगा परिणाम

सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना संक्रमण के कारण राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा (नीट) देने में असमर्थ रहे छात्रों को दोबारा मौका देने का सोमवार को केंद्र सरकार को निर्देश दिया। मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे की अध्यक्षता वाली 3 सदस्यीय खंडपीठ ने नीट परीक्षा आयोजित करने वाली नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) को 14 अक्टूबर को परीक्षा आयोजित करने तथा 16 अक्टूबर को परिणाम घोषित करने का आदेश दिया।

13/10/2020

UGC ने स्टूडेंट्स की शिकायतों के समाधान के लिए शुरू की हेल्पलाइन, प्रकोष्ठ का किया गठन

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए लॉकडाउन से होने वाली समस्यायों के मद्देनजर विश्वविद्यालय एवं कॉलेज के छात्रों की शिकायतों को सुलझाने के लिए एक प्रकोष्ठ का गठन किया है। यूजीसी द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार इन छात्रों की शिकायतों के निराकरण के लिए एक हेल्पलाइन भी शुरू की गई है।

11/05/2020