Dainik Navajyoti Logo
Friday 23rd of October 2020
 
शिक्षा जगत

अगले साल से विश्वविद्यालयों में दाखिले के लिए होगा कॉमन टेस्ट, अभिभावकों और छात्रों को मिलेगा फायदा

Wednesday, October 07, 2020 16:00 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

नई दिल्ली। विश्वविद्यालयों में स्नातक के गैर तकनीकी पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए अब इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश के लिए आयोजित होने वाली जेईई और नीट जैसी परीक्षाओं की तर्ज पर एक संयुक्त परीक्षा होगी। शिक्षा मंत्रालय इसे अगले शैक्षणिक सत्र 2021-22 से कराएगा। हालांकि, शुरू में इसमें सिर्फ केंद्रीय विश्वविद्यालयों को ही शामिल किया जाएगा। बाद में सभी विश्वविद्यालयों में इसी प्रक्रिया से एडमिशन होगा। यानि अब बीए, बीएससी जैसे सामान्य कोर्सेज में भी नीट-जेईई की तरह एक राष्ट्रीय परीक्षा होगी। शिक्षा मंत्रालय ने इन परीक्षाओं को कराने का जिम्मा नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) को दिया है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति में विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए कॉमन एंट्रेस टेस्ट की सिफारिश करने के बाद शिक्षा मंत्रालय ने इस दिशा में कदम बढ़ाया है। वैसे भी मंत्रालय इन दिनों नीति के सुझावों को तेजी से आगे बढ़ाने में जुटा हुआ है।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति में भी इसकी सिफारिश
एनटीए से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक योजना पर तेजी से काम चल रहा है। राज्यों के साथ भी चर्चा की जा रही है। हालांकि, इसमें स्वायत्त उच्च शिक्षण संस्थानों को जोड़ा जाएगा या नहीं, इसे लेकर एनटीए अभी चुप है। सूत्रों की मानें तो एनटीए की ओर से कॉमन एंट्रेस टेस्ट शुरू होने के बाद सभी उच्च शिक्षण संस्थानों को इसमें शामिल होने का प्रस्ताव दिया जाएगा। केंद्रीय विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए संयुक्त परीक्षा की योजना वैसे तो काफी पुरानी है और इस पर मंत्रालय के भीतर काफी काम भी हुआ था। लेकिन यह योजना आगे नहीं बढ़ पाई थी। हालांकि, अब जब राष्ट्रीय शिक्षा नीति में भी इसकी सिफारिश की गई, तो मंत्रालय ने इसे तेजी से बढ़ाने को लेकर काम शुरू किया है।

अभिभावकों और छात्रों को मिलेगा फायदा
इस योजना का सबसे ज्यादा फायदा अभिभावकों और छात्रों को मिलेगा, जिन्हें अभी स्नातक में प्रवेश के लिए कई विश्वविद्यालयों में आवेदन करना होता है। इससे उन पर आर्थिक बोझ पड़ता है, वहीं एक विश्वविद्यालय से दूसरे विश्वविद्यालय में प्रवेश के लिए चक्कर लगाने पड़ते हैं। संयुक्त प्रवेश से उन्हें राहत मिलेगी। एक ही आवेदन पर उनके लिए सभी विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए रास्ते खुलेंगे। मंत्रालय से जुड़े सूत्रों की मानें तो कॉमन एंट्रेंस टेस्ट साल में 2 बार हो सकता है। समें पहली परीक्षा जनवरी या फरवरी में हो सकती है, जबकि दूसरी परीक्षा अप्रैल या मई में हो सकती है। इनमें से जिस परीक्षा में सबसे ज्यादा स्कोर होंगे, उसके आधार पर ही मेरिट बनेगी। फिलहाल प्रवेश परीक्षा की रूपरेखा तैयार करने का काम चल रहा है। इनमें एक सामान्य परीक्षा के साथ विषयवार यानी कला, विज्ञान या वाणिज्य जैसे विषयों के लिए अलग से टेस्ट की भी योजना है।

यह भी पढ़ें:

कर्मचारी चयन आयोग ने जारी किया GD Constable पीईटी/पीएसटी परिणाम, ऐसे करें चेक

स्टाफ सलेक्शन कमीशन ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर SSC GD Constable भर्ती के लिए आयोजित शारिरिक मानक परीक्षा तथा शारिरिक दक्षता परीक्षा के रिजल्ट जारी कर दिए हैं। वे सभी उम्मीदवार जो शाररिक परीक्षा में शामिल हुए थे, वे आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपना रिजल्ट चेक कर सकते हैं।

18/12/2019

जेईई मेन पेपर में 92 फीसदी सवाल एनसीईआरटी बेस्ड

देश की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई-मेन सम्पन्न हुई, इसमें 92 फीसदी से अधिक सवाल एनसीईआरटी बेस्ड रहा।

10/01/2020

एमफिल छात्रों ने एमपैट परीक्षा में शामिल करने की मांग को लेकर किया प्रदर्शन

राजस्थान विश्वविद्यालय में एमफिल छात्रों ने एमपेट परीक्षा में शामिल करने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया।

17/10/2019

कर्मचारी चयन आयोग ने जारी किया पेंडिंग परीक्षाओं का शेड्यूल, वेबसाइट पर देखें पूरी जानकारी

कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने कोरोना वायरस महामारी के कारण पैदा हुई स्थिति की समीझा करने के बाद पेंडिंग परीक्षाओं का शेड्यूल जारी कर दिया है। इस संबंध में एसएससी ने अपनी वेबसाइट पर एक नोटिस जारी किया है।

02/06/2020

मेकॉन लिमिटेडए रांची में एग्जीक्यूटिव सहित अनेक पदों पर भर्तियां

मेकॉन लिमिटेडए रांची ने विभिन्न श्रेणी के कुल 168 पदों को भरने के लिए आवेदन पत्र आमंत्रित किए हैं। इनमें एग्जीक्यूटिव, अकाउंटेंट, हिन्दी ट्रांसलेटरए सेफ्टी आॅफिसर समेत अन्य पद शामिल हैं।

14/06/2019

कॉलेजों में खुलेंगे महिला अध्ययन केन्द्र

देशभर की सभी यूनिवर्सिटीज और कॉलेजों में इसी सत्र से महिला अध्ययन केन्द्र खोले जाएंगे। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग नई दिल्ली (यूजीसी) ने विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों के लिए डवलपमेंट आॅफ वूमन स्टडी सेंटर-2019 गाइडलाइन लागू कर दी है, जिसके अनुसार सभी उच्च शैक्षणिक संस्थानों को इसकी पालना करनी होगी।

12/04/2019

महिला शिक्षा के लिए कॉलेज

माहेश्वरी कॉलेज आफ कॉमर्स एण्ड आर्ट्स की प्रबन्ध समिति की सभा की बैठक आयोजित हुई, इसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महिला सशक्तिकरण की योजनाओ को ध्यान में रखते

21/05/2019