Dainik Navajyoti Logo
Sunday 18th of April 2021
 
शिक्षा जगत

निजी स्कूलों की मनमानी से बच्चे-अभिभावक परेशान, कक्षा 6 से 12वीं तक के स्टूडेंट पर मडरा रहा कोरोना का खतरा

Saturday, March 27, 2021 10:30 AM
फाइल फोटो।

जयपुर। प्रदेश के निजी स्कूलों की मनमानी दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। जिसके कारण विद्यार्थियों के साथ ही अभिभावकों को भी कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। यह स्कूल कभी फीस को लेकर अभिभावकों पर आर्थिक भार बढ़ाते है तो कभी सरकारी नियम नहीं मनकर बच्चों के स्वास्थ्य को भी खतरे में डाल देते हैं। स्कूल प्रशासक अपनी मनमानी से बाज नहीं आ रहे हैं। अब कोरोना फिर से बढ़ रहा है और कक्षा 6 से 12वीं तक के विद्यार्थियों की स्कूलों में नियमित रूप से पढ़ाई हो रही है। जबकि कई अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल में नहीं भेजकर ऑनलाइन ही पढ़ाई करवाना चाहते हैं, पर स्कूल प्रशासन इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा है। अधिकांश प्राइवेट स्कूलों ने कक्षा 6 से 12वीं तक के विद्यार्थियों की ऑनलाइन पढ़ाई बंद कर दी है। जबकि सरकार ने स्कूलों को ऑफलाइन के साथ ही ऑनलाइन पढ़ाई करवाने के निर्देश दिए हैं।

अभिभावक और प्रशासन के बीच का मामला
शिक्षा विभाग के अनुसार छोटे बच्चों के साथ बड़े बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई करवाने का मामला अभिभावक और स्कूल प्रशासन के बीच का है। फिर भी यदि कोई अभिभावक अपने बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई करवाना चाहता है तो वह स्कूल प्रशासन से बातचीत कर सकता है और फिर भी कोई विवाद हो तो विभाग में शिकायत कर सकते है। इसके अलावा निजी स्कूलों की फीस से संबंधित शिकायत हो तो वह भी शिक्षा विभाग में कार्रवाई के लिए मांग पत्र दे सकते हैं।  

1 से 5वीं तक के स्कूल अभी बंद
सरकार ने बढ़ते संक्रमण के चलते कक्षा एक से 5वीं तक के स्कूलों को अभी तक नहीं खोला है, यह पिछले मार्च, 2020 से बंद हैं। वहीं शिक्षा विभाग ने इन बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाने के लिए कहा है। इनको आगामी कक्षा में भी इसी पढ़ाई के आधार पर प्रमोट किया जाएगा। इसके अलावा अन्य बच्चों की परीक्षाएं ऑफलाइन ही आयोजित होगी।

सरकारी स्कूलों के हमेशा खुले दरवाजे
प्राइवेट स्कूलों की पढ़ाई से संतुष्ट नहीं होने वाले अभिभावक अभी भी अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में दाखिला करवा सकते हैं। शिक्षा विभाग अपने स्कूलों में बच्चों को पढ़ाई के लिए हमेशा दरवाजे खोल रखे हैं।

कोविड-19 से उत्पन्न परिस्थितियों को देखते हुए सरकार ने स्थानीय परीक्षाओं के बारे में संवेदनशीलता से निर्णय लेते हुए कक्षा 1 से 5 तक के विद्यार्थियों को स्माइल-1, स्माइल-2 एवं आओ घर से सीखें कार्यक्रम के तहत किए गए आंकलन के आधार पर अगली कक्षा में प्रोन्नत किया जाएगा।
-गोविन्द सिंह डोटासरा, शिक्षा राज्यमंत्री

बच्चे स्कूलों में अभिभावकों की अनुमति पत्र लेकर ही आ रहे है। राज्य सरकार ने बच्चों को ऑफलाइन के साथ ही ऑनलाइन पढ़ाने का आदेश दे रखा है। इस दौरान निजी स्कूलों की मनमानी की शिकायत आती है तो नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
-सौरभ स्वामी, निदेशक, स्कूल शिक्षा विभाग, राजस्थान

 

यह भी पढ़ें:

दिल्ली के शुभम ने किया टॉप

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) अप्रैल परीक्षा के लिए देश की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई मैस-2019 और उसकी रैंकिंग की घोषणा सोमवार देर शाम कर दी गई

30/04/2019

राजस्थान यूनिवर्सिटी में आंशिक शट डाउन, शिक्षकों के लिए घरों से कार्य की व्यवस्था

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए राजस्थान विश्वविद्यालय ने शिक्षकों को 31 मार्च तक अवकाश के आदेश जारी किए हैं, लेकिन प्रशासन इन्हें आवश्यकता पड़ने पर कार्यालय में बुला सकता है। साथ ही अ‍ैशक्षणिक वर्ग के 50 फीसदी कार्मिकों को रोटेशन के आधार पर कार्यालय में उपस्थित होने के आदेश जारी किए गए हैं।

21/03/2020

कट्टरपंथी इस्लाम के प्रसार को रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय बैठक बुलाउंगा : ट्रम्प

इस्लामिक स्टेट आतंकवादी समूह और इस्लामिक कट्टरपंथियों से निपटने के लिए विदेश नीति के दृष्टिकोण को पेश करते हुए रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि राष्ट्र निर्माण का युग खत्म होना चाहिए.

16/08/2016

स्कूलों को खोलने की तैयारी, केन्द्र के निर्देश के बाद राज्य सरकार ने तेज की कवायद

केंद्र सरकार ने 21 सितंबर के बाद से कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल खोलने की अनुमति दे दी है। अनलॉक-4 के तहत एसओपी जारी कर दी गई है। इस दौरान प्रदेश की गहलोत सरकार ने भी प्रदेश के स्कूलों को भी खोलने की तैयारी शुरू कर दी है।

12/09/2020

राजस्थान बोर्ड की 10वीं कक्षा की सामाजिक विज्ञान की नई किताब चर्चाओं में, ये है वजह

राजस्थान शिक्षा विभाग ने 10 वीं कक्षा की सामाजिक विज्ञान की नई किताब को लेकर बवाल हो गया है। किताब के एक चैप्टर में लिखा है

13/05/2019

स्टूडेंट स्टार्टअप सेशन का आयोजन

जेईसीआरसी फाउंडेशन में स्थापित इन्क्यूबेशन सेंटर में रजिस्टर्ड कम्पनी के लिए स्टूडेंट स्टार्टअप सेशन का आयोजन किया गया।

23/01/2020

जेईई मेन का परिणाम घोषित, प्रदेश के साकेत सहित छह छात्रों को मिले 100 पर्सेंटाइल

इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई मेन (फरवरी सेशन) का रिजल्ट सोमवार को घोषित कर दिया गया है। इसमें प्रदेश के कोटा जिले के छात्र साकेत झा सहित देश के छह छात्रों ने सौ पर्सेंटाइल अंक प्राप्त किए है। ऐसे में साकेत ने देशभर में प्रदेश व कोटा शहर का नाम रोशन किया है। दिल्ली के प्रवीण कटारिया व रंजीम प्रबल दास, चंडीगढ़ के गुरमहत सिंह, महाराष्ट्र के सिद्धांत मुखर्जी और गुजरात के अनंत कृष्णा को मिली है।

09/03/2021