Dainik Navajyoti Logo
Sunday 18th of April 2021
 
शिक्षा जगत

23 फरवरी से जेईई मेन परीक्षा, अब साल में 4 बार होगा एग्जाम, परीक्षा पैटर्न में भी किया बदलाव

Thursday, December 17, 2020 11:55 AM
रमेश पोखरियाल निशंक (फाइल फोटो)

जयपुर। इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई मेन 2021 का नया शेड्यूल जारी कर दिया गया है। इसका ऐलान केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने किया है, जिसके अनुसार जेईई मेन परीक्षा का पहला सत्र 23 से 26 फरवरी के बीच होगा। इस बार जेईई मेन का आयोजन साल में 4 बार किया जाएगा। फरवरी के बाद दूसरा सत्र मार्च, तीसरा अप्रैल और चौथा मई में होगा। ऐसा फैसला इसलिए किया गया है, ताकि अलग अलग समय पर होने वालीं विभिन्न राज्यों की बोर्ड परीक्षाएं जेईई मेन परीक्षा के आयोजन में बाधा पैदा न करें। इससे पहले यह परीक्षा साल में 2 बार आयोजित होती आ रही है।  नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा चारों सत्रों की परीक्षाएं छात्र अपनी सुविधाओं के अनुसार दे सकेंगे।

निशंक ने कहा कि पहला सत्र 23 फरवरी से 26 फरवरी के बीच होगा। छात्रों के सामने अनेक अवसर हैं। इससे आपको अंक सुधारने का अच्छा मौका मिलेगा। पहले प्रयास में अगर छात्र को परीक्षा देने का मौका मिलता है तो उन्हें अपनी गलतियों का पता चलेगा। दूसरे प्रयास में आपका आत्मविश्वास बढ़ जाएगा, गलतियां कम होंगी। एक परीक्षा से चूकने पर दूसरी बार परीक्षा दे सकते हैं। अगर किसी की बोर्ड परीक्षा जेईई मेन वाले माह में पड़ती है तो वह किसी और सत्र में बैठ सकता है। चारों सत्रों की परीक्षाओं में जो बेस्ट अंक होंगे, वहीं लिए जाएंगे।

90 प्रश्नों में से हल करने होंगे 75 प्रश्न
प्रश्न पत्र के पैटर्न को लेकर निशंक ने कहा कि विभिन्न शिक्षा बोर्डों से सलाह मशविरा करके एनटीए ने निर्णय लिया है कि प्रश्न पत्र में 90 प्रश्न होंगे, जिसमें परीक्षार्थी को केवल 75 प्रश्न हल करने होंगे। 15 वैकल्पिक प्रश्न होंगे। वैकल्पिक प्रश्नों में नेगेटिव मार्किंग नहीं होगी। चारों सत्रों में बेस्ट अंक के आधार पर ही मेरिट लिस्ट बनाई जाएगी।

13 भाषाओं में परीक्षा
जेईई मेन परीक्षा अब कुल 13 भाषाओं में होगी। अंग्रेजी, हिंदी, गुजराती, बांग्ला, असमी, कन्नड़, मराठी, मलयालम, उड़िया, तमिल, उर्दू, तेलुगू, पंजाबी। अभी तक जेईई परीक्षा अंग्रेजी, हिंदी और गुजराती में होती रही है। 2021 के चारों चांस में से स्टूडेंट्स के बेस्ट एनटीए स्कोर के आधार पर मेरिट लिस्ट बनेगी।

यह भी पढ़ें:

9 निजी यूनिवर्सिटी के खिलाफ जांच में अनियमितताएं, उच्च शिक्षा विभाग ने की रिपोर्ट तैयार

उच्च शिक्षा विभाग ने फर्जी मार्कशीट और अन्य शिकायतों को लेकर प्रदेश की नौ प्राइवेट यूनिवर्सिटी के खिलाफ जांच रिपोर्ट तैयार कर ली है। रिपोर्ट में कई यूनिवर्सिटी में गंभीर अनियमितताएं सामने आई हैं तो कई में कुछ शिकायतें झूठी निकली हैं।

11/05/2019

सीबीएसई ने विद्यार्थियों को लिखा पत्र, ऑनलाइन करें पढ़ाई

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने पूरे देश में लॉकडाउन होने के बाद विद्यार्थियों को एक पत्र लिखा है। इस पत्र में सीबीएसई के सचिव अनुराग त्रिपाठी ने विद्यार्थियों को संदेश देते हुए लॉकडाउन को शिक्षा के लिए एक सुनहरा अवसर बताया है।

29/03/2020

मेकॉन लिमिटेडए रांची में एग्जीक्यूटिव सहित अनेक पदों पर भर्तियां

मेकॉन लिमिटेडए रांची ने विभिन्न श्रेणी के कुल 168 पदों को भरने के लिए आवेदन पत्र आमंत्रित किए हैं। इनमें एग्जीक्यूटिव, अकाउंटेंट, हिन्दी ट्रांसलेटरए सेफ्टी आॅफिसर समेत अन्य पद शामिल हैं।

14/06/2019

RPSC भर्ती विज्ञापन से लेकर परिणाम तक प्रक्रियाओं को पूरा करें: राज्यपाल

राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा है कि राजस्थान लोक सेवा आयोग भर्ती की प्रक्रियाओं को समय पर पूरा करें। राज्यपाल ने यह आदेश उनसे मिलने राजभवन आए आयोग के सदस्यों को दिए।

15/10/2019

स्टूडेंट स्टार्टअप सेशन का आयोजन

जेईसीआरसी फाउंडेशन में स्थापित इन्क्यूबेशन सेंटर में रजिस्टर्ड कम्पनी के लिए स्टूडेंट स्टार्टअप सेशन का आयोजन किया गया।

23/01/2020

कबाड़ का व्यापार करने वाले के बेटे ने हासिल किए 94.60 प्रतिशत अंक

जिले में राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 12 वी साइंस की परीक्षा में चौमहला के छात्र छात्राओं ने सर्वाधिक अंक प्राप्त किए ही वहीं जिले में देर शाम तक मिली सूचना के अनुसार कबाड़ का व्यापार करने वाले जहूर मंसूरी के बेटे जोयब ने सर्वाधिक 94.60 फीसदी अंक प्राप्त कर जिले में कस्बे सहित विद्यालय का नाम रोशन किया।

15/05/2019

शिक्षकों को ही अटपटी लग रही ऑनलाइन पढ़ाई, माना अव्यवहारिक

कोरोना के कारण स्कूली बच्चों की एग्जाम और उसके बाद की पढ़ाई में परेशानी के बदले ऑनलाइन पढ़ाई की सरकारी मंशा में शिक्षकों की सहमति ही नहीं बन पा रही। अधिकांश शिक्षकों ने इसे अव्यवहारिक माना है। कुछ शिक्षक संगठनों का मानना है कि सरकार ने बच्चों और अभिभावकों को राहत देने के लिए ऐसा करने की बात कही है, लेकिन राजस्थान में पिछड़े जिलों और गांवों में यह व्यवस्था व्यवहारिक रूप नहीं ले पाएगी।

11/04/2020