Dainik Navajyoti Logo
Friday 18th of June 2021
 
शिक्षा जगत

1 जून को होगी CBSE 12वीं परीक्षा की घोषणा, केंद्र ने परीक्षा के लिए राज्यों से 2 दिन में मांगे प्रस्ताव

Monday, May 24, 2021 10:00 AM
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड।

नई दिल्ली। सीबीएसई की लंबित बोर्ड परीक्षाएं की घोषणा एक जून को केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल करेंगे। निशंक ने राज्यों से 12वीं कक्षा की लंबित बोर्ड परीक्षा पर 25 मई तक विस्तृत सुझाव भेजने को कहा है। वहीं राज्यों की बोर्ड परीक्षा कराने का अधिकार उन्हें दे दिया है। मंत्री समूह की उच्च स्तरीय बैठक के बाद निशंक ने कहा कि छात्रों के बीच कायम अनिश्चितता खत्म करने के लिए जल्द से जल्द 12 वीं कक्षा की लंबित बोर्ड परीक्षा पर फैसला होगा। उन्होंने कहा कि मुझे भरोसा है कि हम 12वीं के एग्जाम के बारे में जल्द ही फैसला लेने की स्थिति में होंगे। इसके बारे में जल्द से जल्द जानकारी देकर छात्रों और अभिभावकों की अनिश्चितता को दूर करेंगे।

निशंक ने दोहराया कि छात्रों और शिक्षकों की सुरक्षा और भविष्य दोनों हमारे लिए बहुत अहम हैं। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मंत्री-अफसरों अलावा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और प्रकाश जावड़ेकर भी शामिल हुए। इस बैठक में सभी राज्यों के शिक्षा मंत्री तथा प्रमुख शिक्षा बोर्ड वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भाग लिया। सूत्रों के अनुसार सीबीएसई ने 12वीं की परीक्षा के लिए दो ऑप्शन का प्रस्ताव रखा है।

सीबीएसई के विकल्प
पहला विकल्प-: सिर्फ मेजर सब्जेक्ट की परीक्षा निर्धारित सेंटर्स पर कराई जा सकती है। इन परीक्षाओं के नंबर्स को आधार बनाकर माइनर सब्जेक्ट में भी नंबर दिए जा सकते हैं। इस विकल्प के तहत परीक्षा करवाने के लिए प्री-एग्जाम के लिए एक महीना, एग्जाम और रिजल्ट डिक्लेयर करने के लिए दो महीने और कंपार्टमेंट एग्जाम के लिए 45 दिनों का समय चाहिए होगा। बोर्ड 12वीं के 174 विषय में परीक्षा का आयोजन करता है, जिनमें से लगभग 20 विषय ऐसे है जो सीबीएसई की ओर से महत्वपूर्ण माने जाते हैं। इनमें भौतिकी, रसायन विज्ञान, गणित, जीव विज्ञान, इतिहास, राजनीति विज्ञान, व्यवसाय अध्ययन, लेखा, भूगोल, अर्थशास्त्र और अंग्रेजी विषय शामिल हैं। सीबीएसई ने कहा कि कक्षा 12वीं के छात्र महत्वपूर्ण विषय की परीक्षा में अपने स्कूलों में बैठें (सेल्फ सेंटर) में दे सकते हैं।

दूसरा विकल्प-: सभी सब्जेक्ट्स के एग्जाम के लिए डेढ़ घंटे (90 मिनट) का समय निर्धारित करने का सुझाव दिया गया है। इसके साथ ही पेपर में सिर्फ ऑब्जेक्टिव या शॉर्ट क्वेश्चन ही पूछने की सलाह दी है। इस तरह 45 दिन में ही एग्जाम कराए जा सकते हैं। इसमें कहा गया है कि 12वीं के बच्चों के मेजर सब्जेक्ट की परीक्षा उनके ही स्कूल में ले ली जाए। साथ ही, एग्जामिनेशन सेंटर्स की संख्या बढ़ाकर दोगुनी कर दी जाए। सुझावों में कहा गया है कि 12वीं क्लास के एक्जाम में एक पेपर भाषा से संबंधित और तीन पेपर इलेक्टिव सब्जेक्ट का रखा जाए। 5वें और 6वें सब्जेक्ट के नंबर इलेक्टिव सब्जेक्ट में मिले नंबर के आधार पर दिए जाएं।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

बढ़ता प्लेसमेंट का दायरा, छात्रों को मिला बेहतर पैकेज

प्रदेशभर के सरकारी और निजी विश्वविद्यालयों व कॉलेजों में नया शैक्षणिक सत्र शुरू हुए डेढ़ महीना ही हुआ है और शहर के विद्यार्थियों को जॉब मिल रही है।

19/09/2019

RU में स्नातक प्रथम वर्ष के परीक्षा फॉर्म भरने की तिथि बढ़ाई, अब 22 जनवरी तक कर सकते हैं आवेदन

राजस्थान विश्वविद्यालय (आरयू) ने स्नातक प्रथम वर्ष के परीक्षार्थियों के लिए परीक्षा फॉर्म भरने की अंतिम तिथि बढ़ा दी है। अब छात्र 22 जनवरी तक आवेदन कर सकते हैं। इससे पहले आवेदन की अंतिम तिथि शुक्रवार तक थी, लेकिन विवि प्रशासन ने छात्रों की मांगों को ध्यान में रखते हुए आवेदन की अंतिम तिथि को बढ़ा दिया है।

16/01/2021

स्कूली बच्चों के पाठ्यक्रम पर फिर से चलेगी कैंची, मंथन में जुटी सरकार और शिक्षा विभाग

स्कूलों में दिसंबर महीने तक लगभग कोर्स पूरा कर अर्द्धवार्षिक परीक्षाएं भी आयोजित करवाई जा चुकी होती हैं, लेकिन इस साल कोरोना संक्रमण के चलते 31 दिसंबर तक प्रदेश में सभी स्कूलें बंद है। ऐसे में इस शैक्षणिक सत्र में बच्चों को पढ़ाने और परीक्षाओं में पास करने के साथ ही उनके भविष्य का सवाल खड़े हो रहा है, लेकिन शिक्षा विभाग की ओर से इसके लिए तैयारियां की जा रही है।

02/12/2020

सीबीएसई 12वीं के छात्रों ने मुख्य न्यायाधीश को लिखा पत्र, परीक्षाएं रुकवा दें, हमारी जान को खतरा

सीबीएसई 12वीं परीक्षाओं को लेकर अंतिम फैसला करने को लेकर चल रही तैयारियों के बीच 300 छात्रों ने भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमन्ना को पत्र लिखकर कर परीक्षाएं रुकवाने की मांग की है। छात्रों ने अपने पत्र में लिखा कि कोरोना महामारी के बीच सीबीएसई की ओर से ऑफलाइन परीक्षाएं कराने के फैसले पर रोक लगाई जाए।

26/05/2021

ग्लोबल रैंकिंग-2020 में टॉप 300 में भारत की एक भी यूनिवर्सिटी शामिल नहीं

ग्लोबल यूनिवर्सिटी की नई रैंकिंग में टॉप 300 में भारत की एक भी यूनिवर्सिटी जगह नहीं बना पाई है। 2012 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है कि टॉप 300 में देश की कोई यूनिवर्सिटी नहीं है।

12/09/2019

BSDU ने विविध विषयों में बैचलर ऑफ वोकेशनल प्रोग्राम के लिए आवेदन आमंत्रित किए

बी.वोक. पाठ्यक्रम का 60 प्रतिशत हिस्सा कौशल आधारित और 40 प्रतिशत भाग सामान्य शिक्षा से संबंधित हैं।

26/11/2019

अगले शिक्षा सत्र से राजस्थान के स्कूलों में NCERT पाठ्यक्रम होगा लागू: गोविन्द डोटासरा

गले शिक्षा सत्र 2020-21 से राजकीय एवं संबद्ध विद्यालयों में कक्षा 6 से 8 तक एनसीईआरटी पाठ्यक्रम की हिन्दी और अंग्रेजी माध्यम की पुस्तकों को लागू किया जाएगा।

11/09/2019