Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 1st of April 2020
 
बिज़नेस

भारत में बिजनेस करना अब और आसान, वर्ल्ड बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में 63वें स्थान पर

Thursday, October 24, 2019 11:30 AM
वर्ल्ड बैंक (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर भारत को एक अच्छी खबर मिली है। भारत में कारोबार करना अब और आसान हो गया है। मोदी सरकार द्वारा इस दिशा में किए गए प्रयासों को अब वर्ल्ड बैंक ने भी स्वीकार किया है। वर्ल्ड बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में भारत 14 रैंकिंग की सुधार के साथ अब 63वें नंबर पर पहुंच गया है।

वर्ल्ड बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस यानी कारोबार करने में सुगमता की रैंकिंग में उस समय आई है, जब देश आर्थिक सुस्ती का शिकार है। साल 2014 में जब पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए सरकार बनी थी, तब भारत की रैंकिंग 190 देशों में 142वें स्थान पर थी। 2018-19 की लिस्ट में भारत की 77वीं रैंक थी। भारत लगातार तीसरे साल अर्थव्यवस्था के मामले में टॉप-10 सुधारक देशों में शामिल हुआ है। 20 साल के प्रोजेक्ट में बहुत कम देशों ने इतनी सफलता हासिल की है। इस मामले में कई और देशों को बहुत कम सफलता मिली है।

ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भारत के अलावा टॉप-10 सुधारक देशों में सऊदी अरब (62), जॉर्डन (75), टोगो (97), बहरीन (43), ताजिकिस्तान (106), पाकिस्तान (108), कुवैत (83), चीन (31) और नाइजीरिया (131) शामिल हैं।

क्यों है महत्वपूर्ण
भारत इस सूची में लगातार तीसरे साल शीर्ष प्रदर्शन करने वाले देश में भी शामिल है। यह रैंकिंग ऐसे समय में आई है, जब भारतीय रिजर्व बैंक, वर्ल्ड बैंक, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष, मूडीज सहित कई एजेंसियों ने आर्थ‍िक सुस्ती को देखते हुए जीडीपी में बढ़त के अनुमान को घटा दिया है। देश में आर्थि‍क सुस्ती का माहौल है और अर्थव्यवस्था के लगभग सभी मोर्चों पर नकारात्मक खबरें आ रही थीं।

यह भी पढ़ें:

अमेरिका : जॉनसन बेबी पाउडर में कैंसर कारक तत्व, कंपनी ने वापस मंगायी 33 हजार डिब्बों की खेप

जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी ने अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन की जांच में बेबी पाउडर में कैंसरकारक एस्बेस्टस के खुलासे के बाद बाजार से 33 हजार बेबी पाउडर की खेप वापस मंगा ली है।

19/10/2019

हिन्दुस्तान कॉपर का मुनाफा 83 फीसदी उछला

हिन्दुस्तान कॉपर लिमिटेड के 2018-19 के वित्तीय परिणाम बोर्ड आफ डायरेक्टर्स की मीटिंग में अनुमोदित किए गए।

30/05/2019

मोबाइल निर्यातक देश बना भारत, आयात से अधिक हुआ निर्यात

भारत अब मोबाइल फोन हैंडसेट का निर्यातक देश बन गया है। वित्त वर्ष 2019-20 में मोबाइल हैंडसेट का निर्यात आठ गुना बढ़कर 11,200 करोड़ रुपए का हो गया, जो आयात की तुलना में ज्यादा है। यह पहली बार हुआ है जब किसी साल भारत का मोबाइल फोन हैंडसेट निर्यातए आयात के मुकाबले ज्यादा रहा है।

27/09/2019

बीएसएनएल का 3 हजार करोड़ से अधिक की वसूली पर जोर

नकदी समस्या से जूझ रही सार्वजनिक क्षेत्र की बीएसएनएल ने अपने कंपनी ग्राहकों से बकाये की वसूली के लिए आक्रामक तरीके से कदम उठाने की योजना बनाई है।

12/08/2019

सरकार ने गेहूं पर सीमा शुल्क बढ़ाकर 40 प्रतिशत किया

सरकार ने गेहूं पर सीमा शुल्क 30 प्रतिशत से बढ़ाकर 40 प्रतिशत कर दिया है। इस कदम का मकसद आयात पर अंकुश लगाना और घरेलू उत्पादकों के हितों को संरक्षण प्रदान करना है।

29/04/2019

जेट एयरवेज को बचाने के लिए प्रधानमंत्री से हस्तक्षेप की अपील

वित्तीय संकट के कारण फिलहाल परिचालन स्थगित कर चुकी निजी विमान सेवा कंपनी के कर्मचारियों ने गुरुवार को यहां जंतर-मंतर पर प्रदर्शन किया तथा एयरलाइन

19/04/2019

शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 36 और निफ्टी 22 अंक चढ़े

देश के शेयर बाजारों में चालू सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिवस शुक्रवार को मामूली तेज रहा।

01/11/2019