Dainik Navajyoti Logo
Thursday 6th of May 2021
 
बिज़नेस

ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के अगले चरण पर काम कर रही है सरकार, सृजित होंगे रोजगार के अवसर

Sunday, May 17, 2020 16:40 PM
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण।

नई दिल्ली। विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने और घरेलू उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए सरकार कारोबारी सुगमता-ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के अगले चरण पर गंभीरता से काम कर रही है जिससे व्यापक स्तर पर रोजगार के अवसर सृजित होंगे। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि सरकार कारोबारी सुगमता के अगले चरण की ओर गंभीरता से बढ़ रही है। इस चरण पर भू-संपदा का सरलता से पंजीकरण, व्यावसायिक विवादों का शीघ्रता से निपटारा और कर ढांचे को सरल बनाने पर जोर दिया जाएगा। इनके जरिए भारत को दुनिया में कारोबार के लिए सबसे आकर्षित स्थल बनाने का प्रयास किया जाएगा। 

उन्होंने कहा कि सरकार देश में कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने के लिए प्रयास कर रही है। वैश्विक निवेशक देश के कारोबार माहौल की रिपोर्ट-डीबीआर को देखते हैं। सरकार के निरंतर प्रयासों से विश्व बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रिपोर्ट 2019 में भारत की स्थिति में सुधार हुआ है। वर्ष 2019 में भारत की स्थिति 142 से सुधरकर 63 पर पहुंच गई है। सरकार के सुधारों में अनुमति और मंजूरी की प्रक्रिया को सरल करना, स्व प्रमाणित और तीसरे पक्ष का प्रमाण पत्र हासिल करना शामिल है। सीतारमण ने कहा कि कारोबारी सुगमता के लिए दिवालिया घोषित करने की प्रक्रिया के लिए न्यनूतम राशि 1 करोड़ रुपए कर दी गई है। पहले यह राशि एक लाख रुपए थी। इससे सूक्ष्म, लघु एवं मझौले उद्योगों को लाभ मिलेगा। इससे संबंधित अधिसूचना जल्दी जारी की जाएगी। कोरोना महामारी को देखते हुए दिवालिया घोषित करने की नई प्रक्रिया एक वर्ष के लिए निलंबित कर दी गई है। कोविड-19 से संबंधित ऋण नहीं चुकाने पर संबंधित उद्यम को 'डिफॉल्टर' नहीं माना जाएगा।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए नई सार्वजनिक उपक्रम नीति लाई जाएगी। इसमें सभी क्षेत्र निजी क्षेत्र के लिए खोल दिए जाएंगे और सार्वजनिक उपक्रम अधिसूचित क्षेत्र में काम करेंगे। सार्वजनिक उपक्रमों की जरुरी मौजूदगी वाले रणनीतिक क्षेत्रों को सरकार अधिसूचित करेगी। रणनीतिक क्षेत्रों में कम से कम एक सार्वजनिक उपक्रम रहेगा, लेकिन इसे भी निजी क्षेत्र के लिए खोल दिया जाएगा। अन्य क्षेत्रों के सार्वजनिक उपक्रमों का समय के साथ निजीकरण किया जाएगा। प्रशासनिक क्षेत्र की लागत घटाने के लिए किसी भी रणनीतिक क्षेत्र में सार्वजनिक उपक्रमों की संख्या अधिक चार होगी। अन्य सार्वजनिक उपक्रमों का या तो निजीकरण होगा या उनका विलय किया जाएगा या उनमें विनिवेश होगा।

यह भी पढ़ें:

छह साल में पहली बार हवाई यातायात में गिरावट

निजी विमान सेवा कंपनी जेट एयरवेज के बंद होेने के कारण अप्रैल में देश के हवाई यातयात में छह साल में पहली बार गिरावट दर्ज की गई।

30/05/2019

आईसीआईसीआई बैंक ने सात नई शाखाएं खोली

आईसीआईसीआई बैंक ने घोषणा की कि उसने इस वित्तीय वर्ष में 31 नई शाखाओं को जोड़कर राजस्थान में अपने रिटेल नेटवर्क का विस्तार किया है। यह बैंक की राष्ट्रव्यापी शाखा विस्तार पहल का हिस्सा है।

12/11/2019

यात्री वाहनों की बिक्री की रफ्तार रही धीमी

देश में वर्ष 2018-19 में यात्री वाहनों की बिक्री की रफ्तार धीमी रही और इस दौरान इसमें मात्र 2.70 प्रतिशत की बढोतरी दर्ज की गई जबकि कुल वाहनों की बिक्री में 5.15 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

09/04/2019

आईबीसी से 75 हजार करोड़ रुपए की हुई वसूली: रिपोर्ट

इन्सोलवेंसी एंड बैंक्रप्सी कोड (आईबीसी) से वर्ष 2018-19 के अंत तक जोखिम में फंसे संपदा से जुड़े 94 मामलों में कम से कम 75 हजार करोड़ रुपए की वसूली हुई है।

04/05/2019

शेयर बाजार में गिरावट, मुनाफावसूली से सेंसेक्स 400 अंक और निफ्टी 105 अंक फिसला

वैश्विक बाजारों से मिले कमजोर संकेतों के साथ ही घरेलू स्तर पर हेल्थ केयर बैंकिंग और वित्त जैसे समूहों में हुई मुनाफावसूली से घरेलू शेयर बाजार बुधवार को गिरावट लेकर बंद हुए हुए। इस दौरान बीएसई का सेंसेक्स 400 अंक और एनएसई का निफ्टी 105 अंक फिसल गया। बीएसई का सेंसेक्स 400.3 4 अंक गिरकर 51703.83 अंक पर आ गया। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ़्टी 104.55 अंक गिरकर 15208.90 अंक पर रहा

17/02/2021

जीएसटी क्षतिपूर्ति पर सवाल उठाने वालों को आत्मचिंतन करने की जरूरत: निर्मला सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने जीएसटी क्षतिपूर्ति का भुगतान राज्यों को नहीं किए जाने को मुद्दा बनाने के कांग्रेस शासित या उसके समर्थित राज्यों का नाम लिए बगैर कटाक्ष करते हुए कहा कि जो जीएसटी को लागू नहीं कर सके उन्हें इस पर आत्मचिंतन करने की जरूरत है।

27/08/2020

बीते वित्त वर्ष में घटा एफडीआई

दूरसंचार, फार्मा और अन्य क्षेत्रों में विदेशी पूंजी प्रवाह घटने से बीते वित्त वर्ष में विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) एक प्रतिशत गिरकर 44.37 अरब डॉलर रहा गया है

29/05/2019