Dainik Navajyoti Logo
Thursday 22nd of April 2021
 
बिज़नेस

रिजर्व बैंक ने नीतिगत दरों में नहीं किया कोई बदलाव, लोन की मासिक किश्त कम होने की उम्मीद नहीं

Wednesday, April 07, 2021 13:05 PM
शक्तिकांत दास (फाइल फोटो)

मुंबई। कोरोना संकट के इस दौर में भारतीय रिजर्व बैंक ने देश के विकास को गति देने को ध्यान में रखते हुए प्रमुख नीतिगत दरों में कोई बदलाव नहीं किया है जिससे घर, कार आदि पर ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद धुमिल हो गई है। मौद्रिक नीति समिति की 3 दिवसीय बैठक के बाद आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने समिति की बैठक में लिए गए निर्णयों की जानकारी देते हुए कहा कि मुख्य नीतिगत दरें यथावत रखी गई है। रेपो रेट को 4 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट को 3.35 फीसदी पर पर यथावत रखा गया है। इसके साथ ही एमएसएफ 4.25 प्रतिशत और बैंक दर 4.25 प्रतिशत पर स्थिर है। ये दरें अब तक के रिकॉर्ड निचले स्तर पर हैं। दास ने कहा कि कोरोना का प्रसार बढ़ने के बावजूद अर्थव्यवस्था में सुधार हो रहा है।

रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा कि हाल में देश के कई राज्यों में जिस तरह से संक्रमण के मामले बढ़े हैं, उससे थोड़ी अनिश्चितता पैदा हुई है, लेकिन भारत चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि आरबीआई ने मौद्रिक रुख को उदार बनाए रखा है। फिलहाल अर्थव्यवस्था की स्थिति को देखते हुए ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि देश के कई राज्यों में कोरोना वायरस के नए मामले बढ़ने की वजह से ग्रोथ आउटलुक पर अनिश्चितता बनी है। कई राज्य सरकारों द्वारा संक्रमण की रोकथाम के लिए लगाए जा रहे प्रतिबंधों की वजह से आर्थिक रिकवरी को झटका लग सकता है। वित्त वर्ष 2021-22 के लिए आरबीआई ने विकास अनुमान को 10.5 फीसदी पर यथावत रखा है। नए कर्ज उपलब्ध कराने के लिए वित्तीय कंपनियों को 50,000 करोड़ रुपए की मदद देने का प्रावधान किया गया है।

उन्होंने कहा कि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के हिसाब से साल 2021 की चौथी तिमाही में महंगाई दर 5 फीसदी, साल 2021-22 की पहली तिमाही में 5.2 फीसदी, साल 2021-22 की दूसरी तिमाही में 5.2 फीसदी और साल 2022 की तीसरी तिमाही में 4.4 फीसदी रहने का अनुमान है। चालू वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही में महंगाई दर 5.1 फीसदी रह सकती है। दास ने कहा कि सरकार की मदद से भारतीय रिजर्व बैंक कोरोना वायरस के मद्देनजर देश की अर्थव्यवस्था में आ रहे बदलाव को दिशा देने के लिए हरसंभव उपाय करेगा। केंद्रीय बैंक सिस्टम में पर्याप्त तरलता उपलब्ध कराने के लिए कदम उठा रहा है। उन्होंने कहा कि देश में ग्रामीण इलाके से ग्राहकों की मांग में तेजी दर्ज की जा रही है, जबकि अब शहरी इलाकों से भी ग्राहकों की मांग में सुधार के संकेत मिल रहे हैं। दुनिया भर में कोरोना टीकाकरण चलने की वजह से आर्थिक रिकवरी आ रही है। इसके साथ ही दुनियाभर के बैंकिंग नियामक मौद्रिक नीतियों को नरम कर रहे हैं, जिससे ग्लोबल जीडीपी को मदद मिल सके। देश में बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान चलने की वजह से भारत की जीडीपी ग्रोथ की उम्मीद भी मजबूत हुई हैं।

यह भी पढ़ें:

शेयर बाजार: सेंसेक्स 1710 अंक और निफ्टी 498 अंक टूटा, निवेशकों के 6 लाख करोड़ डूबे

कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने से अर्थव्यवस्था प्रभावित होने की आशंका के कारण बुधवार को शेयर बाजार शुरुआती बढ़त खोकर साढ़े पांच प्रतिशत से अधिक की गिरावट लेकर लगभग तीन वर्ष के निचले स्तर पर बंद हुआ, जिससे निवेशकों के करीब 6 लाख करोड़ रुपए डूब गए।

18/03/2020

ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के अगले चरण पर काम कर रही है सरकार, सृजित होंगे रोजगार के अवसर

विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने और घरेलू उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए सरकार कारोबारी सुगमता-ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के अगले चरण पर गंभीरता से काम कर रही है जिससे व्यापक स्तर पर रोजगार के अवसर सृजित होंगे।

17/05/2020

कश्मीर : ताजा संघर्ष में पांच की मौत, अब तक 63 की मौत

कश्मीर में बडग्राम और अनंतनाग जिले में पत्थर फेंक रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच ताजा संघर्षों में आज पांच लोगों की मौत हो गयी और कई अन्य घायल हो गये. घाटी में कर्फ्यू, पाबंदियों और अलगाववादी समर्थित हड़ताल के कारण आज लगातार 39वें दिन जनजीवन प्रभावित हुआ.

16/08/2016

लगातार दूसरे दिन लुढ़का शेयर बाजार, सेंसेक्स 335 अंक टूटकर 38 हजार के स्तर से नीचे

वैश्विक स्तर से मिले नकारात्मक संकेतों के साथ ही घरेलू स्तर पर दूरसंचार, तेल एवं गैस, वित्त और बैंकिंग समूहों की कंपनियों में बिकवाली के दबाव में घरेलू शेयर बाजार गुरुवार को लाल निशान में रहे। बीएसई का सेंसेक्स 335.06 अंक टूटकर 38 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे 37,736.07 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 100.70 अंक गिरकर 11,102.15 अंक पर रहा।

30/07/2020

शुरुआती गिरावट के बाद रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा सेंसेक्स, 40470 अंक पर बंद

मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल में अधूरे रहे आर्थिक सुधारों को आगे बढ़ाने संबंधी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बयान के बाद बैंकिंग तथा वित्तीय कंपनियों में लिवाली से घरेलू शेयर बाजार बुधवार को शुरुआती गिरावट से उबरने में कामयाब रहे तथा बीएसई का सेंसेक्स नये रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया।

06/11/2019

मुकेश अंबानी हिमाचल प्रदेश में निवेश के इच्छुक : ठाकुर

अग्रणी उद्योगपति और रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के मालिक मुकेश अंबानी ने हिमाचल प्रदेश में दूरसंचार और रिर्सोट समेत अन्य क्षेत्रों में निवेश की इच्छा व्यक्त की है।

28/06/2019

जीएसटी परिषद की बैठक आज, राजस्व के नुकसान की भरपाई पर होगी चर्चा

केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में गुरुवार को वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद की 41वीं बैठक होगी, जिसमें इस कर व्यवस्था के लागू होने से राज्यों के राजस्व में हुए नुकसान की भरपाई के लिए मुख्य रूप से चर्चा होगी।

27/08/2020