Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 28th of September 2021
 
अजमेर

RPSC का कनिष्ठ लेखाकार 23 लाख की घूस लेते ट्रैप, RAS इंटरव्यू में सलेक्शन करवाने की एवज में मांगी थी रिश्वत

Saturday, July 10, 2021 10:20 AM
कार्रवाई करते एसीबी अधिकारी और पीछे खड़ा आरोपी गोले में।

अजमेर। राजस्थान लोक सेवा आयोग अजमेर में भी भ्रष्टाचार फैले होने का शुक्रवार को एसीबी ने सनसनीखेज खुलासा कर दिया है। एसीबी ने कनिष्ठ लेखाकार सज्जन सिंह गुर्जर को आरएएस परीक्षा-2018 के साक्षात्कार में अधिक अंक दिलवाने और सलेक्शन करवाने की एवज में 23 लाख रुपए की रिश्वत लेने के आरोप में ट्रैप किया, जिसमें एक लाख की नकदी और शेष 22 लाख की डमी (नकली) मुद्रा थी। उससे रिश्वत के 1 लाख रुपए बरामद कर लिए गए हैं। एसीबी अधिकारी आरोपी से गहनता से पूछताछ करने में जुटे हुए हैं।
 
एसीबी के डीजीपी बीएल सोनी ने बताया कि एसीबी जयपुर की तृतीय इकाई में परिवादी ने आरपीएससी में आरएएस भर्ती परीक्षा-2018 के दौरान बड़े स्तर पर भ्रष्टाचार किए जाने की शिकायत की। इसमें परिवादी ने आरपीएससी के कनिष्ठ लेखाकार सज्जन सिंह गुर्जर द्वारा सलेक्शन कराने की एवज में 25 लाख रुपए मांगने की जानकारी दी थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए डीजीपी सोनी ने एसीबी जयपुर के एडीशनल एसपी हिमांशु कुलदीप के नेतृत्व में टीम बनाकर शिकायत का सत्यापन कराया। उसमें शिकायत सही पाई गई।

घर पर भी सर्च
डीजीपी बीएल सोनी ने बताया कि एसीबी की अन्य टीमें आरोपी के बांदीकुई स्थित घर सहित अन्य ठिकानों पर गहनता से तलाश कर रही हैं। हालांकि एसीबी ने आरोपी के घर से बरामद हुई राशि, उसके बैंक खाते, लॉकर व प्रोपर्टी संबंधी दस्तावेज के संबंध में देररात तक खुलासा नहीं किया।

एसीबी को देख पार्टी करने आए दोस्त भागे
एसीबी की सूत्रों के अनुसार आरपीएससी के आरोपी कनिष्ठ लेखाकार सज्जन सिंह को अपने दोस्तों के साथ उसके कांकरदा भूणाबाय स्थित किराए के कमरे पर शाम को पार्टी का आयोजन भी करना था। उस दौरान एक-दो दोस्त वहां पहुंच भी गए थे। लेकिन उन्होंने जैसे ही एसीबी को देखा, तो वे मौके से भाग गए, क्योंकि वह कमरे के बाहर थे। जबकि सज्जन अन्दर था। इसलिए उन्हें भागने का मौका मिल गया।

घर के बाहर निगरानी के लिए खड़ा किया
सूत्रों की मानी जाए तो आरोपी को रिश्वत राशि लेने के दौरान ट्रैप होने का भी आभास था। इसलिए उसने परिवादी के आने पर घर के बाहर ही मुख्य मार्ग पर पहले से निगरानी के लिए किसी को खड़ा किया था। इसलिए ट्रैप की कार्रवाई के दौरान आरोपी ने भी पैसा फेंककर भागने का प्रयास किया था। लेकिन वह एसीबी से बच नहीं सका।

आमजन से अपील भ्रष्टाचारियों की सूचना दें
एसीबी के डीजीपी बीएल सोनी ने प्रदेशभर के आमजन से अपील की है कि अपने वैध कार्य के लिए किसी को रिश्वत नहीं दें, बल्कि रिश्वत मांगने वाले के संबंध में एसीबी के टोल फ्री हैल्पलाईन नं 1064 एवं व्हाट्सअप हैल्पलाईन नंबर 9413502834 पर कभी भी संपर्क कर सूचना दे सकते हैं। एसीबी भ्रष्टाचारियों के खिलाफ तुरंत कार्यवाही करती है। चाहे वह राज्य या केन्द्र सरकार का कर्मचारी हो।

पहले भी बिना नाम-पते के आ चुकी हैं शिकायतें
एसीबी के हत्थे चढ़े गुर्जर के खिलाफ आयोग को पहले भी बिना नाम-पते के शिकायतें मिल चुकी हैं। इन शिकायतों में सज्जन सिंह पर आरोप लगाया गया था कि वह पेपर लीक करते हैं। आयोग प्रशासन ने सज्जन से पूछताछ की तो उसने तर्क दिया कि उसके परिवार में जमीनी विवाद चल रहा है। संभवत: उसी के चलते उसे बदनाम करने के लिए यह शिकायतें की जा रही हैं। चूंकि शिकायतें बेनामी थीं और कोई प्रमाणिक तथ्य भी नहीं थे। इसलिए आयोग ने इन्हें गंभीरता से नहीं लिया।

दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल था सज्जन
मूलत: बांदीकुई का रहने वाला आरोपी सज्जन सिंह पूर्व में दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल रह चुका है। लेकिन पुलिस की कठिन ड्यूटी से परेशान होकर उसने नौकरी छोड़ दी और कनिष्ठ लेखाकार की परीक्षा दी। जिसमें वह उत्तीर्ण हो गया। लगभग चार साल पहले उसे पहली पोस्टिंग राजस्थान लोक सेवा आयोग में मिली और पहली ही पोस्टिंग में उसने गुल खिला दिया। वर्तमान में वह भूणाबाय गांव में किराए का मकान लेकर अकेला ही रह रहा है।

अभ्यर्थियों की बढ़ी चिंता
एसीबी की कार्रवाई ने आरएएस 2018 के अभ्यर्थियों की चिन्ता बढ़ा दी है। उन्हें यह फिक्र सताने लगी है कि कार्रवाई के चक्कर में साक्षात्कार न अटक जाएं या परिणाम जारी करने में देरी न हो जाए। क्योंकि इस परीक्षा की प्रक्रिया पिछले तीन साल से जारी है।

जयपुर से आई टीम
एसीबी ने ट्रेप के लिए एडीशनल एसपी हिमांशु कुलदीप के नेतृत्व में डीएसपी सुरेश कुमार स्वामी एवं उनकी टीम को ट्रेप कार्यवाही के लिए अजमेर भेज दिया। इस पर आरोपी ग्राम सुनगाड़ी, बांदीकुई जिला दौसा निवासी सज्जन सिंह ने जयपुर रोड पर ही आरपीएससी के आगे कांकरदा भूणाबाय स्थित अपने किराए के कमरे पर रिश्वत देने के लिए बुला लिया। जहां टीम ने आरोपी को रंगेहाथ एक लाख की नकदी व 22 लाख की डमी राशि के साथ दबोच लिया।

25 में से 23 लाख ऊपर पहुंचाने पड़ते हैं
एसीबी के एडीशनल एसपी हिमांशु कुलदीप ने बताया कि परिवादी ने आरोपी सज्जन से कहा था कि साहब 25 लाख तो बहुत ज्यादा हैं। इस पर सज्जन ने उसे बताया कि 25 लाख में से 23 लाख तो ऊपर पहुंचाने पड़ते हैं। नीचे के स्तर पर मात्र दो लाख ही रह जाते हैं। इसलिए एसीबी अब आरोपी से मामले में ऊपर के लिंक के विषय में गहनता से पूछताछ कर रही है। उससे यह जानने का प्रयास किया जा रहा है कि उसके रिश्वत के खेल में और कौन-कौन लोग शामिल हैं।

1 लाख की नकदी, 22 लाख की डमी राशि
एसीबी को शिकायत के दौरान जब ट्रैप करने के लिए 23 लाख रुपए की नकदी देने की बात सामने आई तो परिवादी ने इतनी बड़ी रकम उसके पास नहीं होने की जानकारी दी। ऐसे में परिवादी ने एक लाख रुपए नकद व 22 लाख रुपए की डमी राशि रखने की बात कही थी। जिसमें 22 लाख रुपए बच्चों के मनोरजन बैंक के आने वाले नोट रखे थे। जिससे आरोपी सज्जन को ये लगे कि परिवादी नोट वास्तव में देने आया है।

आरएएस 2018 फैक्ट फाइल
-11 अप्रैल 2018 को 1017 पदों के लिए आवेदन मांगे गए थे।
-एमबीसी के 34 पद बढ़ने के बाद कुल 1051 पद हो गए। इनमें राज्य सेवा के 437 और अधीनस्थ सेवा के 577 पद हैं।
-प्री परीक्षा का परिणाम 23 अक्टूबर 2018 को जारी हुआ था।
-मुख्य परीक्षा 25-26 जून 2019 को हुई थी। इसमें 22 हजार 984 अभ्यर्थी बैठे थे।
-मुख्य परीक्षा का परिणाम 9 जुलाई 2020 को जारी हुआ।
-साक्षात्कार के पहले चरण में 22 मार्च से 26 मार्च तक 300 अभ्यर्थियों के साक्षात्कार हुए। दूसरा चरण 31 मार्च से शुरू हुआ। इस दौरान 1709 अभ्यर्थियों के साक्षात्कार होने थे। लेकिन लॉकडाउन के कारण 19 मार्च से साक्षात्कार स्थगित करने पड़े। परिस्थितियां सामान्य होने के बाद साक्षात्कार पुन: 21 जून से शुरू हुए, जो 13 जुलाई तक चलेंगे। आयोग की तैयारी है कि 13 जुलाई को ही परिणाम जारी कर दिया जाए।

राजस्थान लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष डॉ. भूपेन्द्र यादव ने कहा कि जिसे पकड़ा गया है, वह कनिष्ठ लेखाकार है। वह परीक्षा की प्रक्रिया में कहीं भी शामिल नहीं था। आरएएस 2018 के साक्षात्कार अनवरत जारी रहेंगे।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

देशी शराब को ट्रेटा पैक में बाजार में उतारा जाएगा

देशी शराब को ट्रेटा पैक में बाजार में उतारा जाएगा मिलावट रोकने के लिए सरकार का फैसला, अभी प्लास्टिक और कांच की पैकिंग में है उपलब्ध

03/07/2019

डीजीपी गर्ग की फर्जी फेसबुक आईडी बना महिला को धमकाने वाला गिरफ्तार

राज्य के पुलिस महानिदेशक कपिल गर्ग की फर्जी फेसबुक आईडी बना एक महिला को अश्लील तथा धमकी भरे मैसेज भेजकर रकम की मांग करने के आरोप में पुलिस ने एक युवक को बीकानेर से गिरफ्तार किया है।

19/05/2019

अजमेर के कांग्रेस प्रत्याशी झुनझुनवाला अरबपति

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी उद्योगपति प्रत्याशी रिजु झुनझुनवाला अरबपति आसामी हैं। अजमेर के चुनावी इतिहास में उनके जितनी सम्पत्ति अब तक किसी भी पार्टी के किसी भी प्रत्याशी के पास नहीं रही है।

10/04/2019

नसीराबाद सेना क्षेत्र में घूमते संदिग्ध बांग्लादेशी को पकड़ा

तीन साल से देश के विभिन्न शहरों में घूमा, आधार कार्ड, पैन कार्ड, बैंक पासबुक सहित अन्य दस्तावेज भी मिले, आरोपी के खाते में दिल्ली व मुम्बई से आते थे रुपए।

10/10/2019

10 साल से ज्यादा पुराने राजस्व प्रकरणों में अब 10 दिन से ज्यादा की नहीं मिलेगी तारीख

प्रदेश के अधीनस्थ राजस्व न्यायालयों में विचाराधीन दस वर्ष से अधिक के प्रकरणों में अब 10 दिन से ज्यादा की तारीख-पेशी नहीं दी जा सकेगी। प्रकरण में सुनवाई और बहस के बाद फैसला भी इसी अवधि में देना पड़ेगा। राजस्व मंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में दिए दिशा-निर्देश

09/08/2019

पुलिस पर फायरिंग कर मनीष हत्याकांड के सरगना सहित तीन आरोपी फरार

अजमेर शहर के बहुचर्चित मनीष मूलचन्दानी हत्याकाण्ड व उसकी मनी एक्सचेंज की दुकान में डाली गई डकैती के मुख्य आरोपियों तक मंगलवार की रात को पुलिस की टीम पहुंच गई।

17/07/2019

राज्यपाल कलराज मिश्र ने 25 दिव्यांगजन को वितरित की स्कूटी

राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि दिव्यांगजन में विलक्षण प्रतिभा होती है। इन्हें सशक्त बनाना हमारा मानवीय कर्तव्य है। वे शनिवार को ब्यावर में राजसमंद सांसद दीयाकुमारी की ओर से आयोजित दिव्यांग स्कूटी वितरण समारोह को संबोधित कर रहे थे।

08/02/2020