Dainik Navajyoti Logo
Friday 23rd of July 2021
 
अजमेर

30 करोड़ की अघोषित सम्पत्ति व 17 करोड़ के जेवरात व नकदी मिली

Monday, February 17, 2020 00:10 AM
आयकर विभाग

   

 
अजमेर। आयकर विभाग ने अजमेर के दो कारोबारी परिवारों के खिलाफ चल रही जांच लगभग पूरी कर ली है। इनसे विभाग को 30 करोड़ की अघोषित सम्पत्ति और 17 करोड़ रुपये के जेवरात और नकदी मिली है। फिलहाल इनके पास से मिले दस्तावेजों और डिजिटल लेनदेन की जांच जारी रहेगी। अघोषित सम्पत्ति और नकदी पर व्यापारियों को नियमानुसार टैक्स देना होगा। 
 
 
आयकर विभाग के 350 अधिकारी अतिरिक्त आयकर निदेशक अन्वेषण ममता मीणा के नेतृत्व में पिछले चार दिनों से अजमेर निवासी मार्बल व्यवसायी घनश्याम सैनी और विजय सैनी और भगवती मशीन टूल्स प्राइवेट लिमिटेड के दिनेश शर्मा व यशवंत शर्मा के खिलाफ जांच कर रहे थे। जांच के दौरान  कारोबारियों के अजमेर स्थित निवास स्थानों के साथ ही किशनगढ़, सावर, सरवाड़, पुष्कर में उनके प्रतिष्ठानों, फर्मों, फैक्ट्रियों और रिसोर्ट पर जांच की जा रही है। सर्च की कार्रवाई सोमवार को समाप्त हो गई। अधिकारियों के अनुसार दो कारोबारियों ने अपने पास अघोषित सम्पत्ति की घोषणा की है। जिसकी कीमत लगभग 30 करोड़ रुपये है। साथ ही 17 करोड़ के करीब  नकदी और जेवरात मिले हैं। 
 
 
जांच जारी रहेगी
 
विभाग अब तक की जांच में मिले दस्तावेजों, कम्प्यूटर, लैपटॉप और मोबाइल फोन से मिली जानकारी का विश्लेषण कर रहा है। इन दस्तावेजों और इलैक्ट्रोनिक उपकरणों की जांच करते हुए अघोषित सम्पत्ति, निवेश, लेनदेन, हिस्सेदारी, देनदारी और अन्य प्रकार की आय और व्यय की जानकारी एकत्रित करते हुए अघोषित और आय से अधिक सम्पत्ति जुटाने की जांच की जाएगी। आवश्यकता पड़ने पर अन्य व्यक्तियों को जांच के लिए बुलाया अथवा उनके यहां सर्च की कार्रवाई की जा सकती है। 
 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

नकारा मिडी बसों से अब मिलेगा छुटकारा

राजस्थान रोडवेज प्रबंधन ने नकारा मिडी बसों को कंडम घोषित किए जाने के संबध में दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। इसके तहत अजमेर के दोनों आगार को आवंटित की गई बसों के बारे में अब अंतिम निर्णय लिया जा सकेगा

17/05/2019

आरपी सिंह और रिश्वत देने वाले को भेजा जेल, मुख्य दलाल रणजीत फिर रिमांड पर

एसीबी की टीम ने 2.20 लाख की रिश्वत मामले में गिरफ्तार एमडीएस यूनिवर्सिटी के निलम्बित कुलपति प्रो. आरपी सिंह, उनके निजी वाहन चालक रणजीत सिंह और रिश्वत देने के आरोपी नागौर जिला स्थित झुंझाला के इंजीनियर राहुल मिर्धा कॉलेज के प्रतिनिधि महिपाल सिंह की रिमांड अवधि पूरी होने पर गुरुवार को अदालत के समक्ष पेश किया, जहां से अदालत ने प्रो. सिंह और महिपाल को 24 सितम्बर तक के लिए जेल भेजने के आदेश दिए है।

11/09/2020

अजमेर में विरोध प्रदर्शन करेगा आक्रोशित गुर्जर समाज, सीएम के दौरे के मद्देनजर प्रशासन सक्रिय

एमबीसी आरक्षण में से मुस्लिमों को आरक्षण दिए जाने की राज्य सरकार की तैयारी से आक्रोशित गुर्जर समाज सोमवार को अजमेर में श्रीदेवसेना के बैनर तले कलेक्ट्रेट के बाहर प्रदर्शन करेगा।

17/11/2019

महिला और बच्चे की गला रेतकर निर्मम हत्या

खरवा-मसूदा के बीच ग्राम सारणिया के जंगल में सोमवार सुबह एक महिला और एक बच्चे की खून से सनी लाशें मिलने से सनसनी फैल गई। दोनों की चाकू से गला रेतकर हत्या की गई

24/02/2020

कांग्रेस सरकार ने जनता से किए गए वायदों में से अधिकतर 2 साल के शासन में पूरे किए: रघु शर्मा

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा है कि कांग्रेस सरकार ने चुनाव में जनता से किए गए वायदों में से अधिकतर सरकार के 2 साल के शासन में ही पूरे कर दिए हैं और शेष पर तेजी से काम चल रहा है। रघु शर्मा जिले के प्रभारी मंत्री लालचंद कटारिया के साथ अजमेर में पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे।

22/12/2020

मेयर धर्मेन्द्र गहलोत के खिलाफ न्यायिक जांच के आदेश

नगर निगम में 13 नक्शों के विवादित प्रकरण में अब नया मोड़ आ गया है। स्वायत्त शासन विभाग की प्रारम्भिक जांच में महापौर धर्मेन्द्र गहलोत को प्रथम दृष्टया दोषी मानने के बाद अब राज्य सरकार ने उनके विरुद्ध न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं।

05/11/2019

बरसाती पानी से भरे नाले में युवक का शव मिला

ग्राम चापानेरी में बुधवार को ऋषिकेष बाबा के स्थान से एक किलोमीटर दूर बरसाती पानी से भरे नाडे में युवक का शव मिलने से सनसनी फैल गई

16/10/2019