Dainik Navajyoti Logo
Friday 18th of June 2021
 
अजमेर

बिजयनगर में दामाद की हत्या मामला

Thursday, November 21, 2019 23:15 PM
ब्यावर। सजा के बाद अभियुक्तों को जेल ले जाती पुलिस।
 ब्यावर।    बिजयनगर में 7 सितम्बर 2004 को कृष्ण जन्माष्टमी पर ससुराल में दामाद को मिठाई में सेल्फोस खिलाकर हत्या करने के सनसनीखेज मामले में गुरुवार को अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश संख्या दो ममता गुप्ता ने फैसला सुनाते हुए पांचों अभियुक्तों को आजीवन कारावास की सजा से दंडित किया है। सभी पर 20-20 हजार रुपए जुर्माना लगाया गया है तथा अदम अदायगी 6 माह के कारावास की सजा भी सुनाई गई है। जिन लोगों को सजा सुनाई गई है उसमें मृतक की पत्नी सहित सास-ससुर एवं दो अन्य रिश्तेदार शामिल हैं। 
 
मसूदा क्षेत्र के रामगढ़ गांव निवासी ओमप्रकाश सोनी के पुत्र राजेन्द्र उर्फ राजू का विवाह मूलत: बरल द्वितीय हाल सथाना बाजार बिजयनगर निवासी कन्हैयालाल पुत्र मोतीलाल सोनी की पुत्री राधा उर्फ कांता से वर्ष 2004 में हुई थी। शादी के बाद से ही राधा का पति से मनमुटाव हो गया। काफी दिनों तक राधा अपने पिता के पास ही रही। इस बीच परिवार के सदस्यों ने समझाइश का प्रयास किया। इसके बाद सुनियोजित साजिश के तहत राधा के परिवार वालों ने राधा को ससुराल भेजने के बहाने दामाद राजेन्द्र को बिजयनगर बुलाया। जन्माष्टमी के दिन राजेन्द्र पत्नी राधा को लेने के लिए बिजयनगर पहुंचा। उसके साथ परिवार के कुछ और लोग भी थे। ससुराल वालों ने बाकी मेहमानों को नीचे कमरे में बिठा दिया और राजेन्द्र को खाना खाने के बहाने छत पर बने कमरे में बुलाया। राजेन्द्र ने जन्माष्टमी का व्रत होने का हवाला देकर खाना खाने से इंकार कर दिया तो उसे सेल्फोस मिली बर्फी खिलाई गई। मिठाई खाने के कुछ देर बाद ही राजेन्द्र की तबीयत खराब हो गई। उसे बिजयनगर अस्पताल ले जाया गया। जहां से हालत खराब होने के बाद उसे अजमेर रेफर कर दिया गया। बिजयनगर से निकलने के कुछ देर बाद ही ज्यादा हालत बिगड़ गई तो उसे वापस बिजयनगर अस्पताल लाया गया जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

पुसिल ने लगा दी थी एफआर
घटना के बाद मृतक राजेन्द्र के पिता ने बिजयनगर थाने में मामला दर्ज करवाया। लेकिन जांच के दौरान पुलिस ने मामले में एफआर लगा दी। पुलिस की एफआर को पीड़ित पक्ष ने अपने अधिवक्ता विनोद मिश्रा के जरिए चुनौती दी। मामला हाईकोर्ट तक गया। उसके बाद अभियुक्तों के खिलाफ प्रसंज्ञान लिया गया तथा मामला एडीजे संख्या 2 के यहां विचाराधीन हुुआ।
 
इन्हें सुनाई सजा
गुरुवार को न्यायाधीश गुप्ता ने दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद अपना फैसला सुनाते हुए अभियुक्त पत्नी राधा सहित उसके पिता कन्हैयालाल, मां दुर्गादेवी सहित बंशीलाल पुत्र लालचंद सोनी व सत्यनारायण पुत्र सूरजमल सोनी निवासी बरल द्वितीय को आजीवन कारावास की सजा से दंडित किया है। सभी पर 20-20 हजार रुपए जुर्माना भी लगाया गया है। जुर्माना अदा नहीं करने की स्थिति में 6 माह के अतिरिक्त कारावास की सजा भी सुनाई गई है। मामले में सरकार की ओर से पैरवी अपर लोक अभियोजक अनिल मिश्रा एवं पीड़ित पक्ष की ओर से विनोद मिश्रा ने की। 
 
ताला लगाकर हुए थे फरार
बताया गया है कि राजेन्द्र की मौत के तत्काल बाद ससुराल पक्ष अपने मकान पर ताला लगाकर फरार हो गया। यहां तक की पति की मौत की खबर मिलने के बाद भी पत्नी राधा ससुराल नहीं गई। न ही ससुराल पक्ष अंतिम संस्कार में शामिल हुआ। विसरा रिपोर्ट में सेल्फोस की पुष्टि सजा के आधार में अहम रही। 
 
 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

अजमेर में कोविड केयर सेंटर स्थापित करने के लिए 3 भवन चिन्हित, 500 मरीजों के लिए व्यवस्था

जिला मुख्यालय पर 3 नए कोविड केयर सेंटर स्थापित करने के लिए भवन चिन्हित कर लिए गए है। जिला कलेक्टर विश्व मोहन शर्मा ने बताया कि राज्य के मुख्यमंत्री के निर्देशों के अनुरूप कोविड-19 से निपटने के लिए 500 मरीजों के लिए व्यवस्था के निर्देश दिए गए थे, जिसकी अनुपालना में जिला प्रशासन ने 3 भवन चिन्हित किए हैं।

13/05/2020

वासुदेव देवनानी का राज्य सरकार पर निशाना, कहा- कोरोना कुप्रबंधन के कारण पूरे प्रदेश में मरीज परेशान

पूर्व शिक्षा मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता वासुदेव देवनानी ने शनिवार को एक बार फिर राज्य सरकार पर कोरोना कुप्रबंधन का आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्र से भेजे गए संसाधन और राज्य के अपने संसाधन का पूरा उपयोग नहीं हो रहा है, जिससे अजमेर ही नहीं पूरे प्रदेश में मरीज परेशान हैं।

15/05/2021

ब्यावर में 10 दिन से ठहरा विदेशी मेहमान, पुष्कर जाने की अनुमति मांगने तहसील पहुंचा

कोरोना संक्रमण की दहशत के बीच ब्यावर शहर में पिछले दस दिन से एक विदेशी मेहमान के शरण लिए होने का मामला सामने आया है। वह पिछले 8-10 दिन से अपने मित्र के यहां रह रहा था। मंगलवार शाम वह ब्यावर से पुष्कर जाने की स्वीकृति मांगने तहसील पहुंचा तो इसका खुलासा हुआ। तहसील में एकाएक विदेशी को देखते ही कार्मिकों में हड़कम्प मच गया।

31/03/2020

RPSC की प्राध्यापक भर्ती परीक्षा का कार्यक्रम जारी, अगले साल 3 से 13 जनवरी तक होंगे पेपर

आरपीएससी ने प्राध्यापक माध्यमिक शिक्षा) प्रतियोगी परीक्षा 2018 का कार्यक्रम जारी कर दिया है। प्रदेश के सभी संभागीय मुख्यालयों पर अब अगले साल 3 से 13 जनवरी तक परीक्षा आयोजित होगी।

31/10/2019

समाज में भेदभाव मिटने तक आरक्षण नहीं हटाया जा सकता : संघ

पुष्कर के माहेश्वरी सेवा सदन में आयोजित आरएसएस की तीन दिवसीय समन्वय बैठक का समापन सोमवार को हुआ। बैठक में खास तौर पर जल सीमा व थल सीमा की सुरक्षा व विकास पर गहनता से मंथन किया गया। राष्ट्र भक्त कार्यकर्ता तैयार करने की व्यूहरचना मेगा स्तर पर बनाई गई, वहीं सीमा पर आने वाले लोगों और खासकर युवाओं को जोड़ने के लिए सीमा पर ‘सलाम’ नाम से अभियान चलाया जाएगा।

09/09/2019

EWS को आरक्षण देने के लिए RPSC की सहायक आचार्य परीक्षा स्थगित, जल्द घोषित होगी नई तारीख

राजस्थान लोकसेवा आयोग ने आर्थिक रूप से कमजोर (ईडब्ल्यूएस) वर्ग के अभ्यर्थियों को आयु सीमा एवं आवेदन शुल्क का लाभ दिलाने के लिए प्रस्तावित सहायक आचार्य (कॉलेज शिक्षा विभाग) प्रतियोगी परीक्षा-2020 को स्थगित कर दिया है। आयोग की संयुक्त सचिव नीतू यादव ने बताया कि आयोग ने शनिवार को यह फैसला लिया।

27/03/2021

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां सोमवार को ब्यावर दौरे पर

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां सोमवार को अजमेर जिले के ब्यावर पहुंचेंगे और सेंदड़ा रोड स्थित मेलोडी गार्डन में कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करेंगे।

20/10/2019