Dainik Navajyoti Logo
Sunday 19th of September 2021
 
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपनी फिसलती जुबान या कह लें अपनी बदजुबानी की वजह से बुरे फंसे हैं। बीते मंगलवार को योगीजी कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद न्यूज एजेंसी को रूटीन बयान दे रहे थे। इस वीडियो में मुख्यमंत्री अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करते सुने गए। इस लाइव वीडियो के एक छोटे से क्लिप को पूर्व आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने अपने सोशल मीडिया पर ट्वीट किया था, जो कि काफी तेजी से वायरल हो गया।
तो अब मुल्क में अशोका विश्वविद्यालय के बरक्स अभिव्यक्ति की आजादी का सवाल जेरेबहस है। बहस के केन्द्र में जाने-माने राजनीतिक विश्लेषक प्रताप भानु मेहता और पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम का इस्तीफा है। हरियाणा के सोनीपत में स्थित यह विश्वविद्यालय इस हफ्ते तब विवादों में आया, जब बीते मंगलवार यानी 16 मार्च को जाने-माने राजनीतिक टिप्पणीकार प्रताप भानु मेहता ने अशोका यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर पद से इस्तीफा दे दिया।