Dainik Navajyoti Logo
Thursday 19th of September 2019
झुंझुनूं

रीको एरिया में फायरिंग मामले में दो गिरफ्तार

Monday, September 09, 2019 12:05 PM
कॉन्सेप्ट फोटो।

झुंझुनूं। झुंझुनूं में रीको एरिया स्थित लक्की इंश्योरेंस के सामने विकास सिगड़ पर 30 अगस्त को फायरिंग करने एवं उसके साथी संदीप बलौदा से 50 लाख रूपए की फिरौती के मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। एसपी गौरव यादव द्वारा वृताधिकारी झुंझुनूं शहर लोकेन्द्र दादरवाल के नेतृत्व मे थाना कोतवाली, थाना मलसीसर एवं एसपी ऑफिस साईबर सेल के पुलिस कर्मियों की गठित टीम ने शरीक तारिफ पुत्र आसिफ अली कायमखानी, निवासी वार्ड नं. 07 मलसीसर एवं रोहित पुत्र सुभाषचन्द्र जाति जाट निवासी पीपल का बास, थाना सदर झुंझुनूं को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से एक कार बरामद करने मे सफलता अर्जित की है।

मामले की जानकारी देते हुए शहर कोतवाल गोपाल सिंह ढाका ने बताया कि घटना का मास्टर माइंड संजय खिचड़ निवासी सैनिक नगर झुंझुनूं है, जो पूर्व मे संदीप बलौदा के साथ क्रिकेट सट्टे का लेनदेन करता था, आरोपी को इस बात की जानकारी थी कि संदीप बलौदा के पास काफी पैसे है। उन्होंने बताया कि संदीप बलौदा से पैसा ऐंठने की योजना संजय ने अपने साथियों के साथ मिलकर तैयार की। इसके अतिरिक्त 23 मई 2019 को संजय के भाई रविन्द्र के गुढ़ा स्थित कैफे पर की गई फायरिंग का बदला भी संजय लेना चाहता था।

शहर कोतवाल ने बताया कि तय योजना के अनुसार संजय खिचड़ ने अपने पंजाब के दोस्त चिमा को फायरिंग करने के लिए 30 अगस्त को जिले के ग्राम अलसीसर बुलाया तथा वहां पर अपने कैफे पर काम करने वाले रोहित को स्वीफ्ट गाड़ी देकर अलसीसर भेजा, जहां पर रोहित ने स्वीफ्ट गाड़ी की फर्जी नम्बर प्लेट आरजे 10 यूबी 1814 तैयार कर लगवाई एवं गाड़ी के शीशों पर काली फिल्म लगाकर चिमा के साथ झुंझुनूं आया, जहां पर एक अन्य गाड़ी मे संजय, अमरजीत निवासी हमीर खां का बास एंव तारिफ निवासी मलसीसर मिले। सभी लोग दोनों गाड़ियां लेकर किसान कॉलोनी के पास आ गए, जहां से एक वर्ना गाड़ी नम्बर आरजे 14 सी जेड 4155 ने अमरजीत व संजय दोनों ने घटना स्थल की रैकी की। इसके बाद संजय, अमरजीत एंव चिमा तीनों रिको एरिया में गए, जहां विकास सिगड़ पर फायर किया। फायरिंग के बाद आरोपी देरवाला होते हुए नवलगढ़ गए और वहां से मलसीसर होते हुए हरियाणा चले गए।

फायरिंग की घटना के बाद संदीप बलौदा को 50 लाख रूपए की फिरौती के लिए फोन करने लग गए। फोन पर बातचीत के दौरान अपराधियों ने अपने आप को लॉरेन्स बिश्नोई गैंग से सम्बन्धित होना बताया एवं सिक्योरिटी देने की एवज में पैसे की डिमाण्ड की। वारदात में शामिल संजय खिचड़, अमरजीत एंव चिमा की गिरफ्तारी के लिए टीम गठित की गई है, जिन्हें भी जल्दी ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। वहीं गिरफ्तार आरोपियों शरीक तारिफ व रोहित को कोर्ट में पेश कर अनुसंधान के लिए रिमांड पर लिया जाएगा।