Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 24th of September 2019
बारां

पात्र को मिले कल्याणकारी योजनाओं का लाभ

Tuesday, June 25, 2019 00:55 AM
प्रभारी सचिव शर्मा बैठक में संबोधित करते हुए।

बारां। जिले के प्रभारी सचिव राजेश शर्मा ने कहा कि अधिकारीगण प्रतिबद्धता से कार्य करते हुए लोक कल्याण की विभिन्न योजनाओं का समुचित लाभ पात्र एवं वंचित वर्ग को सुनिश्चित करें।

प्रभारी सचिव शर्मा मंगलवार को मिनी सचिवालय सभागार में आयोजित समीक्षा बैठक में अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अधिकारी ये सुनिश्चित करें कि महत्वपूर्ण विकास योजनाओं के लक्ष्य तय समयावधि में पूर्ण हो और उनका समुचित लाभ आमजन को प्राप्त हो सके। पेयजल परियोजनाओं के कार्य, ग्रामीण गौरव पथ व सड़कों के कार्य, अमृत योजना, कौशल विकास,भामाशाह सीडिंग, बाढ़ बचाओं प्रबंधन, मौसमी बीमारियों की रोकथाम, विद्यालयों में आईसीटी लेब की स्थापना, खरीफ की फ सल हेतु बीज की खाद की उपलब्धता, पशुओं के टीकाकरण, खसरा-रूबेला अभियान की तैयारी, स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री आवास योजना आदि से संबंधित कार्य व लक्ष्य की विभागवार समीक्षा की गई।

कलेक्टर इन्द्रसिंह राव ने बताया कि बारां जिला नीति आयोग द्वारा महत्वाकांक्षी जिले के रूप में चयनित है। जिसके तहत जिले को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, कृषि, महिला एवं बाल विकास, शिक्षा एवं ग्रामीण विकास से संबंधित कई इंडिकेटर्स पर प्रगति के सौपान तय करने हैं जिले की नीति आयोग द्वारा भी नियमित मॉनिटर किया जा रहा है। अत: संबंधित विभागों को संवेदनशील होकर प्रदत्त लक्ष्यों को पूर्ण करना चाहिए। बैठक में पीएचईडी प्रोजेक्ट के अधिकारियों ने बताया कि अमृत योजना के तहत 78 करोड़ रूपए स्वीकृत हैं। 

जिसके तहत 12 पेयजल टंकियां बनाई जानी थी। जिनमें से 10 तैयार हैं। इस योजना के तहत कार्य जारी है। सोनवां, अटरू-शेरगढ़, सायगढ़, नागदा-अन्ता-बलदेवपुरा, ल्हासी पेयजल परियोजना की रिपोर्ट भी प्रस्तुत की। जेवीवीएनएल के अधिकारियों ने बताया कि शहरी क्षेत्र में शटडाउन बंद कर दिया है एवं निर्बाध विद्युत अपूर्ति सुनिश्चित की जा रही है। आमापुरा एवं सेकुण्ड में 33 केवी के जीएसएस हेतु  भूमि का आवंटन नहीं हुआ है। कलक्टर राव ने एडीएम से सम्पर्क कर भूमि आवंटन संबंधी कार्य को शीघ्र पूर्ण कराने की बात कही। सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारियों ने जिले में सड़कों की स्थिति व कार्य की जानकारी दी। 
 
उन्होंने बताया कि झालावाड़ रोड तेल फेक्ट्री में आरओबी का कार्य आरएसआरडीसी द्वारा करवाया जा रहा है। गूगोर-जलवाड़-रामगढ़ में हाईलेवल ब्रिज का कार्य शीघ्र किया जाएगा। इस मौके पर एनएचएआई द्वारा नेशनल हाईवे पर सड़क निर्माण हेतु टेण्डर कार्य पूर्ण होने की जानकारी भी दी गई। जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि बारां फ्लड मीटिगेशन स्कीम के तहत काफ ी कार्य हुआ है। भूमि संबंधी प्रकरण न्यायालय में लंबित होने के कारण कार्य की प्रगति बाधित हुई है। बारां में बाढ़ के पानी के भराव की समस्या काफी कम हो गई है। 
 
सीएमएचओ डॉ. संपतराज नागर ने बताया कि बारां जिला राजकीय अस्पताल 300 बेड का है और जिले में 14 सीएचसी, 48 पीएचसी एवं 265 सब सेन्टर हैं। मौसमी बीमारियों की स्थिति नियंत्रण में है, अस्पतालों में दवाओं की पूर्ण उपलब्धता है। साथ ही उन्होंने समरानियां में पीएचसी की आवश्यकता बताते हुए कहा कि जिले में 12 सीएचसी पर गायनोकालोजिस्ट एवं शिशु रोग चिकित्सक नहीं हैं जिनकी नियुक्ति की जानी चाहिए। जिले में खसरा-रूबेला अभियान 22 जुलाई से प्रारंभ होगा।
 
एसीपी महेन्द्रपाल ने राजस्थान सम्पर्क पोर्टल पर दर्ज शिकायतों एवं निस्तारण के संबंध में जानकारी दी। श्रम विभाग के अधिकारी बताया कि जिले में 14 हजार 401 श्रमिक कार्ड पंजीयन से लंबित है एवं छात्रवृत्ति के 6 हजार 135 प्रकरण लंबित है उन्होंने स्टाफ की कमी के संबंध में भी जानकारी दी। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के राकेश कुमार ने बताया कि जिले में 36 राजकीय होस्टल है। 
 
पुलिस अधीक्षक केएल मीणा, एडीएम सुदर्शन सिंह तोमर, एडीएम शाहबाद हीरालाल वर्मा, उपखंड अधिकारी हीरालाल मीणा, कोषाधिकारी धीरज कुमार सोनी समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे। जिले के प्रभारी सचिव राजेश शर्मा ने समीक्षा बैठक के बाद में जिले में आगामी मानसून के दौरान आपदा एवं बाढ़ प्रबंधन के संबंध में संबंधित विभाग के अधिकारियों से चर्चा कर निर्देश दिए।