Dainik Navajyoti Logo
Saturday 15th of June 2019
राजस्थान

बोरवेल में गिरी बच्ची को निकालने के लिए 15 घंटे चला रेस्क्यू, नहीं बच सकी जान

Tuesday, May 21, 2019 01:00 AM

जोधपुर। निकटवर्ती मेलाना गांव के बोरवेल में गिरी बच्ची को जीवित नहीं निकाला जा सका। 15 घंटे की मशक्कत के बाद उसका शव ही बाहर निकाला जा सका । लापरवाही चार साल की बच्ची सीमा के जीवन को खा गई। परिजनों को जैसे ही बच्ची की मौत की खबर मिली तो घर में कोहराम मच गया। इधर प्रशासनिक स्तर पर बच्ची के परिजन को एक लाख की सहायता राशि देने आश्वासन दिया गया है। जिले के खेड़ापा के मेलाणा गांव में बोरवेल में गिरी चार वर्षीय बच्ची सीमा को बचाने के लिए चलाया गया रेस्क्यू आपरेशन सफल नहीं हो पाया। करीब 15 घंटे चले आपरेशन के बाद मंगलवार को बोरवेल से  बच्ची का शव बरामद हुआ है। परिजनों ने शव का पोस्टमार्टम करवाने से इनकार कर दिया है। बच्ची की मौत के बाद उसके पिता की तबीयत बिगड़ गई।


रात तक बैठे रहे विधायक गर्ग
घटना की जानकारी मिलने पर क्षेत्रीय विधायक पुखराज गर्ग भी जोधपुर से घटनास्थल पहुंच गए और उन्होंने मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारियों से वार्ता कर बच्ची को सकुशल बाहर निकालने के लिए जल्दी से जल्दी रेस्क्यू आपरेशन शुरू करने के निर्देश दिए। ब च्ची के बोरवेल में गिरने की सूचना मिलने पर मेलाणा सहित आसपास के गांव-ढाणियों से बड़ी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ भी मौके पर एकत्रित हो गई। देर रात तक यहां पहुंची 108 एंबुलेंस की मदद से बोरवेल में आॅक्सीजन छोड़ी जाती रही, ताकि बच्ची को जीवित बाहर निकाला जा सके,लेकिन प्रयास सफल नहीं हुए।


विधायक गर्ग ने बताया, कि पीड़ित परिवार को मुख्यमंत्री सहायता कोष से एक लाख रुपए की आर्थिक मदद की घोषणा की गई है। सनद रहे कि खेड़ापा के मेलाणा गांव में सोमवार शाम को किसान पूनाराम जाट की चार वर्षीय बच्ची सीमा खेलते-खेलते करीब 400 फीट गहरे खुले बोरवेल में गिर गई थी। इस घटना की जानकारी उच्च स्तर पर पहुंचने के बाद सिविल डिफेंस, एसडीआरएफ, एनडीआरएफ और पुलिस ने मौके पर पहुंचकर रेस्क्यू आपरेशन शुरू किया। बच्ची में बोरवेल में 230 फीट नीचे फंसी हुई थी।


दस से  ज्यादा जेसीबी लगाई खुदाई में
करीबन एक दर्जन जेसीबी से बोरवेल के पास खुदाई का काम शुरू किया गया। पूरी रात रेस्क्यू टीम ने बच्ची को बचाने के लिए आपरेशन चलाया। इस दौरान गांव के लोग भी मौके पर डटे रहे। देर रात जिला कलक्टर भी मौके पर पहुंचे लेकिन करीब 15 घंटे तक चले इस रेस्क्यू आपरेशन के बावजूद ब च्ची को बचाया नहीं जा सका। मंगलवार सुबह करीब 8.15 बजे सीमा का शव निकाला जा सका।