Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 24th of September 2019
जयपुर

ऑनलाइन बुकिंग के बाद नहीं मिला गिफ्ट

Sunday, August 25, 2019 11:05 AM
कॉन्सेप्ट फोटो

जयपुर। शहर में ऑनलाइन खरीदारी करते समय सतर्कता में थोड़ी सी चूक लोगों के लिए बड़ी मुसीबत बन रही है। ठग लोगों को बातों में उलझाकर लाखों रुपए ऑनलाइन हड़प रहे हैं। शातिर ठग पहले तो लोगों को अपनी बातों में फंसाकर उनके खाते से रुपए निकाल लेते हैं। जब पीड़ित रुपए वापस मांगते हैं तो उनसे अभद्रता की जाती है। कुछ को तो धमकी दी जाती है। उसके बाद फोन काट दिया जाता है। पुलिस ठगों को पकड़ने का दावा करती है, लेकिन सारे दावे फेल हो जाते हैं।

गिफ्ट का लालच देकर निकाले रुपए
सांगानेर इलाके में मंगल विहार आरके पुरम निवासी फूलचंद ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि 12 जुलाई को उसके पास जान्हवी नाम की युवती का फोन आया। उसने कहा कि हमारी कंपनी डीलमार्ट अलग-अलग शहरों में प्रमोशन कर रही है। हर शहर से दस लोगों को चुना जा रहा हैं, जिसका भी चयन होगा उसे ईनाम दिया जाएगा। इसके लिए आपको 1499 रुपए का रजिस्टेÑशन करवाना होगा, जिसमें एक कंपनी का किट मिलेगा। वह झांसे में आ गया और आॅनलाइन पैमेंट एप पर 1499 रुपए डाल दिए। उसके बाद वापस फोन आया और उसने कहा कि आपका चयन हो गया है।

आपकी इंफील्ड बुलेट निकली है। यदि आपको बाइक लेनी है तो दस हजार रुपए स्केनिंग अमाउंट देना होगा। इसके आगे झांसा दिया कि आप बाइक लेना चाहते हैं या फिर बाइक की कीमत 1.84 लाख रुपए लेना चाहते हैं। उसने नकद के लिए हां कर दी और दस हजार रुपए जमा करवा दिए। ऐसा कर ठगों ने कुल 27256 रुपए जमा करवा लिए। जब ठग बार-बार रुपए मांगने लगे तो उसे शक हुआ और उसने जमा कराए गए रुपए वापस मांगे, इस पर ठग ने कहा कि कहा कि तुझे जो करना है कर ले, रुपए नहीं मिलेंगे।

जर्मनी में निकले रुपए
बजाज नगर इलाके के जय अंबे नगर निवासी कमलकांत त्यागी ने रिपोर्ट दी है कि उसने इंडसइंड बैंक से नया क्रेडिट कार्ड लिया था। सात अगस्त को पीड़ित के पास कार्ड पहुंचा और 9 अगस्त को जर्मनी से 4500 यूएस डॉलर यानी 3.30 लाख रुपए निकलने का मैसेज आया। बैंक ने फोन कर इसकी जानकारी दी।

300 रुपए की शर्ट के लिए 10 हजार गंवाए
जवाहर नगर थाना इलाके में बेगुसराय बिहार हाल जवाहर नगर सेक्टर पांच निवासी प्रदीप ने रिपोर्ट दी है कि उसने आॅनलाइन 300 रुपए की शर्ट खरीदी थी। 21 अगस्त को शर्ट घर पहुंच गई, लेकिन वह साइज में बड़ी थी, इस कारण पीड़ित ने शर्ट वापस कर दी। जमा कराए 300 रुपए वापस लेने के लिए गूगल से कस्टमर केयर का नंबर सर्च कर फोन किया। कस्टमर केयर प्रतिनिधि ने पीड़ित से एटीएम कार्ड की जानकारी मांगी। पीड़ित ने डिटेल दे दी, कुछ ही देर में खाते से 10 हजार रुपए कट गए।

जूते मंगाए, खाली डिब्बा आया
शिव गोरक्ष नगर मॉडल टाउन निवासी ने रिपोर्ट दी है कि उसने आॅनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से 1049 रुपए के जूते मंगवाए थे। पीड़ित के घर डिलीवरी पहुंची, लेकिन जब उसने डिब्बा चैक किया तो वह खाली निकला। इस पर डिब्बा डिलीवरी मैन को वापस देने का प्रयास किया पर वह मना करके चला गया। कुछ समय बाद ही वेबसाइट प्रतिनिधि का फोन आया और उसने रुपए रिफंड करने का झांसा देकर पीड़ित के मोबाइल पर लिंक भेजा। पीड़ित ने जैसे ही लिंक को ओपन किया तो खाते से 25 हजार रुपए निकल गए। जब रुपए निकलने का मैसेज आया तब ठगी का पता चला।