Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 24th of September 2019
जयपुर

मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पहलू खान मामले में एसआईटी का गठन

Friday, August 16, 2019 15:20 PM
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फाइल फोटो)

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पहलू खान प्रकरण में हाल ही में आए कोर्ट के फैसले को लेकर सीएमओ में उच्च अधिकारियों के साथ विस्तार से चर्चा की। प्रकरण के घटनाक्रम और अनुसंधान में रही कमियों पर चर्चा की। बैठक में फैसला किया गया कि अधीनस्थ न्यायालय के निर्णय पर अपील की जाए जिसमें एक वरिष्ठ अधिवक्ता की सेवाएं ली जाएंगी।

संपूर्ण प्रकरण की जांच के लिए एडीजी क्राइम बीएल सोनी की निगरानी में स्पेशनल इंवेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) का गठन किया जाएगा। यह एसआईटी 15 दिन में अपनी रिपोर्ट पेश करेगी। टीम अनुसंधान में रही कमियों और अनियमितताओं को चिन्ह्ति कर अधिकारियों की जिम्मेदारी तय करेगा। यह एसआईटी ऐसे महत्वपूर्ण मौखिक एवं
दस्तावेजी साक्ष्यों को भी इकट्ठा करेगी जो प्रकरण में एकत्रित नहीं किए गए थे। इस एसआईटी का नेतृत्व उपमहानिरीक्षक एसओजी नितिन दीप बलगन करेंगे तथा इनके साथ एसपी सीआईडीबी सीबी समीर कुमार सिंह, एएसपी विजलेंस समीर दुबे टीम में शामिल होंगे। समीक्षा के दौरान एसीएस राजीव स्वरूप, डीजी भूपेन्द्र सिंह, प्रमुख शासन सचिव विधि महावीर प्रसाद शर्मा, एडीजी क्राइम बीएल सोनी मौजूद थे।

सियासत गरमाई, दिनभर मंथनों का दौर
अलवर के पहलु खान मामले में बसपा सुप्रीमो मायावती और कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के ट्वीट के बाद  प्रदेश में इस मामले को लेकर सियासत गरमाई। मामले को लेकर दिनभर बैठकों का दौर चलता रहा। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गृह और पुलिस अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था को लेकर मीटिंग की।  राज्य के बसपा विधायकों ने मुख्यमंत्री और डीजीपी से मुलाकात की। विधायक राजेंद्र गुढ़ा ने कहा कि पूरे देश में अशोक गहलोत जैसा मुख्यमंत्री नहीं है और गहलोत के राज में कभी दलितों से साथ अन्याय नहीं हो सकता। मायावती के आरोपों को लेकर गुढा ने कहा कि मायावती को मामले की जानकारी ही नहीं है, उनको किसी ने गलत जानकारी दी है। शायद मायावती पिछले भाजपा सरकार की बात कर रही है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर मीटिंग की।