Dainik Navajyoti Logo
Monday 14th of October 2019
दुनिया

अमेरिका के कहने पर पाकिस्तानी सेना और ISI ने आतंकियों को ट्रेनिंग दी: इमरान खान

Tuesday, September 24, 2019 12:45 PM
पाक पीएम इमरान खान का आतंकवाद पर बड़ा कबूलनामा।

न्यूयॉर्क। संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में भाग लेने पहुंचे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मंगलवार को विदेश मामलों की परिषद (सीएफआर) की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि अमेरिका के नेतृत्व में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में शामिल होना उनके देश की इतिहास की सबसे बड़ी गलती थी। उन्होंने कहा कि अगर अमेरिका पिछले 19 सालों से अफगानिस्तान में असफल रहा तो यह पूरी संभावना है कि यह अगले 19 सालों में शायद ही विजयी होगा।

इमरान ने कहा कि अमेरिका के कहने पर पाकिस्तान ने अलकायदा को ट्रेनिंग दी। उन्होंने कहा कि 9/11 आतंकी हमले पर पाकिस्तान ने अमेरिका का विश्वास किया, उन्होंने कहा कि हमारी गलती थी कि 9/11 के बाद अफगानिस्तान के साथ लड़ाई में हमने अमेरिका का साथ दिया।

पाकिस्तान के पीएम ने कहा कि अमेरिका के कहने पर सोवियत के खिलाफ जिहाद करने के लिए पाकिस्तानी सेना और ISI ने आतंकियों को ट्रेनिंग दी, जो बाद में अलकायदा बना। सोवियत और अमेरिका ने अफगानिस्तान छोड़ दिया लेकिन आतंकी संगठन पाकिस्तान में ही रहे, जिसका नुकसान हम उठा रहे हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक जम्मू-कश्मीर की मौजूदा स्थिति के बारे में चर्चा करते हुए इमरान खान ने कहा कि विश्व समुदाय को कश्मीर घाटी में कर्फ्यू हटाने के लिए भारत को कहना चाहिए। उन्होंने कहा कि एफएटीएफ द्वारा पाकिस्तान को काली सूची में डालने की कोशिशों के कारण भारत के नापाक इरादे स्पष्ट हो चुके हैं। इमरान ने कहा कि पिछली सरकारें आर्थिक संकट का हल खोजने में विफल रहीं, जिसके कारण मौजूदा सरकार को अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) पर निर्भर रहना पड़ा। उन्होंने कहा कि चीन, सऊदी अरब एवं संयुक्त अरब अमीरात ने संकट के समय विशेष रूप से अर्थव्यवस्था में सुधार करने में पाकिस्तान की मदद की।


इमरान खान ने कहा कि जब उनकी पार्टी सत्ता में आई थी, तब देश की आर्थिक स्थिति काफी खराब थी और चीन मदद करने वाला पहला देश था। उन्होंने कहा कि पड़ोसी अफगानिस्तान से रूस (पूर्व सोवियत संघ) की वापसी के बाद अमेरिका ने पाकिस्तान को अकेला छोड़ दिया था। उन्होंने कहा कि 9/11 के बाद अमेरिका को फिर से पाकिस्तान की मदद की जरूरत महसूस हुई।

सीएफआर में इमरान खान ने माना है कि खूंखार आतंकी संगठन अल कायदा की ट्रेनिंग उनके ही देश में हुई थी। ओसामा बिन लादेन के नेतृत्व वाले आतंकवादी संगठन अल कायदा ने ही 9/11 जैसी भयावह आतकंवादी वारदात को अंजाम दिया था। इमरान ने कहा कि 11 सितंबर, 2001 को अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमले से पहले अलकायदा के आतंकवादियों को पाकिस्तानी आर्मी और आईएसआई ने ट्रेनिंग दी थी। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की सरकार ने 9/11 की विनाशकारी वारदात के बाद उन आतंकी समूहों के प्रति अपनी नीति बदल ली, लेकिन पाकिस्तानी आर्मी बदलना नहीं चाहती थी।