Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 16th of October 2019
खास खबरें

अब बायोलॉजिकल पार्क में भी हाथी सफारी

Thursday, July 04, 2019 11:35 AM

जयपुर। गुलाबी नगरी आने वाले देशी-विदेशी पर्यटकों को में हाथी सफारी का क्रेज देखा जा सकता है। आमेर महल में पर्यटक लाइन में लगकर हाथी सफारी में अपने नम्बर आने का इंतजार करते देखे जा सकते हैं। वहीं हाथी गांव में भी देशी-विदेशी पर्यटक एलिफेंट सफारी का लुत्फ उठा रहे हैं।

यहां पर्यटकों को एक निश्चित रूट पर सफारी करवाई जाती है। हाथी सफारी के प्रति पर्यटकों के क्रेज को देखते हुए अब नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क में भी पर्यटकों के लिए हाथी सफारी की व्यवस्था शुरू कर दी गई है। पार्क में एक निश्चित क्षेत्र में पर्यटकों को सफारी करवाई जाएगी।

एंट्री गेट से होगी शुरूआत
नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार पार्क के प्रवेश द्वार से लेकर रेस्क्यू सेंटर के पीछे होते हुए एक रूट बनाया गया है, जहां पर्यटकों को हाथी सफारी करवाई जाएगी। आधे घंटे की राइड में पर्यटक हरियाली के बीच सफारी का लुत्फ उठा सकेंगे।

सफारी के दौरान साढ़े तीन हजार रुपए शुल्क देकर दो पर्यटक सफारी कर सकेंगे। यहां दो पारियों में इसे शुरू किया गया है। पहली पारी सुबह 8.30 से 11 बजे और दूसरी पारी में अपरान्ह 3 से शाम 5.30 बजे तक सफारी करवाई जाएगी। जानकारी के अनुसार हाथीगांव से लाए जाने वाले हाथियों के लिए बायोलॉजिकल पार्क में टिनशेड की व्यवस्था की गई है, जिससे हाथी वहां आराम भी कर सकें। प्रवेश द्वार के पास ही हाथी स्टेण्ड हैं, जहां से पर्यटकों की सफारी शुरू होगी।

एक शहर कई सफारी
गुलाबी नगरी आने वाले पर्यटकों के लिए सफारी के कई विकल्प हैं। वे अपनी पसंद के अनुसार सफारी का लुत्फ उठा सकते हैं। यहां पर्यटकों के पास झालाना स्थित लेपर्ड सफारी, आमेर महल और हाथीगांव में एलिफेंट सफारी, नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क में प्रदेश की पहली लॉयन सफारी के आॅप्शन्स हैं। कहा जाए तो एक शहर में पर्यटक कई सफारी का आनन्द उठा सकते हैं। इसके अतिरिक्त बायोलॉजिलक पार्क में ही जल्द ही टाइगर सफारी भी शुरू की जाएगी। पर्यटन सीजन आते ही बायोलॉजिकल पार्क में हाथी सफारी के प्रति पर्यटकों का आकर्षण बढ़ेगा।

नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क में पर्यटकों के लिए हाथी सफारी की व्यवस्था कर दी गई है। पर्यटक यहां निर्धारित शुल्क अदा कर सफारी का लुत्फ उठा सकेंगे।
- जगदीश गुप्ता, एसीएफ, नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क